लुपस (Lupus)

लुपस (Lupus) होने के लक्षण, कारण, निदान, जोखिम और उपचार

लुपस (Lupus) एक प्रणालीगत ऑटोम्यून्यून बीमारी है, जो तब होती है, जब आपके शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली आपके ऊतकों और अंगों पर हमला करती है| लुपस (Lupus) के कारण होने वाली सूजन कई जोड़ों को प्रभावित कर सकती है, जिसमें आपके जोड़, त्वचा, गुर्दे, रक्त कोशिकाएं, मस्तिष्क, दिल और फेफड़े शामिल हैं|

लुपस (Lupus) का निदान करना मुश्किल हो सकता है, क्योंकि इसके लक्षण अक्सर अन्य बीमारियों की नकल करते हैं| लुपस (Lupus) का सबसे विशिष्ट संकेत, एक चेहरे की धड़कन जो दोनों गालों में प्रकट होने वाली तितली के पंख जैसा दिखता है, कई में होता है, लेकिन लुपस के सभी मामलों में नहीं होता है|

कुछ लोग लुपस (Lupus) विकसित करने की प्रवृत्ति के साथ पैदा हुए हैं, जो संक्रमण, कुछ दवाओं या यहां तक कि सूरज की रोशनी से ट्रिगर हो सकते हैं| हालांकि लुपस के लिए कोई इलाज नहीं है, उपचार लक्षणों को नियंत्रित करने में मदद कर सकते हैं|

यह भी पढ़ें- पेम्फिगस होने के लक्षण, कारण, निदान और उपचार

लूपस के लक्षण

लूपस के दो मामले बिल्कुल समान होते है| संकेत और लक्षण अचानक आ सकते हैं, या धीरे-धीरे विकसित हो सकते हैं, हल्के या गंभीर हो सकते हैं, और अस्थायी या स्थायी हो सकते हैं| लुपस वाले अधिकांश लोगों में एपिसोड द्वारा विशेषता हल्की बीमारी होती है, जिसे फ्लेरेस कहा जाता है| जब संकेत और लक्षण थोड़ी देर के लिए बदतर हो जाते हैं, तो एक समय के लिए पूरी तरह से सुधार या गायब हो जाते हैं|

आपके द्वारा अनुभव किए गए लुपस (Lupus) के लक्षण इस बात पर निर्भर करेंगे कि बीमारी से कौन से शरीर तंत्र प्रभावित होते हैं| सबसे आम लक्षण और लक्षणों में शामिल हैं, जैसे-

1. थकान

2. बुखार

3. संयुक्त दर्द, कठोरता और सूजन

4. चेहरे पर तितली के आकार का दांत जो शरीर पर कहीं और नाक या चकत्ते के गाल और पुल को ढकता है|

5. त्वचा के घाव जो सूर्य के संपर्क में दिखाई देते हैं या खराब होते हैं (प्रकाश संवेदनशीलता)|

6. फिंगर्स और पैर की उंगलियों जो ठंड या तनावपूर्ण अवधि के दौरान सफेद या नीले रंग के होते हैं (रेनॉड की घटना)

7. साँसों की कमी

8. छाती में दर्द

9. सूखी आंखें

10. सिरदर्द, भ्रम और स्मृति हानि|

यह भी पढ़ें- वैरिकाज़ नसों के लक्षण, कारण, निदान और उपचार

लुपस के कारण

लुपस तब होता है, जब आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली आपके शरीर में स्वस्थ ऊतक पर हमला करती है (ऑटोम्यून्यून रोग)| यह संभावना है, कि आपके आनुवंशिकी और आपके पर्यावरण के संयोजन से लुपस परिणाम|

ऐसा प्रतीत होता है, कि लुपस के लिए विरासत में रहने वाले लोगों को रोग विकसित हो सकता है, जब वे पर्यावरण में कुछ ऐसा संपर्क करते हैं, जो लुपस (Lupus) को ट्रिगर कर सकता है| हालांकि, ज्यादातर मामलों में लुपस का कारण अज्ञात है| कुछ संभावित ट्रिगर्स में शामिल हैं, जैसे-

सूरज की रोशनी- सूरज का एक्सपोजर लुपस त्वचा घावों को ला सकता है, या संवेदनशील लोगों में आंतरिक प्रतिक्रिया को ट्रिगर कर सकता है|

संक्रमण- संक्रमण होने से ल्यूपस शुरू हो सकता है, या कुछ लोगों में एक विश्राम हो सकता है|

दवाएं- लुपस कुछ प्रकार के ब्लड प्रेशर दवाओं, एंटी-जब्त दवाओं और एंटीबायोटिक्स द्वारा ट्रिगर किया जा सकता है| जब लोग दवा लेने से रोकते हैं, तो आमतौर पर दवा-प्रेरित लुपस होते हैं| शायद ही, दवा बंद होने के बाद भी लक्षण जारी रह सकते हैं|

चिकित्सक से सलाह कब ले

यदि आप एक अस्पष्ट दांत, चल रहे बुखार, लगातार दर्द और थकान विकसित करते हैं, तो चिकित्सक से सलाह ले|

यह भी पढ़ें- लाल बुखार होने के लक्षण, कारण, निदान और उपचार

जोखिम (Risk Factors)

लुपस (Lupus) के आपके जोखिम में वृद्धि करने वाले कारकों में शामिल हैं, जैसे-

आपका सेक्स- ल्यूपस महिलाओं में अधिक आम है|

उम्र- हालांकि लुपस सभी उम्र के लोगों को प्रभावित करता है, लेकिन अक्सर 15 से 45 वर्ष की उम्र के बीच निदान किया जाता है|

रेस- लुपस एशियाई, अफ्रीकी-और अमेरिका में अधिक आम है|

जटिलताएं (Complications)

लुपस के कारण होने वाली सूजन आपके शरीर के कई क्षेत्रों को प्रभावित कर सकती है, जिसमें आपका शामिल है, जैसे-

गुर्दे- लुपस (Lupus) गंभीर गुर्दे की क्षति का कारण बन सकता है, और ल्यूपस वाले लोगों में गुर्दे की विफलता मौत के प्रमुख कारणों में से एक है|

मस्तिष्क और केंद्रीय तंत्रिका तंत्र यदि आपका दिमाग लुपस से प्रभावित होता है, तो आप सिरदर्द, चक्कर आना, व्यवहार में परिवर्तन, दृष्टि की समस्याएं, और यहां तक ​​कि स्ट्रोक या दौरे का अनुभव कर सकते हैं| लुपस के साथ कई लोग स्मृति समस्याओं का अनुभव करते हैं, और उन्हें अपने विचार व्यक्त करने में कठिनाई हो सकती है|

रक्त और रक्त वाहिकाओं- ल्यूपस रक्त की समस्याओं का कारण बन सकता है, जिसमें एनीमिया और रक्तस्राव या खून के थक्के का खतरा बढ़ सकता है| यह रक्त वाहिकाओं (वास्कुलाइटिस) की सूजन का कारण बन सकता है|

फेफड़े- लूपस होने से छाती गुहा अस्तर (प्लयूरिस्य) की सूजन विकसित करने की संभावना बढ़ जाती है, जो सांस लेने में दर्दनाक हो सकती है| फेफड़ों और निमोनिया में रक्तस्राव भी संभव है|

दिल- ल्यूपस आपके दिल की मांसपेशियों, आपके धमनियों या दिल झिल्ली (पेरीकार्डिटिस) की सूजन का कारण बन सकता है| कार्डियोवैस्कुलर बीमारी और दिल के दौरे का खतरा भी बढ़ता है|

यह भी पढ़ें- इन्फ्लूएंजा या फ्लू होने के लक्षण, कारण, निदान और उपचार

अन्य प्रकार की जटिलताएं

लूपस होने से आपका जोखिम भी बढ़ जाता है, जैसे-

संक्रमण- लुपस वाले लोग संक्रमण के लिए अधिक संवेदनशील होते हैं, क्योंकि रोग और उसके दोनों उपचार प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर कर सकते हैं|

कैंसर- ल्यूपस होने से कैंसर का खतरा बढ़ जाता है; हालांकि जोखिम छोटा है|

हड्डी के ऊतकों की मौत (अवस्कुलर नेक्रोसिस)- यह तब होता है, जब एक हड्डी में रक्त की आपूर्ति कम हो जाती है, अक्सर हड्डी में छोटे ब्रेक और अंततः हड्डी के पतन के कारण होता है|

गर्भावस्था जटिलताएं- लुपस वाली महिलाओं में गर्भपात का खतरा बढ़ गया है| लुपस (Lupus) गर्भावस्था (प्रिक्लेम्प्शिया) और प्रीटरम जन्म के दौरान उच्च रक्तचाप का खतरा बढ़ जाता है| इन जटिलताओं के जोखिम को कम करने के लिए, चिकित्सक अक्सर गर्भावस्था में देरी की सलाह देते हैं, जब तक कि आपकी बीमारी कम से कम छह महीने तक नियंत्रण में न हो|

निदान (Diagnosis)

लुपस (Lupus) का निदान करना मुश्किल है क्योंकि लक्षण व्यक्ति से अलग-अलग होते हैं, ल्यूपस के लक्षण समय के साथ भिन्न हो सकते हैं, और कई अन्य विकारों के साथ ओवरलैप हो सकते हैं|

कोई भी परीक्षण लुपस का निदान नहीं कर सकता है| रक्त और मूत्र परीक्षण, लक्षण और लक्षण, और शारीरिक परीक्षा निष्कर्षों का संयोजन निदान की ओर जाता है|

यह भी पढ़ें- एलर्जी प्रतिक्रिया के कारण, लक्षण, निदान, और इलाज

प्रयोगशाला परीक्षण

रक्त और मूत्र परीक्षण में शामिल हो सकते हैं, जैसे-

पूर्ण रक्त गणना- यह परीक्षण लाल रक्त कोशिकाओं, सफेद रक्त कोशिकाओं और प्लेटलेट्स के साथ-साथ लाल रक्त कोशिकाओं में प्रोटीन की हीमोग्लोबिन की मात्रा को मापता है| परिणाम बता सकते हैं, कि आपके पास एनीमिया है, जो आमतौर पर लुपस में होता है| लुपस (Lupus) में भी कम सफेद रक्त कोशिका या प्लेटलेट गिनती हो सकती है|

एरिथ्रोसाइट सेडीमेंटेशन दर- यह रक्त परीक्षण उस दर को निर्धारित करता है, जिस पर लाल रक्त कोशिकाएं एक घंटे में ट्यूब के नीचे स्थित होती हैं| सामान्य दर से तेज एक प्रणालीगत बीमारी, जैसे लुपस इंगित कर सकता है| तलछट दर किसी एक बीमारी के लिए विशिष्ट नहीं है| यदि आपके पास ल्यूपस, संक्रमण, एक और सूजन की स्थिति या कैंसर है, तो इसे ऊंचा किया जा सकता है|

गुर्दा और यकृत मूल्यांकन- रक्त परीक्षण यह आकलन कर सकते हैं, कि आपके गुर्दे और यकृत कितने अच्छे काम कर रहे हैं| लुपस इन अंगों को प्रभावित कर सकता है|

मूत्र-विश्लेषण- आपके पेशाब के नमूने की एक परिक्षण मूत्र में प्रोटीन स्तर या लाल रक्त कोशिकाओं को बढ़ा सकती है, जो तब हो सकती है, जब ल्यूपस ने आपके गुर्दे को प्रभावित किया हो|

एंटीनुक्लियर एंटीबॉडी (एएनए) परीक्षण- इन प्रतिरक्षाओं की उपस्थिति के लिए एक सकारात्मक परीक्षण, आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली द्वारा उत्पादित, एक उत्तेजित प्रतिरक्षा प्रणाली को इंगित करता है| जबकि लुपस वाले अधिकांश लोगों में सकारात्मक एएनए परीक्षण होता है, वहीं सकारात्मक एएनए वाले अधिकांश लोगों में लुपस (Lupus) नहीं होता है| यदि आप एएनए के लिए सकारात्मक परीक्षण करते हैं, तो चिकित्सक अधिक विशिष्ट एंटीबॉडी परीक्षण की सलाह दे सकता है|

इमेजिंग परीक्षण

अगर चिकित्सक को संदेह है, कि ल्यूपस आपके फेफड़ों या दिल को प्रभावित कर रहा है, तो वह सुझाव दे सकता है, जैसे-

छाती का एक्स – रे- आपकी छाती की एक छवि असामान्य छाया प्रकट कर सकती है, जो आपके फेफड़ों में तरल पदार्थ या सूजन का सुझाव देती है|

इकोकार्डियोग्राम- यह परीक्षण आपके धड़कने वाले दिल की रीयल-टाइम छवियों का उत्पादन करने के लिए ध्वनि तरंगों का उपयोग करता है| यह आपके वाल्व और आपके दिल के अन्य हिस्सों के साथ समस्याओं की जांच कर सकता है|

बायोप्सी- लुपस आपके गुर्दे को कई अलग-अलग तरीकों से नुकसान पहुंचा सकता है, और होने वाले नुकसान के प्रकार के आधार पर उपचार भिन्न हो सकते हैं| कुछ मामलों में, यह निर्धारित करने के लिए कि सबसे अच्छा उपचार क्या हो सकता है, किडनी ऊतक के एक छोटे से नमूने का परीक्षण करना आवश्यक है| नमूना सुई या छोटी चीरा के माध्यम से प्राप्त किया जा सकता है|

कभी-कभी त्वचा को प्रभावित करने वाले लुपस (Lupus) के निदान की पुष्टि करने के लिए त्वचा बायोप्सी का प्रदर्शन किया जाता है|

यह भी पढ़ें- मकई और कॉल्स होने के लक्षण, कारण, निदान और उपचार

इलाज (Treatment)

लुपस के लिए उपचार आपके संकेतों और लक्षणों पर निर्भर करता है| यह निर्धारित करना कि आपके संकेतों और लक्षणों का इलाज किया जाना चाहिए और किस दवा का उपयोग करना है, उसके लिए चिकित्सक के साथ लाभ और जोखिमों की सावधानीपूर्वक चर्चा की आवश्यकता है|

जैसे-जैसे आपके लक्षण भड़कते हैं, और कम हो जाते हैं, आप और चिकित्सक को यह पता चल सकता है, कि आपको दवाएं या खुराक बदलने की आवश्यकता होगी| लुपस को नियंत्रित करने के लिए आमतौर पर उपयोग की जाने वाली दवाओं में शामिल हैं, जैसे

नोंस्तेरोइडअल विरोधी भड़काऊ दवाओं (NSAIDs)- ओवर-द-काउंटर एनएसएड्स, जैसे नैप्रॉक्सन सोडियम (एलेव) और इबुप्रोफेन (एडविल, मोटरीन आईबी, अन्य), का उपयोग लुपस से जुड़े दर्द, सूजन और बुखार के इलाज के लिए किया जा सकता है| मजबूत एनएसएड्स पर्चे द्वारा उपलब्ध हैं| एनएसएड्स के साइड इफेक्ट्स में पेट में खून बह रहा है, गुर्दे की समस्याएं और दिल की समस्याओं का खतरा बढ़ गया है|

मलेरिया-रोधी दवाएं- आमतौर पर मलेरिया के इलाज के लिए उपयोग की जाने वाली दवाएं, जैसे हाइड्रोक्साइक्लोक्वाइन (प्लाक्वेनल), प्रतिरक्षा प्रणाली को प्रभावित करती हैं, और लुपस (Lupus) फ्लेरेस के जोखिम को कम करने में मदद कर सकती हैं| साइड इफेक्ट्स में पेट परेशान हो सकता है, और, बहुत ही कम, आंख की रेटिना को नुकसान पहुंचा सकता है| इन दवाओं को लेने के दौरान नियमित आंख परीक्षा की सिफारिश की जाती है|

कोर्टिकोस्टेरोइड्स- प्रेडनिसोन और अन्य प्रकार के कॉर्टिकोस्टेरॉइड लुपस (Lupus) की सूजन का सामना कर सकते हैं| स्टेरॉयड की उच्च खुराक जैसे मेथिलप्र्रेडिनिसोलोन (ए-मेथाप्रेड, मेड्रोल) अक्सर गंभीर बीमारी को नियंत्रित करने के लिए उपयोग की जाती है, जिसमें गुर्दे और मस्तिष्क शामिल होते हैं| साइड इफेक्ट्स में वजन बढ़ाना, आसान चोट लगाना, हड्डियों को पतला करना (ऑस्टियोपोरोसिस), उच्च रक्तचाप, मधुमेह और संक्रमण का जोखिम बढ़ाना शामिल है। उच्च खुराक और दीर्घकालिक चिकित्सा के साथ साइड इफेक्ट्स का खतरा बढ़ जाता है|

प्रतिरक्षादमनकारियों- प्रतिरक्षा प्रणाली को दबाने वाली दवाएं लुपस के गंभीर मामलों में सहायक हो सकती हैं| उदाहरणों में अजिथीओप्रिन (इमुरान, अज़ासन), माइकोफेनॉलेट मोफेटिल (सेलकैप्ट) और मेथोट्रैक्साईट (ट्रेक्सल) शामिल हैं| संभावित दुष्प्रभावों में संक्रमण का जोखिम बढ़ सकता है, जिगर की क्षति, प्रजनन क्षमता में कमी और कैंसर का खतरा बढ़ सकता है|

बायोलॉजिक्स- एक अलग प्रकार की दवा, बेलीमाब (बेनलीस्टा) ने अनैतिक रूप से प्रशासित किया, कुछ लोगों में ल्यूपस के लक्षण भी कम कर देता है| साइड इफेक्ट्स में मतली, दस्त और संक्रमण शामिल हैं| शायद ही कभी, अवसाद की बिगड़ सकती है|

प्रतिरोधी ल्यूपस के मामलों में ऋतुक्सिम (ऋतुक्सन) फायदेमंद हो सकता है| साइड इफेक्ट्स में इंट्रावेनस इंस्यूजन और संक्रमण के लिए एलर्जी प्रतिक्रिया शामिल है|

यह भी पढ़ें- गर्भावस्था की मतली और उल्टी के कारण और उपचार

प्रिय पाठ्कों से अनुरोध है, की यदि वे उपरोक्त जानकारी से संतुष्ट है, तो अपनी प्रतिक्रिया के लिए “दैनिक जाग्रति” को Comment कर सकते है, आपकी प्रतिक्रिया का हमें इंतजार रहेगा, ये आपका अपना मंच है, लेख पसंद आने पर Share और Like जरुर करें|

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *