मुंहासों का आयुर्वेदिक व घरेलू इलाज

मुंहासों का आयुर्वेदिक व घरेलू इलाज ! Ayurvedic treatment of acne

मुंहासों का आयुर्वेदिक व घरेलू इलाज, मुहांसे वसा ग्रन्थियों से निकलने वाले स्राव के रुक जाने के कारण होते है| मुहासें (Pimples) रोग स्राव का रुकना या अनेक वजह से हो सकते है, जैसे प्रतीक्षा प्रणाली का कमजोर होना, हार्मोन्स का उतराव चढाव, खून का विशुद्ध होना, संतुलित भोजन ना मिलना, दूषित वातावरण, मृत त्वचा, तेलीए त्वचा का होना और पसीने द्वारा रोम छिद्र का बंद पड़ना| मुंहासों (Pimples) रोग अधिकतर 14 से 30 वर्ष की आयु के लोगो को ज्यादा होता है|

यह भी पढ़ें- फोड़ा का आयुर्वेदिक व घरेलू इलाज

आज के युग में बहुत से किशोर या युवा इन मुंहासों (Pimples) से बहुत परेशान रहते है| और होना भी लाजमी है क्योंकी मुँहासे अच्छे खासे चेहरे को बदसूरत बना देते है| और इनके दाग धब्बे लम्बे समय तक चेहरे का साथ नही छोड़ते है| जबकि आज का दौर एक दुसरे से अपने आप को बेहतर प्रस्तुत करने का है चाहे वो किसी भी क्षेत्र की बात हो|

मुंहासों (Pimples) की वजह से किशोरों या युवा में कहि ना कहि एक मानसिक तनाव भी बन जाता है| हालाँकि यह कोई बीमारी नही है| यहां इन से छुटकारा पाने के लिए मुंहासों का आयुर्वेदिक व घरेलू इलाज उपाय है जो आप आजमा सकते है| यदि आप मुँहासे (Pimples) की विस्तृत जानकारी चाहते है, तो यहां पढ़ें- कारण, लक्षण व इलाज

मुंहासों का आयुर्वेदिक इलाज

यहाँ कुछ मुंहासों का आयुर्वेदिक उपाय है जिनको नियमित और सुचारू रूप से प्रयोग में लाकर आप मुंहासों से छुटकारा पा सकते है, जैसे- 

अलोवे अवला रस- अलोवे आवला रस नास्ते से 45 या 60 मिनट पहले 30 से 40 मिलीलीटर प्रतिदिन पिए इसे मुंहासों और मृत त्वचा से छुटकारा मिलेगा और त्वचा में चमक आएगी| यह एक मुंहासों का आयुर्वेदिक बेहतरीन इलाज है|

मुंहासों के लिए नीम काढ़ा- इसका उपयोग प्रतिदिन खाली पेट 50 से 60 मिलीलीटर पिए इसे पेट की समस्या दूर होगी और यह ब्लैकहैड मुंहासों से छुटकारा दिलाने में सहायक है| यह भी एक मुंहासों का आयुर्वेदिक बेहतरीन इलाज है|

दूध और जामुन- मुंहासों का आयुर्वेदिक इलाज के लिए, कच्चे दूध में जामुन पाउडर मिलाकर पेस्ट तैयार करें और उसको चेहरे पर लगाए सूखने पर समान्य पानी से धो ले यह मृत त्वचा और मुंहासो को दूर करेगा|

यह भी पढ़ें- एलर्जी प्रतिक्रिया के कारण, लक्षण, निदान, और इलाज

अलोएवेरा जेल- अलोएवेरा जेल भी मुंहासों का आयुर्वेदिक इलाज है| प्रतिदिन दिन में दो बार चेहरे पर लगाए और 20 मिनट बाद सामान्य पानी से धोए यह त्वचा के कालेपन और काले सिर वाले मुहासों से चटकारा दिलाता है|

सरवाडी (सुंगधिपला) कश्यप- 25 से 35 मिलीलीटर पानी की बराबर मात्रा में हर रोज दो बार खाने के बाद ले| इसे सामान्य प्रकार के मुंहासों के इलाज में मदद मिलती है|

यशधिमू पेस्ट- दूध के साथ मिलाकर यशधिमू चूर्ण का पेस्ट तैयार करे और चेहरे पर लगाए यह रंजकता दूर करता है और त्वचा को कोमल बनता है|

त्रिफला- त्रिफला चूर्ण हर रोज 10 से 15 ग्राम ले यह रक्त को सुध करने में मदद करता है| जिसे मुँहासे के इलाज में मदद मिलती है|

इन सब प्रयोगों को नियमित रूप से प्रयोग में लाकर आप अपनी त्वचा को मुँहासों से निजात दिला सकते है|

मुंहासों का आयुर्वेदिक व घरेलू इलाज

1. मुंहासों से प्रभावित जगह पर पक्के हुए टमाटर की लुगदी 1 घंटे के लिए लगाए और सामान्य पानी से धो ले|

2. मूंगफली का तेल और ताजे निम्बू के रस को बराबर मात्र में मिलाए और इसको प्रभावित क्षेत्र पर लगाए और 20 से 25 मिनट के बाद धो ले इसे मुंहासों किल ब्लेक से छुटकारा मिलेगा|

3. प्रभावित जगह पर आलू का पेस्ट लगाए इसे सभी प्रकार के मुंहासों से छुटकारा मिलता है और त्वचा सम्बंधित बीमारी भी दूर होती है|

यह भी पढ़ें- पायरिया होने के कारण, लक्षण, आहार और उपचार

4. त्वचा पर मुंहासो के दानों को रोकने के लिए मैथी के पत्तों का पेस्ट तैयार करे और सोते समय लगाए और अगली सुबह पानी से धो ले|

5. अनार पाउडर और निम्बू रस को मिश्रित कर के पेस्ट बनाए और इसको प्रभावित त्वचा पर लगाए इसे आप को सभी प्रकार के मुंहासों और कालेपन से छुटकारा मिल सकता है|

6. खरोंच, त्वचा का फटना और एलर्जी से छुटकारा पाने के लिए तिल के बीजों का पेस्ट बनाकर प्रभावित जगह पर लागु करे|

7. काले और सफेद मुंहासों के लिए मुली के बीज का पेस्ट प्रभावित जगह पर लगाएं|

8. एक चम्मच दालचीनी मिश्रित पाउडर और 1 चम्मच निम्बू रस को मिलाकर प्रभावित जगह पर लगाए|

9. निम्बू रस और गुलाब जल को बराबर मात्रा में लेकर मिला ले और प्रभावित जगह पर 15 से 20 मिनट तक लगा रहने दे फिर धो ले|

10. सहद के साथ दालचीनी पाउडर का पेस्ट बना ले और सोते समय लगाए और अगली सुबह धो ले 2 से 3 सप्ताह तक प्रतिदिन ऐसा करने से आप को मुंहासों (Pimples) से छुटकारा मिल सकता है|

11. संतरे के छिलके को पिस ले और उसको पानी के साथ मिलाकर पेस्ट बना ले अब प्रभावित जगह पर लगाए|

यह भी पढ़ें- स्वरयंत्रशोथ के लक्षण, कारण, निदान और उपचार

मुंहासों से बचने के लिए क्या न करें

1. भोजन में ज्यादा घी, तेल और चटपटे मसालों का प्रयोग नही करें|

2. चेहरे को किसी अच्छे औषधीय युक्त साबुन से साफ़ करें|

3. सौन्दर्य-प्रसाधन (कॉस्मेटिक) उत्पादों का प्रयोग कम करे चिकनाई वाले कास्मेटिक तो चेहरे पर बिलकुल ना लगाएं|

4. कच्ची सब्जी का जूस या दिन में कम से कम 8 से 10 गिलास पानी जरुर पिएँ|

5. ज्यादा मीठा और चाय, काफी और मिर्च मसाले कब्ज करते है जिसे मुँहासे होते है तो इनका प्रयोग कम करें|

6. मुंहासों को फोड़ने, दबाने या रगड़ने का प्रयास ना करें|

7. प्रतिदिन कम से कम चेहरे को 2 से 3 बार सामान्य पानी से धोना चाहिए|

यह भी पढ़ें- दांत का दर्द के लक्षण, कारण, निदान और उपचार

प्रिय पाठ्कों से अनुरोध है, की यदि वे उपरोक्त जानकारी से संतुष्ट है, तो अपनी प्रतिक्रिया के लिए “दैनिक जाग्रति” को Comment कर सकते है, आपकी प्रतिक्रिया का हमें इंतजार रहेगा, ये आपका अपना मंच है, लेख पसंद आने पर Share और Like जरुर करें|

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *