बेबी एक्जिमा (Baby Eczema)

बेबी एक्जिमा (Baby Eczema) क्या है- लक्षण, कारण, उपचार

बेबी एक्जिमा एक सुखी, खुजली वाली त्वचा की स्थिति है, जो कम से कम पांच बच्चों में से एक बच्चे को प्रभावित करती है| बेबी एक्जिमा आमतौर पर आपके बच्चे को दो साल का होने से पहले दिखाई देता है| जब तक बेबी एक्जिमा को ठीक नही किया जा सकता  जब तक की वो अपनी किशोर अवस्था से बहार नही आ जाते लेकिन सही उपचार से इसे नियंत्रित किया जा सकता है|

एक्जिमा को एतोपिक एक्जिमा या एतोपिक जिल्द की सुजन भी कहा जाता है|एतोपिक का अर्थ है, की आप के बच्चे को बेबी एक्जिमा, अस्थमा और हेफेवर जैसी स्थितियां विकसित करने की प्रवृति विरासत में मिली है|अंतिम परिणाम यही है, शुष्क, खुजली, लाल, और फटकी हुई त्वचा जिसमें कभी कभी तरल पदार्थ और रक्तस्राव भी होता हो| बेबी एक्जिमा शरीर के अधिकतर प्रभावित क्षेत्रो में चेहरा, हाथ, गर्दन, घुटने, पीठ और कोहनी आते है|

यह भी पढ़ें- छाल या सोरायसिस रोग का आयुर्वेदिक व घरेलू इलाज

बेबी एक्जिमा होने का मतलब है, की बच्चे की त्वचा उतनी अच्छे से काम नही कर रही है| जिससे त्वचा में सूखापन आ जाता है| जिसे उसकी त्वचा में संक्रमण और अधिक होने की सम्भावना होगी और एलर्जी त्वचा में और अधिक आसानी से प्रवेश कर सकती है| जिससे स्थिति और अधिक खराब हो सकती है|

बेबी एक्जिमा के कारण

1. जीन एक भूमिका निभा सकते है, पिछले कुछ समय से एक्जिमा, अस्थमा और हेफ़वर सहित एलर्जी की स्थितियों में वृद्धि हुई है| हालाँकि इस स्तर में गिरावट जरुर आई है|

2. बेबी एक्जिमा भड़क अप में त्वचा को प्रभावित करता है, आपके बच्चे की त्वचा में त्वचा के सूखे और खुजली वाले पैच अधिकतर समय हो सकते है| लेकिन जब यह भडकता है तो यह और भी खराब हो जाते है, और उनपर सुजन आ जाती है| ऐसा होता है क्योंकि उनकी प्रतीक्षा प्रणाली उन पदार्थों के लिए अधिक होती है, जिनसे एलर्जी होती है| उसके बाद उससे गहन उपचार की आवश्यकता होती है|

3. बेबी एक्जिमा भडकना कभी कभी रसायनों के कारण त्वचा की जलन से शुरू हो सकता है, जैसे साबुन से स्नान, शैपू, कपड़े धोने का पाउडर आदि| इसके लिए आप अपने साबुन और डिटर्जेंट को गैर जैविक में बदल सकते है| यह जानने के लिए की आपके बच्चे पर इसका क्या प्रभाव पड़ता है|

4. एक्जिमा शिशुओं के लिए बेहद चिंतित हो सकता है| क्योंकि उन्हें खरोच करना बहुत मुश्किल लगता है, जिससे संक्रमण हो सकता है| यह आप के बच्चे की नींद को भी खराब कर सकता है और उनके आत्मविश्वास को भी कमजोर कर सकता है|

बेबी एक्जिमा से छुटकारा कैसे पायें 

1. एक्जिमा का उपचार इसकी तीव्रता पर निर्भर करता है| यदि आप के बच्चे को केवल कुछ लाल दाने और खुजली के हल्के क्षेत्र है, तो आप को आसानी से कम करने वाले स्टेरायड क्रीम को थोड़े समय के साथ लोशन, क्रीम या मलहम का उपयोग करने की सलाह डी जा सकती है|

यह भी पढ़ें- बिवाई फटना- लक्षण, कारण और इलाज

2. बेबी एक्जिमा के भडकाव को रोकने के लिए अपने बच्चे की त्वचा को मॉइस्चराइजर करना चाहिए| भले ही त्वचा में एक्जिमा का कोई लक्षण न हो परन्तु बच्चे की त्वचा को दिन में कई बार मॉइस्चराइजर करना आवश्यक है, ताकि त्वचा में सूखापन उत्पन न हो सके|

3. मॉइस्चराइजर (Moisturizer) क्रीम में बहुत विविधता उपलब्ध है| और आपको अपने बच्चे के लिए उस मॉइस्चराइजर क्रीम को खोजने के लिए जो आपके बच्चे को सूट करती हो इसके लिए काफी प्रयास करने पड़ सकते है| ये क्रीम लोसन, मलहम और बाथ एडिटिव्स के रूप में उपलब्ध है|

4. आपको नियमित रूप से कम या ज्यादा मात्रा में इसका उपयोग करना पड़ सकता है| इसके लिए डॉक्टर का परामर्श भी जरूरी है| क्योंकि उसको पता होता है की आपके बच्चे के लिए कौन सा क्रीम बेहतर रहेगा| एक जलीय क्रीम होता है, जिसमें डिटर्जेंट की मात्रा अधिक होती है| जो त्वचा को अधिक परेशान कर सकती है|

क्या स्टेरॉयड का प्रयोग बच्चे को नुकशान तो नही पहुचेगा

1. डॉक्टर अक्सर सुझाव देते है, की बेबी एक्जिमा के लिए स्टेराइड क्रीम या मलहम का समय समय पर उपयोग करना चाहिए| स्टेरॉयड क्रीम या मलहम सुरक्षित है, यदि उनका उपयोग सही ढंग से किया जाए तो यह भी कहा जाता है की ये त्वचा को पतला कर देते है| यदि इनका उपयोग लम्बी अवधि के लिए किया जाए तो, परन्तु यह स्थाई नही है|

2. बेबी एक्जिमा की गंभीरता के आधार पर स्टेरॉयड क्रीम की सही ताकत का उपयोग करना महत्वपूर्ण है| स्टेरॉयड का प्रयोग हमेशा डॉक्टर की देखरेख में किया जाना चाहिए| जो आपको सही सही बताएगा की उसका कितना प्रयोग किया जाना चाहिए|

3. स्टेरॉयड का प्रयोग केवल प्रभावित जगहों पर ही करना चाहिए| दिन में दो बार से ज्यादा नही करे, और आप अपने शिशु के लिए जितना आवश्यक है उतना ही प्रयोग करें|

अन्य उपचार

1. यदि एक बच्चे को बेबी एक्जिमा से बहुत अधिक खुजली होती है, और यह उसकी नींद को प्रभावित करता है तो एन्तीथिस्तामैन्स को निर्धारित किया जाता है| लेकिन बेबी एक्जिमा के लिए इसका नियमित प्रयोग नही किया जा सकता है| युवा बच्चो के लिए इसका प्रयोग किया जा सकता है, लेकिन डॉक्टर की देखरेख में होना चाहिए|

यह भी पढ़ें- त्वचा से संबंधित रोगों की सूची

2. यदि आप के बच्चे को गंभीर एक्जिमा है तो उसको समय समय पर स्टेरॉयड क्रीम की अधिक आवश्यकता हो सकती है| यदि फिर भी आप को सुधार नजर नही आए तो उसको तुरंत विशेषज्ञ के पास ले जाएं|

3. यदि बेबी एक्जिमा का संक्रमण हो जाता है, तो बच्चे को तरल पदार्थ और रक्त का स्राव हो सकता है| यदि संक्रमण बहुत कम है तो उसकों एंटीबायोटिक क्रीम के लिए सलाह दी जा सकती है| और यदि संक्रमण अधिक है तो उसको मुह से भी एंटीबायोटिक दवा देकर उपचार के लिए कहा जा सकता है| लेकिन यह सब एक अच्छे डॉक्टर की उपस्थिति में होना चाहिए|

4. स्वास्थ्य विभाग ने 6 महीने बच्चे को स्तनपान की सिफारिस की है, लेकिन आप कम से कम चार महीने स्तनपान कराए, यह एक्जिमा और अन्य एलर्जी के बचाव में सहायता कर सकता है|

5. गर्भावस्था के दोरान संतुलित आहर खाए, क्योंकि आपकी प्रतिक्रिया आप के बच्चे तक पहुचती है| इसके लिए किसी विशेषज्ञ से सलाह भी ले सकते है|

तो इस तरह आप अनेक उपाय द्वारा अपने बच्चे को बेबी एक्जिमा से बचा सकते है, या उसको नियंत्रित कर सकते है, लेकिन एक अच्छे डॉक्टर की सलाह अति आवश्यक है|

यह भी पढ़ें- टाइफाइड बुखार लक्षण, कारण, जोखिम, निदान और उपचार

प्रिय पाठ्कों से अनुरोध है, की यदि वे उपरोक्त जानकारी से संतुष्ट है, तो अपनी प्रतिक्रिया के लिए “दैनिक जाग्रति” को Comment कर सकते है, आपकी प्रतिक्रिया का हमें इंतजार रहेगा, ये आपका अपना मंच है, लेख पसंद आने पर Share और Like जरुर करें|

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *