उत्तर प्रदेश बीएड जेईई परीक्षा

उत्तर प्रदेश बीएड जेईई परीक्षा अंकन योजना, पैटर्न और पाठ्यक्रम

उत्तर प्रदेश बीएड जेईई (Uttar Pradesh B.Ed JEE) जो उत्तर प्रदेश राज्य के विभिन्न कॉलेजों में बैचलर ऑफ एजुकेशन (बी.एड) पाठ्यक्रम में योग्य उम्मीदवारों को प्रवेश प्रदान करने के लिए आयोजित की जाती है| प्रवेश परीक्षा के लिए स्नातक / मास्टर डिग्री वाले उम्मीदवार आवेदन करने और उपस्थित होने के पात्र हैं| यह एक राज्य-स्तरीय परीक्षण है| परीक्षण में उम्मीदवारों के प्रदर्शन के आधार पर, उन्हें परामर्श प्रक्रिया में भाग लेने के लिए आमंत्रित किया जाता है|

परीक्षा में अच्छा स्कोर करने के लिए उम्मीदवारों के पास उत्तर प्रदेश बीएड जेईई परीक्षा पैटर्न और पाठ्यक्रम का पर्याप्त ज्ञान होना आवश्यक है| परीक्षा पैटर्न और पाठ्यक्रम का अच्छा और स्पष्ट ज्ञान होने से प्रवेश परीक्षा की तैयारी में मदद मिलती है| उत्तर प्रदेश बीएड जेईई के इच्छुक उम्मीदवार अपनी तैयारी के लिए निचे परीक्षा की अंकन योजना, पैटर्न और पाठ्यक्रम को जान सकते है|

यह भी पढ़ें- सीपीएनईटी परीक्षा पात्रता मानदंड, आवेदन, प्रवेश पत्र, सिलेबस और परिणाम

अंकन योजना और पैटर्न

1. उत्तर प्रदेश बीएड जेईई परीक्षा में 2 परीक्षा पत्र शामिल होंगे| पेपर- I में 2 भाग होते हैं, अ सामान्य ज्ञान (अनिवार्य) और ब भाषा, पेपर- II में भी 2 भाग होते हैं जो अ सामान्य ज्ञान और ब विषय की योग्यता है|

2. प्रत्येक खंड से कुल 50 वस्तुनिष्ठ प्रकार के प्रश्न पूछे जाएंगे|

3. प्रत्येक प्रश्न सही उत्तर के लिए 2 अंक देता है|

4. हर गलत उत्तर के लिए 1/3 अंक काटे जाएंगे|

5. पेपर- I का भाग ब आवेदक के चयन के अनुसार भाषा या तो हिंदी या अंग्रेजी के बारे में है|

6. पेपर- II का भाग ब सब्जेक्ट एबिलिटी से संबंधित है| आवेदकों द्वारा कला, विज्ञान और वाणिज्य जैसे विषय का चयन किया जाता है|

7. उत्तर प्रदेश बीएड जेईई परीक्षा का पाठ्यक्रम 10 + 2 + 3 अध्ययन सामग्री पर आधारित है|

8. परीक्षा पेपर- I में कुल 100 प्रश्न होंगे| भाग अ के लिए 50 प्रश्न और भाग ब के लिए 50 प्रश्न|

यह भी पढ़ें- यूपीसीएटीईटी परीक्षा पात्रता मानदंड, आवेदन, प्रवेश पत्र, सिलेबस और परिणाम

9. भाग अ में जनरल नॉलेज के बारे में सवाल पूछे जाएंगे जिसमें इतिहास, भूगोल, राजनीति, करंट अफेयर, स्पोर्ट्स आदि जैसे कई विषय शामिल होंगे|

10. भाग ब में भाषा कौशल का परीक्षण करने के लिए प्रश्न पूछे जाते हैं| आवेदक हिंदी या अंग्रेजी किसी भी भाषा को चुन सकता है|

11. सामान्य विषयों को दोनों भाषाओं में कवर किया जाएगा: अंग्रेजी में अनुच्छेद, तनाव सटीकता, पर्यायवाची / विलोम, मुहावरे और वाक्यांश, शब्दावली वृद्धि आदि और हिंदी में: व्याकरण (ग्रामर); उपसर्ग / प्रत्यय, गद्यांश (परिच्छेद), संधि / समास (2 या अधिक शब्दों को मिलाकर शब्द बनाना)|

12. परीक्षा पेपर- II में कुल 100 प्रश्न होंगे| भाग अ के लिए 50 प्रश्न और भाग ब के लिए 50 प्रश्न|

13. भाग अ में जनरल एप्टीट्यूड से प्रश्न पूछे जाएंगे जिसमें विभिन्न विषयों जैसे तर्क और विश्लेषण, कोडिंग और डिकोडिंग, पहेली, संख्या प्रणाली और प्रतीक श्रृंखला, समय और दूरी, ब्याज गणना, लाभ और हानि आदि शामिल होंगे|

14. भाग ब में प्रश्नों का उद्देश्य विषय योग्यता का परीक्षण करना होता है जैसा कि आवेदक द्वारा चुना जाता है|

15. विषय 11 वीं, 12 वीं और स्नातक पाठ्यक्रम पर आधारित हैं| तो यह काफी विशाल पाठ्यक्रम बनता है|

यह भी पढ़ें- यूपी पशु चिकित्सा प्रवेश परीक्षा प्रक्रिया, आवेदन और पात्रता मानदंड

16. उत्तर प्रदेश बीएड जेईई परीक्षा में 2 पेपर होंगे 2 सेक्शन होंगे, और प्रत्येक पेपर में जैसा कि निचे विवरण में दिखाया गया है, जैसे-

भाग  विषय  प्रश्न संख्या  अंक  समय अवधि  अनिवार्य / वैकल्पिक परीक्षा
प्रश्न-पत्र- I
सामान्य ज्ञान 50 100 3 घंटे सभी आवेदकों के लिए अनिवार्य
भाषा- (हिंदी या अंग्रेजी) 50 100 हिंदी या अंग्रेजी चुनने का विकल्प
प्रश्न-पत्र- II
सामान्य योग्यता 50 100 3 घंटे सभी आवेदकों के लिए अनिवार्य
विषय क्षमता 50 100 विषय (कला, वाणिज्य, विज्ञान और कृषि आदि) चुनने का विकल्प
कुल 200 400 6 घंटे —–

यह भी पढ़ें- जेईईसीयूपी परीक्षा पात्रता मानदंड, आवेदन, प्रवेश पत्र, सिलेबस और परिणाम

परीक्षा पाठ्यक्रम

उत्तर प्रदेश बीएड जेईई के लिए पाठ्यक्रम 10 + 2 + 3 अकादमिक अध्ययन विषयों और सामग्री पर आधारित है| सामान्य ज्ञान और सामान्य योग्यता के लिए पाठ्यक्रम भी उतना कठिन नहीं है, लेकिन यह लंबा है| हिंदी या अंग्रेजी के लिए भाषा कौशल हिंदी और अंग्रेजी अनिवार्य विषयों के 10 + 2 मानक पर आधारित है| संदर्भ के लिए अनुभाग-वार विषयों का उल्लेख निम्नलिखित है, जैसे-

परीक्षा प्रश्न-पत्र- I

भाग अ- सामान्य ज्ञान (General Knowledge)-

इतिहास

खेल

राजनीति

भूगोल

सामान्य विज्ञान

सामयिकी

राज्य की संस्कृति और कला|

भाग ब- अंग्रेजी (English)-

समझबूझ कर पढ़ना

काल त्रुटि

रिक्त स्थान भरें (काल से संबंधित, शब्दावली आदि)

शब्दावली

पर्यायवाची विपरीतार्थक

एक शब्द निर्माण (एक शब्द में संक्षेप वाक्य)

त्रुटि सुधार (वाक्य – अनुच्छेद, काल, वर्तनी आदि से संबंधित)|

यह भी पढ़ें- यूपीएसईई परीक्षा पात्रता मानदंड, आवेदन, प्रवेश पत्र, सिलेबस और परिणाम

भाग स- हिंदी (Hindi)-

व्याकरण (ग्रामर)

उपसर्ग / प्रत्यय

गद्यवंश (अनुच्छेद)

संधि / समास (2 या अधिक शब्द मिलाने वाले शब्द के साथ)

पर्यायवाची / विपरीतार्थक शब्द ​​(समान / विपरीत)

रस / छंद / अलंकार (छंद, आलंकारिक, भावनाएँ (प्रेम / भक्ति))

मुहावरे और लोकोक्तियाँ / कहवाते (मुहावरे / वाक्यांश / कहावतें)|

यह भी पढ़ें- उत्तर प्रदेश राज्य प्रवेश परीक्षा अंकन योजना, पैटर्न और पाठ्यक्रम

परीक्षा प्रश्न-पत्र- II

भाग अ- सामान्य योग्यता (General Aptitude)

सोचने की क्षमता

कोडिंग / डिकोडिंग

पहेली, दिशा

श्रृंखला समापन

घन और रस

वर्गीकरण, संबंधों

अनुक्रमण (चित्र / शब्द)

लापता छवि / शब्द / चरित्र

समय और दूरी

संख्या, प्रतिशत, औसत

चक्रवृद्धि ब्याज / साधारण ब्याज

लाभ और हानि

अनुपात और समानुपात|

यह भी पढ़ें- उत्तर प्रदेश राज्य प्रवेश परीक्षा आयु सीमा और शैक्षणिक योग्यता

भाग ब- चयनित विषय (कला, वाणिज्य, विज्ञान और कृषि)-

विषय कक्षा 11 वीं 12 वीं और स्नातक के पाठ्यक्रम से होंगे| उदाहरण के लिए कॉमर्स को संदर्भ के उद्देश्य से दिया जा रहा है|

भाग स- वाणिज्य (Commerce)-

बुक कीपिंग एंड अकाउंटिंग

लेखा परीक्षा

व्यावसायिक संगठन

आंतरिक और विदेश व्यापार

शेयर बाजार

धन और बैंकिंग

बीमा के सिद्धांत

कार्यालय प्रबंधन

कंपनी सचिव और सचिवीय अभ्यास

प्रबंधन के कार्य

भारत में आर्थिक विकास और योजना

आंकड़े

सार्वजनिक वित्त

मर्केंटाइल लॉ

आयकर|

यह भी पढ़ें- यूपीटीईटी परीक्षा (UPTET Exam) योग्यता, आवेदन, सिलेबस, पैटर्न, परिणाम

यदि उपरोक्त जानकारी से हमारे प्रिय पाठक संतुष्ट है, तो लेख को अपने Social Media पर LikeShare जरुर करें और अन्य अच्छी जानकारियों के लिए आप हमारे साथ Social Media द्वारा Facebook Page को Like, TwitterGoogle+ को Follow और YouTube Channel को Subscribe कर के जुड़ सकते है|

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *