बीडीएस कोर्स (BDS Course)

बीडीएस कोर्स (BDS Course) प्रवेश, अवधि, पात्रता, पाठ्यक्रम, वेतन और करियर

बैचलर ऑफ डेंटल सर्जरी या बीडीएस कोर्स (BDS Course) दंत चिकित्सा के क्षेत्र में एक स्नातक पाठ्यक्रम है| यह कोर्स एक इच्छुक को दंत चिकित्सक बनने में मदद करता है| यहां हम बीडीएस कोर्स (BDS Course) प्रवेश, अवधि, पात्रता, पाठ्यक्रम, वेतन और करियर के बारें में जानेगे|

बीडीएस डिग्री की अवधि 3 साल से 5 साल तक होती है| अवधि में भिन्नता इंटर्नशिप या इसकी कमी की आवश्यकता के कारण होती है| पाठ्यक्रम का पूर्णकालिक मोड में या अंशकालिक मोड में पत्राचार के माध्यम से पीछा किया जा सकता है| भारत में लगभग 300 दंत कॉलेज हैं, जो बीडीएस पाठ्यक्रम की पेशकश करते हैं|

इस स्नातक पाठ्यक्रम की पात्रता भौतिकी, रसायन विज्ञान, जीवविज्ञान और अंग्रेजी के साथ वरिष्ठ माध्यमिक परीक्षा में कम से कम 50% स्कोर कर रहती है| बीडीएस कोर्स (BDS Course) का औसत शिक्षण शुल्क 50,000 से 12 लाख रुपये तक है| उम्मीदवार को इस दंत चिकित्सा की डिग्री में प्रवेश लेने के लिए प्रवेश परीक्षा देनी होगी| एआईपीएमटी बीडीएस उम्मीदवारों के लिए सबसे लोकप्रिय प्रवेश परीक्षा में से एक है|

यह भी पढ़ें- एमबीबीएस कोर्स (MBBS Course) प्रवेश, अवधि, पात्रता, पाठ्यक्रम, वेतन, करियर

अनुसंधान संस्थानों, निजी अभ्यास, दंत उत्पाद निर्माताओं, दंत क्लीनिक, अस्पताल, दवा कंपनियों, शैक्षणिक संस्थानों और दंत उपकरण निर्माता जैसे क्षेत्रों में दंत सर्जरी स्नातकों की बढ़ती मांग है| यह एमबीबीएस के बाद चिकित्सा धारा में सबसे अधिक मांग है| बीडीएस के बाद करियर के अवसरों में एक दंत चिकित्सक के रूप में नैदानिक ​​अभ्यास, उच्च शिक्षा यानी एमडीएस, शिक्षण या अनुसंधान या सरकारी डॉक्टर का पीछा करना शामिल है| भारत और विदेशों में दंत चिकित्सकों के लिए एक विशाल दायरा है|

आइए अब आगे बीडीएस कोर्स (BDS Course) प्रवेश, अवधि, पात्रता, पाठ्यक्रम, वेतन और करियर के बारें में विस्तार से जानने का प्रयास करते है|

बीडीएस कोर्स इसके बारे में (BDS Course About This)

बीडीएस कोर्स मौखिक बीमारियों के इलाज, रोकथाम और निदान के लिए सामान्य दंत चिकित्सा प्रथाओं से संबंधित ज्ञान और कौशल वाले छात्रों को प्रशिक्षण देने पर केंद्रित है| कुछ कॉलेज पाठ्यक्रम के एक हिस्से के रूप में इंटर्नशिप प्रदान करते हैं| हालांकि, अंतिम छात्र बीडीएस परीक्षा उत्तीर्ण करने के लिए एक दंत कॉलेज में एक वर्ष के लिए एक भुगतान घूर्णन इंटर्नशिप से गुजरना अनिवार्य है|

यह दंत चिकित्सा पाठ्यक्रम छात्रों को मौखिक चिकित्सा और रेडियोलॉजी, दंत चिकित्सा सामग्री, सर्जिकल प्रक्रियाओं, पेडोडोंटिक्स, ओरल पैथोलॉजी, डेंटल एनाटॉमी और ओरल हिस्टोलॉजी और सामुदायिक दंत चिकित्सा जैसे विभिन्न उपचार सिखाता है| यह कोर्स छात्र की पसंद के अनुसार पूर्णकालिक और अंशकालिक दोनों उपलब्ध है|

बीडीएस कोर्स कौन चुने (Who chooses the BDS Course)

जो छात्र समाज की सेवा करना चाहते हैं, वे बीडीएस की डिग्री का पीछा करके अपना सपना पूरा कर सकते हैं| अच्छे शारीरिक सहनशक्ति वाले उम्मीदवार इस कोर्स के लिए उपयुक्त हैं| दंत चिकित्सा में करियर बनाने में रुचि रखने वाले सभी इच्छुक इस कोर्स के लिए बने हैं| इस कोर्स के लिए उन छात्रों के प्रकार की आवश्यकता होती है, जिनके पास एक मजबूत दिमाग है, और शारीरिक परीक्षा के दौरान अप्रिय गंध और दृष्टि से निपट सकते हैं| किसी को सर्जन के रूप में प्रशिक्षित करने के लिए धैर्य और शांत मन होने की न्यूनतम आवश्यकताएं होती हैं|

बीडीएस कोर्स पात्रता (BDS Course Eligibility)

बीडीएस पाठ्यक्रम के लिए, न्यूनतम पात्रता मानदंड नीचे उल्लिखित है|

1. किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड या समकक्ष परीक्षा से 50% के कुल स्कोर के साथ वरिष्ठ माध्यमिक परीक्षा उत्तीर्ण करना|

यह भी पढ़ें- केआईआईटीईई (KIITEE) मेडिकल प्रवेश परीक्षा पैटर्न, योग्यता, आवेदन और मानदंड

2. 12 वीं कक्षा में विषयों के रूप में भौतिकी, रसायन विज्ञान, जीवविज्ञान और अंग्रेजी होना आवश्यक है|

3. प्रवेश परीक्षा के आधार पर प्रवेश दिया जाता है| वरिष्ठ माध्यमिक परीक्षा परिणामों के उम्मीदवारों को इस कोर्स के लिए आवेदन करने के लिए स्वागत है|

बीडीएस कोर्स में प्रवेश कैसे प्राप्त करें (How to Get Admission in BDS Course)

उम्मीदवारों को पाठ्यक्रम के लिए अपनी जगह सुरक्षित करने के लिए प्रवेश परीक्षा उत्तीर्ण करने की आवश्यकता है| इसके लिए सबसे आम प्रवेश एआईसीईटी बीडीएस है| इस परीक्षा के अलावा, एनईईटी, एमयू ओईटी, डीयूएमईटी, एआईपीएमटी और कॉमेडके जैसी परीक्षाएं हैं|

विश्वविद्यालय के विशिष्ट मानदंडों के अनुसार आगे चयन प्रक्रिया आयोजित की जाती है| ऐसे कई विश्वविद्यालय हैं, जो चयन के लिए परामर्श प्रक्रिया के लिए जाते हैं|

प्रवेश मोड (Entrance Mode)

बीडीएस डिग्री के लिए आयोजित शीर्ष प्रवेश परीक्षाएं हैं, जैसे

एआईसीईटी बीडीएस- यह परीक्षण निजी कॉलेजों में प्रवेश के लिए दंत विज्ञान के क्षेत्र में प्रवेश के लिए आयोजित किया जाता है। भौतिकी, वनस्पति विज्ञान, प्राणीशास्त्र और रसायन शास्त्र से प्रश्न

एनईईटी- एनईईटी चिकित्सा पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए एक योग्य प्रवेश परीक्षा है| यह बनारस हिंदू विश्वविद्यालय और सशस्त्र बल मेडिकल कॉलेज जैसे संस्थानों द्वारा स्वीकार किया जाता है|

एआईपीएमटी- यह परीक्षा सीबीएसई द्वारा आयोजित कि जाती है, यह शीर्ष विश्वविद्यालयों द्वारा स्वीकार किए जाने वाले प्रवेश परीक्षा है| इस परीक्षण के पाठ्यक्रम में भौतिकी, रसायन विज्ञान और जीवविज्ञान शामिल है|

डीएमएटी- हर जुलाई में एपीडीएमसी द्वारा आयोजित, यह एक परीक्षण है, जो चिकित्सा क्षेत्र में करियर में प्रवेश प्रदान करता है| प्रवेश परीक्षा में पूछे गए प्रश्न भौतिकी, रसायन विज्ञान और जीवविज्ञान से होते हैं|

चयन प्रक्रिया (Selection Process)

चयन प्रक्रिया विश्वविद्यालय से विश्वविद्यालय में भिन्न होती है| कुछ विश्वविद्यालय केवल प्रासंगिक प्रवेश परीक्षा में स्कोर के आधार पर प्रवेश लेते हैं| हालांकि, कुछ विश्वविद्यालय हैं, जो परामर्श प्रक्रिया के लिए जा सकते हैं|

शीर्ष संस्थान पेशकश बीडीएस कोर्स (Top Institute Offering BDS Course)

1. मौलाना आजाद इंस्टीट्यूट ऑफ डेंटल साइंसेज, दिल्ली

2. मणिपाल कॉलेज ऑफ डेंटल साइंस – [एमसीओडीएस], मंगलोर

3. एसडीएम कॉलेज ऑफ डेंटल साइंस और हॉस्पिटल सैटुर, धारवाड़

4. सरकार डेंटल कॉलेज और अस्पताल, मुंबई

5. किंग जॉर्ज का मेडिकल यूनिवर्सिटी – [केजीएमयू], लखनऊ

यह भी पढ़ें- ऑप्टोमेट्री डिप्लोमा (Optometry Diploma) कोर्स प्रवेश, पात्रता, स्कोप और वेतन

6. एक बी शेट्टी मेमोरियल इंस्टीट्यूट ऑफ डेंटल साइंस – [एबीएसआईआईडीआईएस], मंगलोर

7. पीटी भगतवत दयाल शर्मा पोस्ट मेडिकल इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज – [पीजीआईएमएस], रोहतक

8. सरकार डेंटल कॉलेज और अस्पताल, औरंगाबाद

9. डॉ. आर अहमद डेंटल कॉलेज और अस्पताल, कोलकता

10. एसआरएम डेंटल कॉलेज, चेन्नई

बीडीएस कोर्स का पाठ्यक्रम (BDS course courses)

व्यवसाय की नवीनतम जरूरतों के अनुसार, बीडीएस पाठ्यक्रम इसे अद्यतन रखने के लिए डिज़ाइन और संशोधित किया गया है| पाठ्यक्रम का उद्देश्य छात्र को सभी प्रकार की मौखिक स्वास्थ्य समस्याओं से निपटने के लिए तैयार करना है|

इस कोर्स के पाठ्यक्रम में कोर कोर्स, ऐच्छिक और व्यावहारिक कार्यशालाएं शामिल हैं| प्रत्येक सत्र में तीन परीक्षा आयोजित करके एक आंतरिक मूल्यांकन किया जाता है| मूल्यांकन का यह हिस्सा अंकन योजना का 20% है| विवा वॉयस के लिए एक और 20% आवंटित किया गया है| बाकी यह विश्वविद्यालय द्वारा लिखित परीक्षा का मार्ग करता है|

इस पाठ्यक्रम की डिलीवरी विधि कक्षा संतुलन को रोकने के लिए कक्षा शिक्षण, सेमिनार, सम्मेलन, नैदानिक कार्य, समूह चर्चाओं और प्रदर्शनों को एक साथ जोड़ती है|

पाठ्यक्रम एक विश्वविद्यालय से दूसरे में भिन्न होता है| हालांकि, कुछ ऐसे विषय हैं, जो विभिन्न विश्वविद्यालयों के सभी पाठ्यक्रमों के लिए आम हैं|

बीडीएस कोर्स के बाद विकल्प (Options after BDS Course)

छात्र दंत चिकित्सा में स्नातकोत्तर की पढ़ाई करके अपने सीवी को आगे बढ़ाने के लिए आगे के अध्ययन के लिए जा सकते हैं| चिकित्सकीय सर्जरी स्नातक ऑपरेशनल दंत चिकित्सा, प्रोस्टहोडोंटिक्स, मौखिक दवा और रेडियोलॉजी, पीरियडोंटोलॉजी और मौखिक इम्प्लांटोलॉजी, मौखिक और मैक्सिलोफेशियल सर्जरी, रूढ़िवादी, एंडोडोंटिक्स और सौंदर्य दंत चिकित्सा जैसी विशेषज्ञता हासिल करने के लिए चिकित्सकीय सर्जरी के मास्टर का पीछा कर सकते हैं|

बीडीएस कोर्स (BDS Course) स्नातक एमबीबीएस के तीसरे वर्ष में पार्श्व प्रवेश ले सकते हैं|

यह भी पढ़ें- बीएससी नर्सिंग (B.Sc Nursing) कोर्स, प्रवेश प्रक्रिया, करियर और वेतन

तो इस प्रकार बीडीएस कोर्स (BDS Course) प्रवेश, अवधि, पात्रता, पाठ्यक्रम, वेतन और करियर, इस प्रक्रिया के तहत आप अपना करियर दंत चिकित्सा सेवा के क्षेत्र में बना सकते है|

प्रिय पाठ्कों से अनुरोध है, की यदि वे उपरोक्त जानकारी से संतुष्ट है, तो अपनी प्रतिक्रिया के लिए “दैनिक जाग्रति” को Comment कर सकते है, आपकी प्रतिक्रिया का हमें इंतजार रहेगा, यदि लेख से संबंधित कोई नई जानकारी आपके पास है, तो आपने Comment में जरुर लिखें, ये आपका अपना मंच है, लेख पसंद आने पर Share और Like जरुर करें|

शुभकामनाएं

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *