रक्तस्रावी आघात (Hemorrhagic Stroke)

रक्तस्रावी आघात (Hemorrhagic Stroke) के कारण, लक्षण, उपचार

रक्तस्रावी आघात तब होता है, जब रक्त के प्रवाह को मस्तिष्क के हिस्से से काटा जाता है या बहुत कम मात्रा में पहुच होती है| बिना रक्त और ऑक्सीजन के मस्तिष्क कोशिकाएं जल्दी मर सकती है| जिससे स्थाई मस्तिष्क क्षति हो सकती है| रक्तस्रावी आघात हल्का या गंभीर हो सकता है| इसका परिणाम स्वास्थ्य लाभ से लेकर मृत्यु तक हो सकता है|

रक्तस्रावी आघात दो प्रकार के होते है, एक स्थानिक अरक्तता संबंधी (इस्कीमिक) और दूसरा रक्तस्रावी, स्थानिक अरक्तता संबंधी अघात मस्तिष्क के उतकों को रक्त के प्रवाह की कमी के कारण होता है| यह तब हो सकता है, जब मस्तिष्क में धमनियां एक एसी स्थिति के कारण संकीर्ण होती है| जैसे एथेरोस्क्लेरोसिस, खून का थक्का संकीर्ण धमनियों में रक्त प्रवाह को रोक सकता है|

इससे घनास्त्रता कहा जाता है| स्थानिक अरक्तता संबंधी अघात का एक अन्य कारण एक अंत श्ल्यता है| यह तब होता है, जब एक रक्त का थक्का शरीर में कही और होता है, और फिर मस्तिष्क की और जाता है, और रक्त प्रवाह को रोक सकता है|

यह भी पढ़ें- हाथीपाँव रोग के कारण, लक्षण, निदान और उपचार

एथेरोस्क्लेरोसिस क्या होता है

लगभग 13 प्रतिशत अघात रक्तस्रावी होते है, ये ऐसे आघात है, जो मस्तिष्क में रक्त वाहिकाओं में टूटने के कारण होते है| अधिकांश अघात स्थानिक अरक्तता संबंधी होते है|

एक रक्तस्रावी अघात को इंट्रासेरेब्रल या आईसीएच भी कहा जाता है| एक आईसीएच तब होता है| जब रक्तवाहिका टूटना जिसके कारण रक्त आसपास के उतकों में जम जाता  है| यह मस्तिष्क पर दबाब डालता है, और आसपास के क्षत्रों में खून का नुकसान करता है|

स्वास्थ्य लाभ की सबसे अच्छी बाधाओं के लिए तत्काल चिकित्सा उपचार महत्वपूर्ण है, साथ ही रोकथाम, यदि आप अपने जोखिम कारको को नियंत्रित करते है, तो आप किसी प्रकार अघात होने की अपनी बाधाओं को बहुत कम कर सकते है|

रक्तस्रावी अघात के लक्षण

आपके मस्तिष्क के भीतर होने वाले रक्तस्रावी आघात को इंट्रासेरब्रल रक्तस्रावी कहा जाता है, आईसीएच के लक्षण व्यक्ति में भिन्न भिन्न हो सकते है| लेकिन अघात लगने के बाद लगभग हमेशा मौजूद रहते है| लक्षण इस प्रकार हो सकते है, जैसे-

1. चेतना की कुल या सिमित हानी|

2. जी मिचलाना|

3. उल्टी होना|

4. अचानक और गंभीर सिर दर्द होना|

5. शरीर के एक तरफ चेहरे, बाँहों या पैर में सुन्न भावना होना|

6. बरामदगी|

7. चक्कर आना|

8. बोलने या निगलने में समस्या आना|

9. भ्रम या भटकाव|

रक्तस्रावी आघात चिकित्सा आपातकालीन स्थिति है, आपातकालीन चिकित्सा सेवाओं से तुरंत संपर्क करना चाहिए, यदि आपको महसूस होता है, की आपको अघात लगने वाला है|

यह भी पढ़ें- डेंगू बुखार (अस्थि मंजा ज्वर) के लक्षण, उपचार, कारण और उपचार

अघात के कारण

मस्तिष्क में टूटी हुई रक्त वाहिकाओं के के संभावित दो कारण है, सबसे आम कारण एंटीवायरम है, एक अनियिरिज्म तब होता है| जब रक्त वाहिका का एक हिस्सा गंभीर और खतरनाक रूप से उच्च रक्तचाप से बढ़ जाता है या जब रक्त वाहिका दीवार कमजोर होती है, जो आमतौर पर जन्म जात होती है| यह गुब्बारे पोत की दीवार को पतला करता है| और अंत इसको टूटना होता है|

आईसीएच का एक दुर्लभ कारण है, एक धमनी कुरूपता यह तब होता है, जब उनके बिच कोशिकाओं के बिना धमनियों और नसों को असामान्य रूप से जोड़ा जाता है, कुरूपता जन्मजात है, इसका अर्थ है, की वे जन्म से मौजूद है| लेकिन वे वंशानुगत नही है| यह अज्ञात है, की वे कुछ लोगो में क्यों होते है|

आपातकालीन उपचार

अघात के लिए तत्काल आपातकालीन देखभाल आवश्यक है, यह उपचार आपके मस्तिष्क में रक्तस्राव को नियंत्रित करने और रक्तस्राव के कारण दबाब को कम करने पर केन्द्रित है|

दवा का इस्तेमाल रक्तचाप को कम करने या रक्तस्राव को धीमा करने के लिए किया जा सकता है| यदि आपके खून के पतले होने पर रक्तस्रावी आघात का अनुभव होता है, तो अत्यधिक रक्तस्राव के लिए विशेष जोखिम होते है|रक्त पतले के प्रभाव का विरोध करने के लिए दवाएं आमतौर पर आपातकालीन उपचार के दौरान तुरंत दी जाती है|

यह भी पढ़ें- मोटापा के कारण, लक्षण, निवारण, उपचार और निदान

शल्य चिकित्सा 

एक बार एक आघात को आपत्कालीन देखभाल के साथ नियन्त्रण में लाया जा सकता है| तो आगे उपचार के उपाय किए जा सकते है|यदि कोशिकाओं का टूटना छोटे स्तर पर है, और कम खून बह रहा है, और दबाब भी बहुत कम मात्रा में है, तो देखभाल के अन्य प्रकार भी शामिल हो सकते है, जो इस प्रकार है, जैसे-

1. IV तरल पदार्थ

2. आराम

3. अन्य चिकित्सा समस्याओं का प्रबंधन

4. बोलना, शारीरिक या व्यवसायिक चिकित्सा

अधिक गंभीर आघात के लिए संक्रमित रक्त वाहिका की मरम्मत और रक्त स्राव को रोकने के लिए सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है| यदि आघात कुरूपता के साथ होता है, सर्जरी का इस्तेमाल इससे हटाने के लिए हो सकता है, लेकिन यह हमेशा संभव नही है|और एवीएम के स्थान पर निर्भर करता है| रक्तचाप और मस्तिस्क सुजन के कारण दबाब को दूर करने के लिए शल्य चिकित्सा की भी आवश्यकता हो सकती है|

स्वास्थ्य लाभ

स्वास्थ्य लाभ आघात की गंभीरता और जो उतकों की क्षति हुई है, उसपर निर्भर करता है| अपनी आवश्यकताओं के आधार पर भिन्न भिन्न चिकित्सा शामिल हो सकती है, जिनकी  स्वास्थ्य लाभ अवधि भी भिन्न भिन्न होती है|

आधात को कैसे रोंके

आघात के लिए कुछ जोखिम कारक है, यदि  आप इन कारकों से बच सकते है| तो आपको अनुभव करने की अपनी बाधाओं को कम कर सकते है| उच्च रक्तचाप आईपीएच की सबसे अधिक संभावना है| आपके रक्तचाप को नियन्त्रण में रखना आपके जोखिम को नियंत्रित करने का सबसे अच्छा तरीका है| आप अपने चिकित्सक से बात करें, की आपके ब्लड प्रेशर कैसे कम करें यदि अधिक है, तो|

शराब और नशीली दवाओं के उपयोग भी नियंत्रणीय जोखिम कारक है, कम पिने पर विचार करें, और नशीली दवाओं के दुरूपयोग से बचें| रक्त पतले आइकेमिक आघात को रोकने में मदद करते है| लेकिन आईसीएच होने के बाद भी बढ़ सकते है| यदि आपका रक्त पतला है| तो जोखिम के बारें में अपने चिकित्सक से बात करना सुनिश्चित करें|

यह भी पढ़ें- श्वास नली की सूजन के कारण, लक्षण, निवारण और उपचार

प्रिय पाठ्कों से अनुरोध है, की यदि वे उपरोक्त जानकारी से संतुष्ट है, तो अपनी प्रतिक्रिया के लिए “दैनिक जाग्रति” को Comment कर सकते है, आपकी प्रतिक्रिया का हमें इंतजार रहेगा, ये आपका अपना मंच है, लेख पसंद आने पर Share और Like जरुर करें|

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *