मुँहासे (Pimples)- कारण, लक्षण व इलाज

मुँहासे (Pimples)- कारण, लक्षण व इलाज ! Treatment of Pimples

मुँहासे (Pimples) एक आम त्वचा का रोग है| मुँहासे (Pimples) चेहरे, छाती, पीठ और मुह पर ज्यादातर होते है| ऐसा तब होता है जब त्वचा के छिद्र तेल, मृत त्वचा कोशिकाओं और वैक्टीरिया से बंद हो जाते है| मुँहासे किसी भी अवस्था में हो सकते है लेकिन यह 14 से 30 की उम्र में ज्यादा होते है| यह निकलते है तो काफी तकलीफदेय होते है और बाद में भी अपने निसान त्वचा पर छोड़ जाते है|

यह भी पढ़ें- पेम्फिगस होने के लक्षण, कारण, निदान और उपचार

आज की भागदोड भरी जिंदगी और दूषित वातावरण के कारण किशोर अवस्था के लोग किल मुँहासे (Pimples) से काफी परेशान है| जबकि किशोर अवस्था में इन किल मुँहासों को कोई भी किशोर पसंद नही करता| अधिकतर लोगो का मानना है की मुँहासे होना एक खास उम्र का असर है| और उम्र बढ़ने के साथ साथ मुँहासे (Pimples) भी अपने आप ठीक हो जाते है|

कुछ हद तक ये बात सच भी है क्योंकी किशोर अवस्था में शरीर में अनेक बदलाव देखने को मिलते है| और हार्मोन्स का भी स्तर कम ज्यादा होता रहता है| मुँहासों के इलाज के लिए आप आयुर्वेदिक या घरेलू उपाय भी प्रयोग में ला सकते है| यदि आप मुंहासों का आयुर्वेदिक व घरेलू इलाज जानना चाहते है, तो यहां पढ़ें- आयुर्वेदिक व घरेलू इलाज

मुँहासे के प्रकार

पसदार मुँहासे- यह छोटे छोटे दानों के रूप में चेहरे पर उभरते है| यह लालिमा लिए गाल और नाक पर ज्यादा होते है| यह यह कंधे, पीठ और हाथ पैर को भी प्रभावित कर सकते है|

अद्र्व्युक्त- कुछ लोगो में मुँहासे (Pimples) दाने के आकार से बड़े होकर अद्र्व्युक्त होते है| इन मवाद्युक्त गाठों में दर्द, जलन, सुजन और लालिमा पाई जाती है|

किल मुंहासे- यह उपर से काला और निचे से सफेद होता है| जब हम त्वचा को दबाते है तो यह किल के रूप में निकलता है| यह जहा से निकलता है| वह जगह स्थाई छेद रूप में हो जाती है|

यह भी पढ़ें- बिवाई फटना- लक्षण, कारण और इलाज

मुँहासों के कारण

1. त्वचा के छिद्रों बंद होने के कारण वसा ग्रन्थियों से निकलने वाले स्राव का रुक जाना|

2. इस रोग की समस्या कई बार वंशानुगत भी हो सकती है|

3. यदि आप को पेट की समस्या है जैसे कब्ज या अन्य कोई समस्या तो भी मुँहासे हो सकते है|

4. यह समस्या गलत खान पान के कारण भी हो सकती है|

5. चेहरे पर अलग अलग तरह के उपयोग और क्रीम का प्रयोग भी इस समस्या का कारण बनता है|

6. धुल, मिट्टी, पसीना और दूषित वातावरण भी इस समस्या का एक कारण है|

7. किशोरावस्था में हार्मोन्स परिवर्तन होना भी मुँहासे का कारण हो सकता है|

8. मानसिक तनाव व चिंता भी मुँहासों का कारण हो सकता है|

9. तेलीए त्वचा के कारण भी मुँहासे (Pimples) ज्यादा निकलते है|

यह भी पढ़ें- रक्तस्राव रोग (Scurvy) के लक्षण, जोखिम, दृष्टिकोण, निदान और उपचार

10. अगर आप अन्य रोग से सम्बंधित या गर्भनिरोधक गोलियों का उपयोग कर रहें है तो भी मुँहासे समस्या हो सकती है|

11. अगर आप खाने में ज्यादा ऑयली जंकफूड का प्रयोग करते है तो भी मुँहासे (Acne) हो सकते है|

मुँहासों के लक्षण 

किसी भी त्वचा मुंहासो के लक्षण उस की स्थिति की गम्भीरता पर निर्भर करते है, जैसे- 

1. छोटे छोटे दानों का गाल और नाक के आसपास उबरना|

2. उपरी त्वचा की सतह के निचे ठोस गाठों का बनना|

3. उपरी त्वचा के निचे मवाद का भरना|

4. लाल धब्बे जो बालो के रोम के रोम में सुजन या संक्रमण का संकेत देते है|

यह भी पढ़ें- गला बैठना के कारण, लक्षण, निदान और उपचार

मुँहासों का इलाज 

जानकारी की लिए हम मुँहासों (Pimples) से छुटकारा पाने के लिए कुछ दवा का विवरण प्रस्तुत कर रहें है| कोई भी दवा चिकित्सक की देख रेख में ही ले नही तो आप के लिए हानिकारक हो सकती है| क्योंकी दवाओं का उपयोग रोगी की मानसिक और शारीरिक स्थिति के अनुसार होता है, जैसे- 

आडापालीन (Adapalene)

1. यह दवा एक रेटीनोइड सारणी वाला यौगिक है| इसके सिफारिस हल्के से मध्यम मुँहासों के लिए निर्धारित की जाती है|

2. चिकत्सक इसका उपयोग अन्य कारणों से भी कर सकता है जो यहां सूचीबद्ध नही है|

3. यह दवा कोशिकाओं के विकास को प्रभावित कर के सुजन को कम करने का काम करती है| और जीवाणुओं की मात्र कम करती है

एज़ेलिक एसिड (Azelaic Acid)

1. यह दवा एक स्वभाविक रूप से होने वाली संतृप्त डाईकार्बैक्जिलिक एसिड होती है| इस दवा की सिफारिस जिसका उपयोग मुहासों व रोसैसा जैसी त्वचा रोग के लिए निर्धारित किया जाता है|

2. रोगी की स्थिति के अनुसार चिकित्सक अन्य कारणों से भी इसका उपयोग कर सकता है जो यह सूचीबद्ध नही है|

बेंजोइल पेरोक्साइड (Benzoyl Peroxide)

1. यह दवा एंटीबायोटिक क्रियाओं वाला एक केराटोलिटीक एजेंट है| इसकी सिफारिस मुँहासों के लिए निर्धारित की जाती है|

2. इस दवा का उपयोग अन्य रोगों के लिए भी किया जा सकता है|

यह भी पढ़ें- पेरिटोनिलर फोड़ा होने के लक्षण, कारण, निदान और उपचार

क्लैरीथ्रोमाइसीन (Clarithromvcin)

1. यह दवा एक मैक्रोलाईड एंटीबायोटिक है| इस दवा की सिफारिस टोंसिलितिस. गले का संक्रमण, निमोनिया और त्वचा संक्रमण के लिए की जाती है| यह सवेंदनशील वैक्टीरिया की वृद्धि को रोकती है|

2. इस दवा का उपयोग अन्य कारणों से दुसरे रोगियों के लिए भी किया जा सकता है जो यह सूचीबद्ध नही है|

डॉक्सीसाइक्लिन (Doxycycline)

1. यह दवा व्यापक स्पेक्ट्रम एंटीबायोटिक है| इस दवा की सिफारिस विशिष्ट प्रकार के वैक्टीरिया संक्रमण जैसे निमोनियां, श्वसन पथ संक्रमण, लाइम रोग, त्वचा के संक्रमण, जननांग, मूत्र प्रणाली और एंथ्रेक्स के लिए निर्धारित है|

2. अन्य कारणों से इस दवा का उपयोग अन्य रोगों के लिए भी हो सकता है चिकत्सक द्वारा|

कुछ क्रीम भी मुंहासों (Pimples) से छुटकारा दिलाने के लिए निर्धारित है जो इस प्रकार है, जैसे- 

1. रेटिनो-ए टैटीनोइन क्रीम (Retino-A Tretinoin Cream)

2. ग्लाइको 6 ग्लाइकोलिक एसिड क्रीम (Glyco 6 Glycolic Acid Cream)

3. एवेन ट्रेकनेल (Avene Triacneal)

4. न्यूटोतोजेना पर-स्पॉट मुँहासे उपचार (Neutrogena On-The-SPOT Acne Treatment)

5. हिमालय हर्बल मुँहासे-एन-पिम्पल क्रीम (Himalaya Herbals Acne-N-Pimple Cream)

यह भी पढ़ें- जिह्वा की सूजन के प्रकार, लक्षण, कारण और उपचार

6. विस्को हल्की दब्ल्यूएसो त्वचा क्रीम (Vicco Turmeric WSO Skin Cream)

7. नोमर्क्स मुँहासे चिमनी क्रीम  (Nomarks Acne Pimple Cream)

नोट- कोई भी दवा चिकित्सक की सलाह से ही ले नही तो हानिकारक हो सकती है खासकर सवेंदनशील रोगी|

प्रिय पाठ्कों से अनुरोध है, की यदि वे उपरोक्त जानकारी से संतुष्ट है, तो अपनी प्रतिक्रिया के लिए “दैनिक जाग्रति” को Comment कर सकते है, आपकी प्रतिक्रिया का हमें इंतजार रहेगा, ये आपका अपना मंच है, लेख पसंद आने पर Share और Like जरुर करें|

2 thoughts on “मुँहासे (Pimples)- कारण, लक्षण व इलाज ! Treatment of Pimples”

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *