बच्चों की उल्टी (Vomiting)

बच्चों की उल्टी (Vomiting) के कारण, लक्षण, उपचार और रोकथाम

बच्चों की उल्टी (Vomiting) बच्चे की जठरांत्र प्रणाली को अपने पेट में बुरी चीजों से छुटकारा पाने में मदद करता है| लेकिन आपका छोटा बच्चा लगतार या बहुत अधिक बार उल्टी करता है, तो यह अंतर्निहित कारण हो सकता है| यदि आप अक्सर अपने बच्चों की उल्टी (Vomiting) के कारण चिंतित है| तो मुहं के माध्यम से पेट की सामग्री का सशक्त निष्कासन या कभी कभी यह नाक के द्वारा भी संभव है|

बच्चा यह तभी करता है, जब उसके पेट में भोजन की अधिकता, जठरांत्र, दूषित भोजन या फिर उसको कोई बीमारी हो| तो आपको बच्चे के लिए चिकित्सक की सलाह में यह सुनिश्चित करना चाहिए की इसका कारण क्या है| बिना बीमारी की उल्टी एक स्वभाविक क्रिया है, यह कोई बीमारी नही है| कुछ बच्चों की उल्टी (Vomiting) के सामान्य प्रकार इस प्रकार है, जैसे-

दूध का फटना- यह जब होता है, जब आपका बच्चा स्तनपान करता है, तो उसके पेट में दूध की मात्रा की अधिकता के कारण हो सकता है|

प्रतिवाह- यह उल्टी (Vomiting) आमतौर पर शिशुओं में होती है, जब बच्चे का शीर्ष बाल्व गलती से खुला रह जाता है, तो भोजन, भोजन पाइप से उल्टा आ सकता है, यह कोई बीमारी नही है| यह समय के साथ ठीक हो जाता है|

उल्टी का प्रक्षेप्य- ऐसा तब होता है, जब आपका बच्चा अपने पेट की सामग्री का एक शक्तिशाली तरीके से उजागर करता है|

यह भी पढ़ें- नवजात शिशुओं के नेत्र दुखना- कारण, लक्षण, उपचार

बच्चों की उल्टी होने के कारण

आइए यहां हम कुछ सामान्य बच्चों की उल्टी (Vomiting) होने वाले कारणों को जानने की कोशिश करते है, जैसे-

आंत्रशोध 

1. जब आपका बच्चा पेट का फ्लू संक्रमण रोग से ग्रस्त है, तो वह नियमित रूप से समय समय पर उल्टी करता रहता है|

2. बच्चों में आंत्रशोध होने के लिए रोगाणुओं में वैक्टीरिया, वायरस और परजीवी शामिल हो सकते है| इससे होने वाले दस्त गंभीर हो सकते है|

भोजन एलर्जी 

1. आपके बच्चे के पेट में एक अवांछित प्रक्रिया को भडकाने के लिए कई खाद्य पदार्थ मौजूद हो सकते है, जैसे अंडे, मूंगफली, सेलफिस, गेहूं और दूध आदि|

2. आपका बच्चा एलर्जी वाले खाद्य पदार्थ ग्रहण करने के बाद उल्टी और उसके साथ दर्द का अनुभव भी कर सकता है|

तनाव 

1. जब आपका बच्चा भारी भावनात्मक गलतियों से ग्रस्त होता है, किसी नए स्कुल में प्रवेश दिलाना, प्रतियोगिता में भाग लेना या परीक्षाओं का दबाब, तो वह अक्सर मितली और वोमिटिंग कर सकता है|

2. बच्चों पर आपकी प्रतिक्रिया भी भावनात्मक दबाब बना सकती है|

यह भी पढ़ें- पेट का दर्द के कारण, लक्षण, उपचार

विषाक्त भोजन 

1. खाद्य विषाक्ता गंभीर नली और उल्टी के मुकाबले का अनुभव करने के लिए आपके बच्चे में इस समस्या की संभावना को बढ़ता है|

2. अधपका भोजन, मीट्स और डेयरी उत्पादों में मौजूद हानिकारक कीटाणु अक्सर भोजन के जहर का कारण बनता है|

3. बच्चों में विषाक्त भोजन से होने वाली अन्य प्रतिक्रिया जैसे पेट दर्द, अतिसार और मितली भी हो सकती है|

कब्ज 

जब आपका बच्चा एक संक्रमित बीमारी से गुजर रहा हो तो पेट में एसिड और पाचनतंत्र में रुकावट के कारण इस समस्या का सामना कर सकता है|

तंत्रिका 

जब आपका बच्चा एक भावनात्मक आघात या मस्तिष्क के ट्यूमर से ग्रस्त होता है, तो सुजन से होने वाले गंभीर दबाब से वोमिटिंग हो सकती है|

अन्य बीमारियाँ 

1. कुछ अन्य बीमारियाँ होती है, जो आपके बच्चे को उल्टी के लिए बाध्य कर सकती है, जैसे एसिड का उतराव चढ़ाव, कान संक्रमण, सूअर फ्लू और मौसमी एलर्जी और बुखार आदि|

2. एंटीबायोटिक या दर्दनिवारक जैसे कुछ मजबूत दवाओं के दुष्प्रभाव आपके बच्चे को इस समस्या से ग्रस्त कर सकता है|

3. पथरी छोटे बच्चों में इस समस्या का कारण हो सकता है|

यह भी पढ़ें- खांसी होने के कारण, लक्षण, उपचार और निदान

बच्चों की उल्टी के लक्षण

बच्चों की उल्टी के कुछ लक्षण इस प्रकार है, जैसे-

1. जी मिचलाना और निर्जलीकरण

2. चक्कर आना और तेजी से दिल का धडकना

3. पिली त्वचा और चिडचिडाप

4. नींद, दस्त और बुखार का होना

5. पेट दर्द, सुजन और लार का टपकना

6. गंभीर सिरदर्द और भूख की कमी

7. निर्जलीकरण बच्चों की उल्टी के सबसे दुष्प्रभावो में से एक है, जैसे शुष्क मुंह, तेज और गहरी सांस, रोने के दौरान आंसू न आना, थकान अत्यधिक निंद्रा, पेशाब की कम आवृति और धंसी हुई आँखे आदि|

बच्चों की उल्टी का निदान

चिकित्सक आपके बच्चे की भौतिक स्थिति का बारीकी से अध्ययन करेगा और आपसे पूछ सकता है की उल्टी (Vomiting) से पहले उसके बाद बच्चे की प्रतिक्रिया क्या है, क्या भोजन और पेय पिलाते है आदि| उसी के आधार पर चिकित्सक उपचार की प्रक्रिया शुरू करता है और कुछ परिक्षण के लिए भी सुझाव दे सकता है, जैसे-

रक्त परिक्षण इस परिक्षण से चिकित्सक यह जाने की कोशिश करता है, की बच्चे कोई कोई संक्रमण या गंभीर बीमारी तो नही है|

अल्ट्रासाउंड- ध्वनी तरंग शरीर के आन्तरिक अंगो को प्रदर्शित कर सकती है, इससे चिकित्सक को साफ पता चल जाता है की बच्चे को कोई पाचन समस्या है या नही|

सीटी- एक्सरे मशीन आपके बच्चे के पेट की ज्वलंत तस्वीर लेता है एक कंप्यूटर द्वारा इससे डॉक्टर देख के बता सकता है की बच्चे को क्या समस्या है|

यह भी पढ़ें- दांत का दर्द के लक्षण, कारण और उपचार

बच्चों की उल्टी का इलाज

उपचार आपके बच्चे की गंभीरता और उसकी स्थिति पर निर्भर करता है, फिर भी एक चिकित्सक उपचार के पहले लक्ष्य में यह सुनिश्चित करना चाहेगा, की तरल पदार्थ के नुकशान के कारण आपके बच्चे का निर्जलीकरण न हो इसके लिए चिकित्सक आपके बच्चे को अस्पताल में भर्ती भी कर सकता है|

बच्चों की उल्टी के इलाज के कुछ प्रकार इस प्रकार हो सकते है, जैसे-

1. विरोधी मितली दवा- ये दवा प्रभावी रूप से आपके बच्चे के पेट को शांत करती है, और वोमिटिंग की समस्या को दूर करती है|

2. एंटीबायोटिक- आपके बच्चे को फ्लू और बैक्टीरिया संक्रमण के हमलों से लड़ने के लिए, एंटीबायोटिक दवाओं का सुझाव दे सकता है|

3. एक मौखिक रिहाईड्रेसन समाधान- गंभीर निर्जलीकरण को रोकने के लिए आपके बच्चे को ओआरएस लेने की आवश्यकता हो सकती है| इस समाधान में पानी, लवण और चीनी शामिल है|

यह भी पढ़ें- मलेरिया बुखार के लक्षण, कारण, जोखिम और उपचार

प्रिय पाठ्कों से अनुरोध है, की यदि वे उपरोक्त जानकारी से संतुष्ट है, तो अपनी प्रतिक्रिया के लिए “दैनिक जाग्रति” को Comment कर सकते है, आपकी प्रतिक्रिया का हमें इंतजार रहेगा, ये आपका अपना मंच है, लेख पसंद आने पर Share और Like जरुर करें|

5 thoughts on “बच्चों की उल्टी (Vomiting) के कारण, लक्षण, उपचार और रोकथाम”

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *