मूत्र या पेशाब में जलन (Burn)

मूत्र या पेशाब में जलन (Burn) होना के कारण लक्षण और उपचार

मूत्र या पेशाब के दौरान जलन (Burn) का अनुभव होना, इसका चिकित्सा की भाषा में डीस्सुरिया कहा जाता है| यह आमतौर पर मूत्र पथ में सुजन का संकेत होता है, जिसमें मूत्रमार्ग और मूत्राशय दोनों लिंगों में शामिल होता है| इसमें परुषों के लिए पौरुष ग्रन्थि भी शामिल है| जलन (Burn) या एक जलती हुई सनसनी भी महसूस हो सकती है| यदि सुजन मूत्र पथ के गहरे ढ़ाचे तक पहुचती है|

अनुभव किए जाने वाले दर्द को अक्सर चुभने के रूप में वर्णित किया जाता है, और यह हल्के से गंभीर यानि की दर्द में भिन्न हो सकता है, आप महसूस कर सकते है, की पेशाब के कई मिनटों और कई घंटो बाद तक यह जलन बनी रह सकती है| पेशाब करने में कठिनाई, और मूत्र या पेशाब में रक्त भी दिखाई दे सकता है|

यह भी पढ़ें- मूत्रमार्गशोथ का दर्द के कारण, लक्षण, और उपचार

पेशाब में जलन के कारण

मूत्र या पेशाब करते समय जलन या दर्द होने के अनेक कारण हो सकते है, लेकिन कुछ कारण इस प्रकार है, जैसे-

पेशाब पथ के संक्रमण (यूटीआई)- मूत्र या पेशाब में जलन के लिए सबसे सामान्य कारण, यह मूत्राशय के संक्रमण के कारण होता है, वैक्टीरिया अक्सर मूत्रमार्ग के अंदरूनी परत को जोडती है, और अन्य मूत्र संरचनाओं में तेजी से फ़ैल सकता है| मूत्र पथ के कारणों में अक्सर पेशाब में दर्द, पेशाब के रंग में परिवर्तन और पेशाब में वृद्धि की आवर्ती सामिल है|

यौन संचारित संक्रमण (एसटीआई)- इसमें जननांग हर्पीज, क्लैमाइडीया शामिल हो सकते है| ये यौन संचारित संक्रमण भी विक्टोरिया के कारण होते है, और योनी स्राव, जननांग घावों, और जननांग क्षेत्र की खुजली के साथ सुरु हो सकते है|

योनी खमीर संक्रमण- यह महिलाओं में होने वाला संक्रमण मुखवर्ण के रूप में जाना जाता है, योनी क्षेत्र के आसपास खुजली और लालिमा के साथ पेशाब में जलन हो सकती है|

मूत्रमार्ग अवक्षेप- इस स्थिति से आमतौर पर पुरुष प्रभावित होते है, जब मूत्र मार्ग और उतकों के सुजन या निशान उतक की उपस्तिथि के कारण संकरी होती है| चूँकि पेशाब मार्ग से निकलने में असमर्थ है, यह अनुचित उतक जलन का कारण बनता है| जिससे जलन बढ़ जाती है|

यह भी पढ़ें- त्वचा से संबंधित रोगों की सूची

वैक्टीरियल वगीनोसिस- यह वैक्टीरिया गंध के कारण जाना जाता है| और यह वैक्टीरिया मुख्य रूप से महिलाओं को प्रभावित करता है|

योनी आँसू- यह सेक्स स्तर के दौरान हो सकता है, जिसमे योनी उतक को खरोच लग सकती है, और जब पेशाब करते है, तो उससे जलन होती है और यह प्रसव परिणाम के रूप में भी हो सकता है|

अनावश्यक स्वच्छता उत्पाद- योनी को स्वच्छ और गंध रहित करने का दावा करने वाले उत्पादों का उपयोग वास्तव में ही इसकी प्राकृतिक पीएच संतुलन को बाधित करता है| इसलिए महिलाओं को इनसे बचना चाहिए| क्युकी योनी की त्वचा अति संवेदनशील होती है|

शोषग्रस्त योनीशोथ- रजोनिवृति के लक्षण जो हार्मोन के स्तर को बदलने के कारण होता है, यह योनी के पतलापन का परिणाम है, जो सेक्स पेशाब या अन्य कारणों से जलन पैदा कर सकता है|

जलन होने के लक्षण

आपके मूत्र या पेशाब में जलन के अंतर्निहित के कारण के आधार पर, आप कुछ लक्षणों का अनुभव के सकते है| यहां कुछ लक्षण है, जो पेशाब के दौरान जलन कर सकते है, जैसे-

1. मूत्र में रक्त का आना|

2. बार बार पेशाब का आना|

3. पेशाब करने के बाद आधे अधूरे पेशाब का ख्याल होना|

4. पेशाब करने में कठिनाई का अनुभव होना|

5. मुक्ति मूत्र विकृति, छाले होना, रंग बदलना, मूत्र में झाग और मूत्र में गंध आना आदि|

6. पुरुषों में वीर्य के साथ खून का आना|

7. श्रोणी और पेट के निचले हिस्से में दर्द होना|

यह भी पढ़ें- वर्त्मांतशोध के लक्षण, कारण, निदान और उपचार

मूत्र में जलन का इलाज

मूत्र या पेशाब में जलन (Burn) कोई गंभीर बीमारी नही है, यह समय के साथ ठीक हो जाती है, लेकिन यदि आपको संक्रमण और पीड़ा ज्यादा है, और पेशाब में जलन लगातार एक सप्ताह से अधिक है, तो तुरंत चिकित्सक की सलाह ले यहां कुछ सुझाव है, जिनके द्वारा आप इस समस्या से छुटकारा पा सकते है|

पर्याप्त मात्रा में पानी- यदि आपको मूत्र या पेशाब जलन की समस्या है, तो आपको अधिक से अधिक साफ पानी प्पिना चाहिए, उसके बाद आप महसूस करेंगे की आपको कुछ राहत महसूस होगी| आप सुनिश्चित करने की दिन में काम से काम 8 से 10 गिलास पानी पीना चाहिए और गर्मी में इनकी मात्रा अधिक कर सकते है|

क्रैनबेरी का जूस- यूटीआई लक्षणों का इलाज करने में यह एक सामान्य उपाय है, ऐसा माना जाता है, की साइट्रिक एसिड जो की क्रैनबेरी में मोजूद है वह यूटीआई वैक्टीरिया को मारने में मदद करता है|

नारियल का पानी- निर्जलीकरण और मूत्र जलन के लिए यह एक बेहतरीन उपाय है, नारियल के पानी में कई इलेक्ट्रोलाईट होते है, जो आपके शरीर के तरल पदार्थों को संतुलित रखने में मदद करते है|

सुरक्षित संभोग- मूत्र पथ के अनुबंध के लिए सबसे आम तरीका योंन संबंधों के माध्यम से कंडोम का प्रयोग करना चाहिए| इससे आप इस संक्रमण के जोखिम को कुछ हद तक कम कर सकते है|

पेशाब- जब भी आवश्यक हो पेशाब करना चाहिए, क्योंकि पेशाब अंदर वैक्टीरिया फैला सकता है|

ब्लूबेरी- ब्लूबेरी में एंटीआक्सीडेंट तत्व है, जो वैक्टीरिया को खत्म करने और संक्रमण को ठीक करने में मदद करता है|

होर्सरैडिस- यह एक प्रकार की सब्जी है, जो बेहतरीन एंटीबैक्टीरियल के रूप में कार्य करती है, यह वैक्टीरिया को खत्म करने में मदद करती है| तो आप आवश्यकतानुसार दूध या अन्य तरल पदार्थ के साथ इसका प्रयोग कर सकते है|

इस तरह आप मूत्र या पेशाब की जलन (Burn) को कम कर सकते है, यदि आपको जलन के लक्षण अधिक लग रहे है तो तुरंत चिकित्सक की सहयता ले|

बेबी एक्जिमा क्या है- लक्षण, कारण, उपचार

प्रिय पाठ्कों से अनुरोध है, की यदि वे उपरोक्त जानकारी से संतुष्ट है, तो अपनी प्रतिक्रिया के लिए “दैनिक जाग्रति” को Comment कर सकते है, आपकी प्रतिक्रिया का हमें इंतजार रहेगा, ये आपका अपना मंच है, लेख पसंद आने पर Share और Like जरुर करें|

1 thought on “मूत्र या पेशाब में जलन (Burn) होना के कारण लक्षण और उपचार”

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *