रक्त प्रदर (Metrorrhagia)

रक्त प्रदर (Metrorrhagia) के कारण, लक्षण, निदान और उपचार

रक्त प्रदर (Metrorrhagia) गर्भाशय से खून का बहना को संदर्भित करता है| जो प्रत्याशित मासिक धर्मों के बीच होता है, जो किशोरों और रजोनिवृत्ति के करीब आने वाली महिलाओं में एक विशेष रूप से आम समस्या है| रक्त प्रदर (Metrorrhagia) असामान्य योनि खून का एक प्रकार माना जाता है| जो माहवारी के साथ जुड़ा नहीं है, क्योंकि यह महीने के गलत समय पर होता है|

रक्त प्रदर (Metrorrhagia) के लिए कई संभावित कारण हैं, परिणामस्वरूप, उपचार भी कारण के आधार पर भिन्न होता है| इसके विपरीत, सामान्य योनि खून बह रहा, हर महिला के सामान्य मासिक धर्म चक्र के भाग के रूप में होता है| जो शरीर में हार्मोनल परिवर्तन की एक जटिल श्रृंखला को स्पष्ट करता है, विशेष रूप से एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन के स्तर में परिवर्तन|

हर महीने, गर्भाशय की परत एक संभावित निषेचित अंडे और मोटाई के लिए तैयारी में अतिरिक्त रक्त और ऊतक बनाता है| जब अंडे अंडाशय से निकल जाता है, तो अंडे को गर्भाशय में शुक्राणु और प्रत्यारोपण द्वारा निषेचित किया जाता है, या यदि कोई गर्भनिरोधक नहीं होता है|

तो गर्भाशय के अस्तर शेड, शेडिंग के परिणामस्वरूप, आवधिक मासिक धर्म खून बह रहा होता है| साधारण मासिक चक्र 28 दिन या उससे कम सात दिन है, जो आमतौर पर दो से सात दिनों तक रहता है| उम्र के साथ चक्र की लम्बाई और रक्त की मात्रा और द्रव के नुकसान में परिवर्तन होता है|

यह भी पढ़ें- सफेद पानी या श्वेत प्रदर के कारण, लक्षण और उपचार

रक्त प्रदर के कारण

रक्त प्रदर विभिन्न कारणों के कारण हो सकता है, कुछ हल्के कारणों से लेकर होते हैं, जबकि अन्य मामलों में, यह गंभीर संक्रमण का नतीजा हो सकता है| रक्त प्रदर (Metrorrhagia) के सामान्य कारण निम्न हैं, जैसे-

1. गर्भनिरोधक गोलियां लेने या मस्तिष्क की समस्या से हार्मोनल असंतुलन|

2. फाइब्रॉएड|

3. जंतु के कारण|

4. घाव का निशान|

5. गर्भाशय, गर्भाशय ग्रीवा या योनि की सूजन या संक्रमण|

6. सरवाइकल कटाव|

7. रजोनिवृत्ति के बाद, सूखी योनि दीवारों|

8. अन्तर्गर्भाशय-अस्थानता के कारण|

9. कैंसर के कारण होना|

10. यौन संचरित संक्रमण जैसे कि जननांग मौसा, खमीर संक्रमण आदि|

11. अंतर्गर्भाशयी डिवाइस का उपयोग|

12. गर्भपात के कारण होना|

13. प्रत्यारोपण के बाद होने वाला रक्तस्राव|

14. अस्थानिक गर्भावस्था|

15. कुछ दवाएं जैसे खून पतला करने वाली|

16. मधुमेह, रक्त के थक्के विकार, थायराइड विकार आदि जैसे कुछ पुरानी चिकित्सा रोग|

यह भी पढ़ें- गर्भाशय शोथ के कारण, लक्षण और उपचार

रक्त प्रदर के लक्षण

रक्त प्रदर का सबसे आम लक्षण अनियमित योनि खून बह रहा है| आमतौर पर, अत्यधिक मासिक धर्म के खून बह रहा योनि में खून बह रहा है| मासिक धर्म (पहले माहवारी) के दो साल बाद, अनियमित माहवारी 2-5% किशोरावस्था में होती है| यह डिंबोत्सर्जन बिना चक्र की वजह से होता है| इसलिए, एस्ट्रोजेन के प्रभाव में चक्र के पहले भाग में, एंडोमेट्रियम की वृद्धि हुई चक्र के दूसरे भाग के साथ संतुलित नहीं है, जिसमें प्रोजेस्टेरोन में वृद्धि होती है| महिलाओं को निम्न लक्षणों का अनुभव हो सकता है, जैसे-

1. पेट दर्द या ऐंठन|

2. भारी मासिक धर्म के खून बहने के लिए हल्के|

3. गंभीर पेट की ऐंठन (एक्टोपिक गर्भ या गर्भपात के मामले में)|

4. नियमित मासिक धर्म अवधि के बीच भारी रक्तस्राव के लिए प्रकाश|

5. गर्भस्राव और एक्टोपिक गर्भावस्था के मामले में, गंभीर पेट का दर्द|

रक्त प्रदर निदान

कुछ चिकित्सा प्रक्रियाओं या रक्त परीक्षणों को यह जानना आवश्यक हो सकता है, कि रक्त प्रदर (Metrorrhagia) का क्या कारण है| उनमे शामिल है, जैसे-

एंडोमेट्रियल बायोप्सी- इस प्रक्रिया में, गर्भाशय से एक ऊतक का नमूना डॉक्टर द्वारा एकत्र किया जाएगा| ऊतक का नमूना प्रयोगशाला में भेजा जाता है, और आगे माइक्रोस्कोप के तहत जांच की जाती है|

अल्ट्रासाउंड स्कैन- ध्वनि तरंगों का उपयोग गर्भाशय, अंडाशय और श्रोणि की तस्वीर पाने के लिए किया जाता है| निचले पेट पर या योनि के अंदर एक अल्ट्रासाउंड जांच का इस्तेमाल किया जा सकता है|

गर्भाशयदर्शन- इस प्रक्रिया में, गर्दन और गर्भाशय की जांच करने के लिए योनि में एक छोटा कैमरा (हिस्टोरोस्कोप) के साथ एक पतली धातु ट्यूब डाली जाती है|

सोनोहेस्टेरोग्राम- एक तरह का अल्ट्रासाउंड, जिसमें गर्भाशय ग्रीवा के माध्यम से एक द्रव को गर्भाशय में इंजेक्ट किया जाता है| तरल पदार्थ अकेले अल्ट्रासाउंड का उपयोग करने के मुकाबले ध्वनि तरंगों के माध्यम से बेहतर विवरण की कल्पना कर सकते हैं| यह फाइब्रॉएड जैसे गर्भाशय के अस्तर में किसी भी समस्या का पता लगा सकता है|

यह भी पढ़ें- गर्भावस्था परीक्षण के प्रकार कब और कैसे होने चाहिए

रक्त प्रदर इलाज

पहले जांच लें कि खून का स्रोत मूत्र या मलाशय से नहीं है| लेकिन योनि से, यह एक टैंपन की मदद से पुष्टि की जा सकती है, जैसे-

1. भारी रक्तस्राव के मामले में एक बिस्तर आराम करना आवश्यक है| टैम्पोन या पैड की संख्या को ध्यान में रखना न भूलें जो आपने इस्तेमाल किया है|

2. एस्पिरिन लेने से बचें एस्पिरिन सेवन के कारण अत्यधिक योनि खून बह सकता है|

3. हार्मोनल असंतुलन के मामले में हार्मोनल उपचार की आवश्यकता हो सकती है|

4. जीवाणु संक्रमण के लिए एंटीबायोटिक आवश्यक हैं|

5. कुछ मामलों में हिस्टेरेक्टॉमी (गर्भाशय का शल्य चिकित्सा हटाने) की आवश्यकता हो सकती है|

एक बार मेट्रोरहागिया का मूल कारण पहचान लिया जाता है, तो अगले मुख्य फोकस इसका इलाज होता है| किसी भी इलाज का मूल लक्ष्य प्रभावित व्यक्ति को आराम और इलाज प्रदान करना है| उपचार में निम्नलिखित शामिल हो सकते हैं, जैसे

अस्पताल में भर्ती- जब रक्तस्राव रक्तस्राव की ओर बढ़ता है, या अनियंत्रित हो जाता है, तो चिकित्सक निदान परीक्षणों के साथ रोगी की निगरानी और निरीक्षण करने के लिए अस्पताल में भर्ती करायेगा|

ओरल गर्भनिरोधक- ये नियमित मासिक धर्म चक्र प्रदान करने में सहायता कर सकते हैं| वे महिलाओं के हार्मोनल स्तर को बनाए रखने में मदद कर सकते हैं|

व्याकरण और इलाज- चिकित्सक इस प्रक्रिया को निष्पादित करता है, जब रक्तस्राव का कारण अधूरा गर्भपात होता है| शरीर में छोड़ दिए गए घटक मां को नुकसान पहुंचा सकते हैं, इसलिए उन्हें डी एंड सी के माध्यम से हटा दिया जाता है|

आयरन सप्लीमेंट्स- महिलाएं जिनको गंभीर खून का सामना करना पड़ता है,उन्हें लोहे की खुराक दी जानी चाहिए|

एस्ट्रोजेन-गेस्टेन थेरेपी- 10 दिनों के लिए, हार्मोनल समस्याओं का इलाज करने के लिए एस्ट्रोजेन-जेस्टेन थेरेपी दिया जा सकता है| जब एस्ट्रोजन का स्तर ठीक हो जाता है, मासिक धर्म चक्र ठीक भी हो जाता है|

गर्भाशयदर्शन- पुर्वंगक हटाने के लिए|

हिस्टेरेक्टिमी- गर्भाशय को हटाने के लिए|

सर्जरी, विकिरण, और कीमोथेरेपी- यदि कैंसर का पता चला है, सर्जरी, विकिरण, कीमोथेरेपी, या इन उपचारों का एक संयोजन किया जाता है|

यह भी पढ़ें- परिवार नियोजन इतिहास, कार्यक्रम, महत्व और प्रभाव

जोखिम (Risk Factors)

रक्त प्रदर (Metrorrhagia) की घटना में निम्न कारक योगदान दे सकते हैं, जैसे-

1. अत्यधिक शारीरिक गतिविधि|

2. दवा और शराब दुरुपयोग|

3. एनोरेक्सिया और बुलीमिया|

4. मधुमेह|

5. थायरॉयड समस्याएं|

मौखिक गर्भनिरोधक लेने के पहले तीन महीनों में योनि खून बह रहा आम है| एस्ट्रोजेन और प्रॉजेस्टिन मौखिक गर्भनिरोधक होते हैं| जो रक्तस्राव पैदा कर सकते हैं| कभी-कभी, प्रोजेस्टेरोन के कारण जोखिम भी बढ़ जाता है, लेकिन एस्ट्रोजेन के अतिरिक्त के द्वारा स्थिति में सुधार किया जा सकता है|

दृष्टिकोण (Outlook)

रक्त प्रदर (Metrorrhagia) सामान्य मासिक धर्म प्रवाह के बाहर या तो नियमित या अनियमित अंतराल पर होता है| हार्मोन अनियमितताओं मेट्रोरहागिया के मुख्य कारणों में से एक हैं| इसे बेकार के रूप में भी कहा जाता है, गर्भाशय खून बह रहा है| यदि खून बहना भारी और अक्सर होता है, तो महत्वपूर्ण लोहे की कमी के एनीमिया भी विकसित हो सकते हैं|

यदि आप कई चक्रों में रक्त प्रदर (Metrorrhagia) का सामना कर रहे हैं, तो तत्काल एक चिकित्सक से सलाह ले, और संभावित कारणों और उपचार विकल्पों पर चर्चा करें|

नोट- किसी भी दवा या प्रयोग का उपयोग करने से पहले चिकित्सक की सलाह जरुर ले, अन्यथा हानिकारक हो सकता है|

यह भी पढ़ें- गर्भावस्था में कब्ज के कारण, लक्षण और इलाज

प्रिय पाठ्कों से अनुरोध है, की यदि वे उपरोक्त जानकारी से संतुष्ट है, तो अपनी प्रतिक्रिया के लिए “दैनिक जाग्रति” को Comment कर सकते है, आपकी प्रतिक्रिया का हमें इंतजार रहेगा, ये आपका अपना मंच है, लेख पसंद आने पर Share और Like जरुर करें|

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *