बच्चों में कब्ज (Constipation)

बच्चों में कब्ज (Constipation) के लक्षण, कारण, निदान और उपचार

बच्चों में कब्ज (Constipation) एक आम समस्या है, एक कब्ज (Constipation) हुआ बच्चा में बहुत मल त्याग, कठोर और सूखे मल करते है| सामान्य कारणों में प्रारम्भिक शौचालय प्रशिक्षण और आहार में परिवर्तन शामिल है, शौभाग्य से बच्चों में कब्ज (Constipation) के अधिकांश मामले अस्थाई होते है|

अपने बच्चे को सरल आहार परिवर्तन, जैसे की अधिक फाइबर युक्त फल और सब्जी खाने और अधिक तरल पदार्थ पिने के लिए प्रोत्साहित करना, को कब्ज (Constipation) दूर करने के लिए लम्बा रास्ता जा सकता है| यदि आपके बच्चे के चिकित्सक को मंजूरी दी जाती है, तो बच्चे के कब्ज को जुलाब के साथ इलाज करना संभव हो सकता है|

बच्चों में कब्ज के लक्षण

बच्चों में इस रोग के लक्षण इस प्रकार हो सकते है, जैसे-

1. एक सप्ताह में तीन से कम मल त्याग|

2. मल त्याग जो कठोर, सुखी और पारित करने के लिए कठिन होता है|

3. बड़े मल व्यास जो शौचालय में बाधा डाल सकते है|

4. मल त्याग होने के दौरान दर्द का होना|

5. पेट में दर्द का होना|

6. अपने बच्चों में कब्ज के डाइपर या अंदर लंगोट में तरल या मिट्टी जैसे मल के निशान, एक संकेत है की मल को मलाशय में बैकअप किया जाता है|

7. यदि आपका बच्चा डरता है की मल त्याग उसको चोट पहुचेगा, तो वह इससे बचने का प्रयास कर सकता है|

यह भी पढ़ें- मुंह के छाले कारण, लक्षण, रोकथाम, उपचार और निदान

चिकित्सक को कब दिखाएं

बच्चों में कब्ज (Constipation) आमतौर पर गंभीर नही होती है, हालाँकि पुरानी कब्ज जटिलताओं का कारण बन सकती है, और एक अनर्निहित स्थिति को संकेत कर सकती है| यदि आपको कब्ज 2 सप्ताह से अधिक समय तक रहती है, तो तुरंत चिकित्सक की सलाह लें| अन्य गंभीर स्थितियों में शामिल है, जैसे-

1. बुखार और उल्टी का होना|

2. पेट की सुजन और वजन का घटना|

3. गुदा के आसपास की त्वचा का दर्दनाक होना|

बच्चों में कब्ज के लक्षण

बच्चों में कब्ज सबसे अधिक होती है, जब पांचन के माध्यम से अपशिष्ट या मल धीरे धीरे चलता रहता है| जिससे मल और कठोर हो जाता है| कई कारकों में बच्चों में कब्ज करने में योगदान हो सकता है, जिनमें शामिल है, जैसे-

रोक- आपका बच्चा मल के चलने की आशंका को अनदेखा कर सकता है, क्योकि वह शौचालय से डरता है, कुछ बच्चे जब घर से दूर होते है, तो वे रोकते है, क्योंकि वे सार्वजनिक शौचालय का उपयोग कर असुविधाजनक होते है| बड़ी कठोर मल के कारण दर्दनाक मल त्याग को भी रोक सकता है, तो आपका बच्चा परेशान होने वाले अनुभव को दोहराने की कोशिश कर सकता है|

शौचालय परिक्षण के मुद्दे- यदि आप बहुत जल्दी शौचालय परिक्षण शुरू करते है, तो आपका बच्चा मल को रोक सकता है| यदि शौचालय परिक्षण इच्छाओं की लड़ाई बन जाती है| तो एक स्वैच्छिक निर्णय को झकझोरने की इच्छा को अनदेखा करने के लिए जल्दी से एक अनेछिक आदत बन सकती है, जिसको बदलना मुश्किल हो सकता है|

यह भी पढ़ें- पेट का दर्द के कारण, लक्षण, उपचार और निदान

आहार में परिवर्तन- आपके बच्चे के भोजन में पर्याप्त फाइबर युक्त फल और सब्जियां या तरल पदार्थ कब्ज पैदा कर सकते है| बच्चों के लिए अधिक सामान्य समय में से एक को समझा जा सकता है| जब वे सभी तरल आहार से एक को बदलते है, जिसमे ठोस पदार्थ शामिल होते है|

दिनचर्या में परिवर्तन- आपके बच्चे की दिनचर्या में कोई भी परिवर्तन जैसे यात्रा, गर्म मौषम या तनाव मल त्याग को प्रभावित कर सकता है, इससे बच्चों को कब्ज होने की अधिक संभावना बनती है| जब वे घर से बहार स्कुल जाते है|

दवाएं- कुछ दवाएं जो बच्चा अन्य कारणों से ले रहा है वे भी कब्ज कर सकती है|

दूध- डेयरी का दूध और अन्य उत्पाद भी बच्चे को कब्ज की और ले जाते है|

पारिवारिक- जिन बच्चों के परिवार के सदस्यों को कब्ज का अनुभव होता है, उन बच्चों में कब्ज विकास की अधिक संभावना बनी रहती है| यह साँझा अनुवांशिक या पर्यावरण कारकों के कारण हो सकता है|

चिकित्सा- शायद ही बच्चों में एक शारीरिक विकृति, पाचन तंत्र की समस्या या किसी अन्य अंतर्निहित स्थिति को इंगित कर सकता है|

बच्चों में कब्ज की जटिलताएँ

यदपि बच्चों में कब्ज असहज हो सकती है, यह आमतौर पर गंभीर नही है| यदि कब्ज पुरानी हो जाती है| तथापि जटिलताओं में शामिल हो सकती है, जैसे-

1. गुदा के आसपास की त्वचा का दर्दनाक होना|

2. गुदा के अंदर की त्वचा का बहार निकलना|

3. दर्द के कारण मल त्याग से बचना

यह भी पढ़ें- बच्चों की अपच के लक्षण, कारण, उपचार, निदान और रोकथाम

निवारण (Prevention)

बच्चों में कब्ज रोकने के लिए प्रयास, जैसे-

1. अपने बच्चे को उच्च फाइबर युक्त खाद्य पदार्थ खिलाना सुनिश्चित करें, जैसे फल, सब्जियां और पूरा अनाज|

2. अपने बच्चे को बहुत सारे तरल पदार्थ पिने के लिए प्रोत्साहित करें, इनमे साफ पानी सबसे उपयुक्त है|

3. शारीरिक गतिविधि को बढ़ावा देना, क्योंकि शारीरिक गतिविधि मल त्याग को उतेजित करने में मदद करती है|

4. टॉयलेट के लिए एक दिनचर्या बनाएं, और संभव हो तो बच्चे के लिए एक स्टूल की भी व्यवस्था करें|

5. कुछ बच्चे खेल खेल में मल त्याग की आशंका भूल जाते है, तो इसका विशेष ध्यान रखे, मल त्याग में देरी कब्ज को बढ़ाती है|

6. यदि आपका बच्चा दवा ले रहा है, तो चिकित्सक की सलाह में दवा की समीक्षा करें|

बच्चों में कब्ज का निदान

एक चिकित्सक आपको आपके बच्चे की पिछली बिमारियों के बारें में पूछ सकता है, इसके साथ उसके आहार और शारीरिक गतिविधियों की जानकारी भी प्राप्त कर सकता है| बच्चे के मल का परिक्षण भी किया जा सकता है| अत्यधिक व्यापक परिक्षण आमतौर पर केवल कब्ज के सबसे गंभीर मामलों के लिए आरक्षित है, यदि आवश्यक हुआ तो ये परिक्षण भी शामिल हो सकते है, जैसे-

गतिशीलता परिक्षण- इस परिक्षण में एक पतली ट्यूब जिससे कैथेटर कहा जाता है, इससे आपके बच्चे मल की मांसपेशियों के समन्वय को मापते है|

वेरियम एनिमा एक्सरे- इस परिक्षण द्वारा मल की परत को एक विपरीत रंग के साथ लेपित किया जाता है| ताकि एक्सरे में मलाशय बृहदान्त्र और कभी कभी छोटी आंत का हिस्सा स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है|

रेक्टल बायोप्सी- इस परिक्षण में उत्तक का छोटा नमूना मलाशय के अस्तर से लिया जाता है, यह देखने के लिए की तंत्रिका कोशिकाएं सामान्य है या नही|

मार्कर अध्ययन- इस परिक्षण में आपका बच्चा एक कैप्सूल को निगलेगा, जिसमें मार्कर शामिल है| इसके बाद उसका एक्सरे किया जरा है|

रक्त परिक्षण- कभी कभी रक्त परिक्षण भी किया जाता है, यह जानने के लिए की कोई अन्य समस्या तो नही है|

यह भी पढ़ें- टॉन्सिलिटिस के लक्षण, कारण, निदान और उपचार

बच्चों में कब्ज का इलाज

चिकित्सक परिस्थितियों के आधार पर आपके बच्चे का इलाज का सुझाव दे सकता है, जैसे-

1. यदि आपके बच्चे को अपने आहार में बहुत सारे फाइबर नही मिलते तो मेट्म्युसिल सिट्रससेल जैसे ओवर द काउंटर फाइबर पूरक को जोडकर मदद मिल सकती है| हालाँकि इन उत्पादों के अच्छी तरह काम करने के लिए आपके बच्चे को कम से कम 32 औंस यानि करीब एक लिटर पानी पीना चाहिए| अपनने बच्चे की उम्र और वजन की सही मात्रा का पता लगाने के लिए, चिकित्सक से सलाह आवश्यक है|

2. ग्लिसरीन- इसका उपयोग किया जा सकता है, बच्चों में मल को नर्म करने के लिए जो गोलियां नही निगल सकते उसकी जगह ग्लिसरीन का उपयोग किया जा सकता है|

3. एनिमा- यदि फैकल सामग्री का एक संचय एक रुकावट पैदा करता है, तो आपके बच्चे की चिकित्सा रुकावट दूर करने में मदद करने के लिए रेचक या एनिमा का सुझाव दे सकते है| उदाहरण के लिए पॉलीथिन ग्लोइकल और खनिज तेल शामिल है|

नोट- बिना चिकित्सक की सलाह के कोई भी परिक्षण और दवा हानिकारक हो सकती है, इसलिए कोई भी परिक्षण और दवा चिकित्सक की सलाह में ही लेनी चाहिए|

यह भी पढ़ें- सिरदर्द होना के प्रकार, कारण, लक्षण, निदान और उपचार

प्रिय पाठ्कों से अनुरोध है, की यदि वे उपरोक्त जानकारी से संतुष्ट है, तो अपनी प्रतिक्रिया के लिए “दैनिक जाग्रति” को Comment कर सकते है, आपकी प्रतिक्रिया का हमें इंतजार रहेगा, ये आपका अपना मंच है, लेख पसंद आने पर Share और Like जरुर करें|

2 thoughts on “बच्चों में कब्ज (Constipation) के लक्षण, कारण, निदान और उपचार”

  1. मेरे बच्चे की उम्र 4साल है! वह 3साल से कब्ज से बहुत परेशान है! हमने बहुत से डॉक्टरों को दिखाया परन्तु कही पर भी किसी भी दवाई से उसे कब्ज मे आराम नही मिला है! वह प्रतिदिन कब्ज की दवाई लेता है! फिर भी दूसरे से तीसरे दिन उसकी पोटी टाइट हो जाती है! हमे इसकी इस बिमारी का कही पर भी स्टीक आवाज नही मिला है! कृपया उचित सलाह दे!

  2. मेरे बच्चे की उम्र 4साल है! वह 3साल से कब्ज से बहुत परेशान है! हमने बहुत से डॉक्टरों को दिखाया परन्तु कही पर भी किसी भी दवाई से उसे कब्ज मे आराम नही मिला है! वह प्रतिदिन कब्ज की दवाई लेता है! फिर भी दूसरे से तीसरे दिन उसकी पोटी टाइट हो जाती है! हमे इसकी इस बिमारी का कही पर भी स्टीक आवाज नही मिला है! कृपया उचित सलाह दे!

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *