बच्चा जनने (Postpartum)

बच्चा जनने (Postpartum) के बाद का दर्द, राहत के उपाय

आप शायद यह मान सकते हैं कि गर्भावस्था के दौरान आपको ऐंठन और दर्द के आपके हिस्से होते हैं, लेकिन यह क्या है कि आप अभी भी बच्चा जनने के बाद का दर्द (Postpartum) के बाद अनुभव कर रहे हैं? प्रसव के बाद, आपके शरीर को पूर्व-गर्भावस्था की स्थिति में लौटने के लिए कुछ समय लगता है, और इस अवधि में, तीव्र दर्द होना सामान्य है|

बच्चा जनने के बाद का दर्द क्या हैं

बच्चा जनने के बाद का दर्द (Postpartum) असुविधाजनक दर्द है, जो संकेत करता है कि शरीर अपने गैर-गर्भवती स्थिति में वापस आ रहा है| वे बच्चे के जन्म के कुछ दिनों बाद रहते हैं, और उनके आवृत्तियों में भिन्न होती हैं|

शरीर में कई प्रकार के बदलावों के कारण जो शरीर में प्रसवोत्तर के माध्यम से जाता है, आपको शरीर के विभिन्न भागों में दर्द का अनुभव हो सकता है|

यह भी पढ़ें- स्तन में फोड़ा हो जाना के कारण, लक्षण, निदान, रोकथाम और इलाज

बच्चा जनने के बाद का पीठ दर्द

गर्भावस्था के दौरान आपके शरीर में होने वाले शारीरिक परिवर्तनों के कारण आपको दर्द हो सकता है| श्रम के दौरान शारीरिक तनाव दर्द की वजह से पीठ की मांसपेशियों में तनाव पैदा करता है, जो तब तक रहता है जब तक कि मांसपेशियों में उनकी ताकत फिर से न लोट आए या कुछ महीनों तक|

अगर गर्भावस्था से पहले आपको पीठ दर्द हुआ था, तो प्रसव के बाद (Postpartum) होने की संभावना बहुत अधिक है| अधिक वजन होने से जोखिम बढ़ जाता है|

पेट में दर्द कम ऊपरी

गर्भाशय के लम्बे समय तक संकुचन और स्तनपान के कारण पेट के बाद के पेट में दर्द कम हो सकता है| कभी-कभी, दर्द भी जननांग संक्रमण या एपेंडेसिटीिस जैसी जटिलताओं का परिणाम हो सकता है| ऊपरी पेट का दर्द दुर्लभ है, और संक्रमण के कारण हो सकता है| हालांकि, आपको अपने चिकित्सक से बात करनी चाहिए|

बच्चा जनने के बाद श्रोणी दर्द

गर्भावस्था के दौरान, हार्मोन प्रसव के लिए विस्तार और अनुबंध करने के लिए श्रोणी हड्डियों को उत्तेजित करता है| स्नायुबंधन ढीले, और किसी भी गतिविधि (यहां तक कि चलने) गर्भावस्था के बाद श्रोणि दर्द का कारण बनता है| प्रसव के दौरान बच्चा जनने के बाद श्रोणि दर्द भी श्रोणी ऊतकों और मांसपेशियों में आंसू के कारण होता है| श्रोणी का दर्द भी पेशाब में कठिनाई, आंत्र आंदोलनों के दौरान दर्द और संभोग के दौरान भी हो सकता है|

यह भी पढ़ें- मूत्रमार्ग शोथ के कारण, लक्षण निदान और उपचार

पैर दर्द (Foot Pain)

बच्चा जनने (Postpartum) के बाद पैर की ऐंठन सामान्य है, क्योंकि गर्भ के दौरान अतिरिक्त शरीर का वजन पैर की मांसपेशियों पर दबाव डालता है| प्रसवोत्तर हार्मोनल परिवर्तन जोड़ों और स्नायुबंधन को आराम देता है, जिससे पैर की ऐंठन बढ़ जाती है| श्रम के दौरान दिए गए अंतःशिरा तरल पदार्थ, नर्सिंग करते हुए लंबे समय तक बैठे, और नींद की कमी, पैर की दर्द के लिए अन्य कारण हैं|

कूल्हे का दर्द 

प्रसव के बाद कूल्हे और श्रोणि की हड्डियां आघात के रूप में हिप दर्द आमतौर पर योनि वितरण में सामान्य होती है| यदि बच्चे को देने में कठिनाई होती है, तो संदंश या वैक्यूम का उपयोग हिप क्षेत्र को खरोंच, विचलित कर सकता है, या फ्रैक्चर भी सकता है, जिसके कारण आगे दर्द हो सकता है| लेकिन, यदि दर्द गंभीर है, और दो सप्ताह से अधिक समय तक रहता है, तो आपको चिकित्सक से परामर्श करना चाहिए

छाती में दर्द 

श्रम या छाती संक्रमण के दौरान शारीरिक रूप से तनावपूर्ण मांसपेशियों के कारण गर्भावस्था के बाद छाती में दर्द हो सकता है| यह फुफ्फुसीय अन्त: शल्यता का एक परिणाम भी हो सकता है (फेफड़े की धमनी को अवरुद्ध करने वाले फेफड़ों में एक रक्त का थक्का)| किसी भी गंभीर दर्द, सांस की तकलीफ या खून खराबी के लिए तत्काल चिकित्सा सहायता की आवश्यकता होती है|

प्रसव के बाद सिरदर्द

ऑक्सीटोसिन हार्मोन ली के कारण आपको स्तनपान के दौरान सिर दर्द का अनुभव हो सकता है| इसे स्तनपान कराने वाला सिरदर्द कहा जाता है| यह कुछ हफ्तों तक रहता है, या तब तक जारी रहता है| जब बच्चे का दूध छुड़ाना पड़ता है| हालांकि, यदि आपके पास लगातार सिर दर्द है, तो अपने चिकित्सक से परामर्श करें|

पेट दर्द खाने के बाद

गुदा असुविधा या बेकाबू गैस के कारण भोजन खाने के बाद पेट दर्द सामान्य होने पर प्रसव के छह माह तक रहता है| यदि आप लैक्टोज असहिष्णु हैं, या पूरे अनाज, सेम, फलों और सब्जियों का आहार ले रहे हैं, तो यह ऐंठन और असुविधा के साथ पेट में दर्द का खतरा बढ़ सकता है|

यह भी पढ़ें- स्तन ढीले होना के कारण, लक्षण, निदान, रोकथाम

गर्भाशय दर्द

प्रसव के बाद गर्भावस्था के पूर्व-गर्भावस्था के आकार में आने के लिए छह से आठ सप्ताह लगते हैं| रीसाइजिंग के दौरान संकुचन में प्रसवोत्तर गर्भाशय के दर्द और समय में कम होता है| स्तनपान और बाद में गर्भधारण के दौरान ये दर्द महसूस किया जा सकता है|

बाद का स्तन दर्द

प्रसव के बाद पहले सप्ताह में, पहले स्तनपान (कोलोस्ट्रम) के कारण स्तन बड़े और निविदा महसूस करते हैं| चाहे आप स्तनपान कर लेते हैं, या नहीं, इसके बावजूद बच्चा जनने (Postpartum) के बाद का स्तन दर्द के कारण स्तन वृद्धि होगी| कुछ दिनों में दर्द दूर चला जाएगा, लेकिन यदि यह अधिक रहता है, तो आपको चिकित्सक से जांच करनी चाहिए|

जांघ का दर्द

श्रोणि क्षेत्र स्नायुबंधन श्रम के दौरान खिंचाव और तीव्र दर्द या सुस्त दर्द है, कि जांघों में विस्तार का कारण है| दर्द को अपने बाहों में चारों ओर बच्चे को ले जाने के लिए जिम्मेदार ठहराया गया है, यह लगभग तीन महीने में कम हो जाता है|

उपरोक्त के अलावा, पसलियों का दर्द, पेट को धड़कना शुरू होता है, पीठ दर्द होता है, और जोड़ों जैसे कलाई, टखनों, और दूसरों को चोट लगती है, ये दर्द संकोचन और दबाव के कारण होता है| जो शरीर श्रम के दौरान चला गया है| नर्सिंग और अपने बच्चे को पकड़ने की स्थिति में भी शरीर में बच्चा जनने (Postpartum) के बाद का दर्द हो जाता है|

दर्द के कारण

जबकि शरीर में प्रसव का दबाव पड़ता है, और दबाव दर्द का मुख्य कारण हैं, इसके अलावा अन्य कारण भी हैं| गर्भावस्था के दौरान, गर्भाशय अपने सामान्य आकार से 25 गुना तक फैलता है, और एक बास्केटबॉल के रूप में बड़ा होता है| यह तब एक छोटे नाशपाती के आकार को छोटा करता है| यह सिकुड़ने के कारण जन्म के समय दर्द और ऐंठन का कारण बनता है|

स्तनपान कराने के बाद गर्भावस्था के बाद दर्द और ऐंठन का एक और कारण है| बच्चा चूसने से ऑक्सीटोसिन का उत्पादन उत्तेजित होता है, जिससे संकुचन होता है, और इस तरह दर्द होता है| अगर आपके पास सी-सेक्शन होता है, तो आपको लंबी अवधि तक रहने वाली खींचती अनुभूति के साथ पेट की दर्द का अनुभव होगा|

यह भी पढ़ें- स्तनों में दूध की कम आपूर्ति होना कारण, लक्षण और उपचार

दर्द का होम उपचार

यदि आपका चिकित्सक आपको सलाह देता है, तो आप इन घरेलू उपचारों की कोशिश कर सकते हैं, जो बाद में आने वाली ऐंठन को दूर करने में मदद करते हैं, जैसे-

गर्म पानी सेक- गर्म जल उपचार अप्रिय पेट कोमलता और पीड़ा को ठीक करने का सबसे अच्छा तरीका है| क्योंकि यह गर्भाशय को संक्रमित करता है, और रक्त परिसंचरण में सुधार करता है, जिससे कम पेट और गर्भाशय दर्द में राहत मिलती है| गरम पानी को लागू करने से संक्रमित गर्भाशय को कम कर देता है, और रक्त परिसंचरण में सुधार होता है|

चावल पानी- अतिरिक्त पानी में चावल उबाल लें, और दिन में दो बार गुनगुना पानी पी लें| यह पानी पेट क्षेत्र को धोता है, पाचन में सुधार करता है, और कब्ज को रोकता है|

अदरक की चाय- अदरक विरोधी भड़काऊ है, और एक उत्कृष्ट कसैले और एंटीसेप्टिक है, जो पेट और कूल्हे के दर्द से राहत के बाद जन्म के बाद दर्द और ऐंठन को रोकता है|

उबलते पानी के एक कप के साथ कुछ अदरक डालकर अदरक की चटनी कर दीजिए| आप दस पेर्स्ली पत्ते भी जोड़ सकते हैं, और कुछ समय के लिए उन्हें उबाल कर सकते हैं| स्वाद के लिए शहद जोड़ें और दिन में दो बार इसे लें|

सौंफ़ चाय- सौंफ़ के बीज में भी विरोधी भड़काऊ और एनाल्जेसिक गुण हैं, जो कि पोस्ट गर्भावस्था के दर्द से मुक्त होने पर काम करते हैं| दो कप पानी में सौंफ़ के दो बड़े चम्मच जोड़कर सौंफ चाय तैयार करें, दस मिनट के लिए उबाल लें, इसे ठंडा करें, और स्वाद के लिए शहद जोड़ें, आप इसे एक दिन में दो बार पी सकते हैं|

गर्म पानी के स्नान- गर्म पानी में स्नान करने से कूल्हे और गर्भाशय के दर्द कम हो जाएंगे| आप लगभग 30 मिनट के लिए एक बाथटब में भिगो सकते हैं, लेकिन सुनिश्चित करें, कि तापमान इतना गर्म नहीं हो, दर्द को कम करने और त्वचा को शांत करने के लिए दिन में दो बार कोशिश करें

नींबू चाय- अधिकांश प्रसूति समस्याओं कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली के कारण हैं| आपको अधिक विटामिन सी लेना चाहिए, जो नींबू, भारतीय गाय या बकरी के दूध में प्रचुर मात्रा में है| एक कप पानी उबालें, इसे ठंडा करें, और फिर दो नींबू का निचोड़ा हुआ नींबू का रस जोड़ें| अपने प्रतिरक्षा तंत्र को बढ़ावा देने के लिए दिन में दो बार इसे पीना चाहिए, और यह पेट की ऐंठन से राहत में भी मदद करता है|

ताजा पुदीना- पुदीना में सुखदायक गुण हैं, जो बच्चा जनने (Postpartum) के बाद के पेट के दर्द और सिरदर्द को राहत देने में सहायता करते हैं|

उबले हुए पानी के एक कप में पुदीना पत्ते जोड़ें, और इसे लगभग दस मिनट के लिए उबाल लें| इसे ठंडा करें, और पीने से पहले नींबू का रस जोड़ें| इसे दो बार पीने से पेट में दर्द और ऐंठन कम हो जाती है|

तेल मालिश- आप अपने साथी को धीरे-धीरे अपने पेट को तेल के मिश्रण के साथ मालिश करने के लिए कह सकते हैं| तेल मिश्रण बनाने के लिए, पांच बूंदों के लैवेंडर का तेल, दस बूँदें सरू का तेल15 बूंदों के पेपरमिंट तेल और एक औंस वाहक तेल (जॉज़्बा, जैतून, मिठाई बादाम या नारियल तेल) लें| मालिश करने के लिए, नाभि पर हाथ रखो और धीमी गति में चलें, क्योंकि यह संकोचनों को उत्तेजित करेगा, और आपके गर्भाशय फर्म को बनाएगा|

यह भी पढ़ें- स्तनों में दूध की वृद्धि के कारण, उपचार, और जटिलताएं

कुछ अन्य उपाय

घरेलू उपचार के अलावा, आप कुछ अतिरिक्त सुझावों की कोशिश कर सकते हैं, जो पश्चपात्र ऐंठन के दर्द और तीव्रता को कम करने में मदद करते हैं, जैसे-

अक्सर पेशाब- यदि आप आग्रह नहीं करते हैं, तो भी अक्सर प्रायः पेशाब एक पूर्ण मूत्राशय आपको असुविधाजनक बनाता है, गर्भाशय का विस्थापन करता है, और ऐंठन को बिगड़ता है|

गहरी साँस लेने- गहरी साँस लेने की तकनीक और ध्यान का अभ्यास करें, क्योंकि वे गर्भाशय के संकुचन में मदद कर सकते हैं, और आपको जन्म के समय की ऐंठन से मुक्त कर सकते हैं|

नीचे सो जाएं- आप अपने पेट के नीचे एक तकिया रख के चेहरा निचे झुका कर सो सकते है| इससे आपको दर्द से छुटकारा दिलाने में मदद मिलेगी|

यदि उपरोक्त युक्तियों में से कोई भी मदद नहीं करता है, तो आपको सबसे अच्छा दर्द निवारण विकल्पों के बारे में जानने के लिए अपने चिकित्सक से बात करनी चाहिए|

ध्यान रखें कि अपने आप को अच्छी तरह से देखभाल करने के लिए परवरिश शैली का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है| अपने बच्चे की देखभाल करने के लिए आपको खुद को कुछ समय देना चाहिए| यदि आप दर्द में हैं, तो आप अपने बच्चे की जरूरतों पर ध्यान नहीं दे सकते है|

यह भी पढ़ें- नपुसंकता के लक्षण, कारण, निदान, उपचार, दृष्टिकोण

प्रिय पाठ्कों से अनुरोध है, की यदि वे उपरोक्त जानकारी से संतुष्ट है, तो अपनी प्रतिक्रिया के लिए “दैनिक जाग्रति” को Comment कर सकते है, आपकी प्रतिक्रिया का हमें इंतजार रहेगा, ये आपका अपना मंच है, लेख पसंद आने पर Share और Like जरुर करें|

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *