फोड़ा या फुंसी- कारण, लक्षण व इलाज

फोड़ा या फुंसी- कारण, लक्षण व इलाज ! Treatment of Boil

फोड़ा या फुंसी (Boil) एक त्वचा संक्रमण है| यह सटैफिलोकोकस व युस नामक जीवाणु के कारण होता है| फोड़ा या फुंसी (Boil) बाल कूप या तेल ग्रन्थियों से शुरु होता है| सबसे पहले संक्रमित क्षेत्र की त्वचा लाल हो जाती है और वह त्वचा के अंदर एक गाठ बन जाती है| तीन से सात दिन बाद इसका मुह सफेद होने लगता है| क्योंकी त्वचा के निचे मवाद भरा हुआ है|

फोड़ा या फुंसी (Boil) उभरने के सबसे सामान्य स्थान चेहरा, गर्दन, बगल, कंधे और नितंबों पर होते है| वसे यह कहि भी और किसी भी उम्र मे और किसी भी व्यक्ति को हो सकता है| यदि त्वचा के किसी हिस्से में एक से अधिक फोड़ा या फुंसी (Boil) दिखाई देते है तो यह एक गंभीर संक्रमण है| जिसको कार्बाइनल कहते है|

यह भी पढ़ें- जलना (Burn) के प्रकार, दृष्टिकोण, जटिलताएं, निवारण और उपचार

हालाँकि यह कोई बीमारी नही है| परन्तु फोड़ा या फुंसी का दर्द असहनीय होता है| इसलिए इसका उपचार जरूरी है आइए जानते है इसके लक्षण कारण और इलाज| फुंसी का इलाज आप आयुर्वेदिक या घरेलू तरीके से भी कर सकते है| यदि आप फोड़ा या फुंसी का आयुर्वेदिक व घरेलू इलाज चाहते है, तो यहां पढ़ें- आयुर्वेदिक व घरेलू इलाज

फोड़ा या फुंसी के कारण

1. ये स्वास्थ्य समस्याए त्वचा की संक्रमण के लिए लोगों को अधिक संवेदनशील बनाती है|

2. फोड़ा (Boil) एक त्वचा संक्रमण है जो बाल कूप या तेल ग्रन्थियों में शुरु होता है| सबसे पहले संक्रमण के क्षेत्र में त्वचा लाल हो जाती है|

3. त्वचा के टूटने फटने के कारण, पपड़ी, सेविंग, प्रवेश बालो, कीटों के काटने या फिर शरीर की अन्य बीमारी भी फोड़े या फुंसी का कारण बन सकता है|

4. उपरी त्वचा परतों में छोटे सतही रक्त वाहिकाओं के कुछ फैलाव हो सकते है जिससे त्वचा लाल या पिली दिख सकती है|

5. यदि मनुष्य के खून में कोई विकार या दोष है तो भी फुंसी या फोड़ा हो सकता है|

यह भी पढ़ें- मकई और कॉल्स होने के लक्षण, कारण, निदान और उपचार

6. इसका मुख्य कारण यह त्वचा में मौजूद जीवाणु स्टेफ़ीलोकौसी के कारण भी होता है|

फोड़ा के लक्षण

1. फुंसी (Boil) बाल के चारों और लाल पस से भरा हुआ होता है जो कोमल, गर्म और बहुत ही पीड़ादायक होता है|

2. फोड़ा पकने पर उसके केंद्र में सफेद या पिली टिकी बन जाती है|

3. इस गंभीर संक्रमण के कारण थकान, सुजन और बुखार भी हो सकती है|

4. फोड़ा केंद्र के आस पास अधिक फुंसी दिखाई दे सकती है|

5. फोड़ा या फुंसी के बिंदु के आसपास सुजन हो सकती है|

फुंसी का इलाज

जब फोड़ा का दर्द असहनीय हो जाता है तो आप चिकत्सक के पास जाते है| चिकित्सक आप से पूछताछ के बाद आप के कुछ टेस्ट करवा सकता है आवस्यकता के अनुसार| और उसी टेस्ट के अनुसार आप का इलाज करता है| फिर आप को दवा की सिफारिस करता है वे दवा इस प्रकार हो सकती है| कोई भी दवा बिना चिकित्सक की सलाह के जानलेवा हो सकती है|

यह भी पढ़ें- मलेरिया बुखार के लक्षण, कारण, जोखिम, निदान और उपचार

अमोक्सिसिललिन (Amoxicillin)

1. यह दवा एक एंटीबायोटिक है| इसका उपयोग संवेदी सूक्ष्मजीवों के कारण जीवाणु संक्रमण का इलाज करने के लिए किया जाता है|

2. यह वैक्टीरिया की वृद्धि को रोकती है और निमोनिया, ब्रोंकाइटीस, गोनोरिया, कान, नाक, गले और त्वचा संक्रमण में इसका उपयोग किया जाता है|

3. इस दवा की सिफारिस अनेक रोगों के लिए की जाती है जो यहां सूचीबद्ध नही है|

एम्पीसिलीन (Ampicillin)

1. यह दवा बीटा-लैक्टम एंटीबायोटिक है| जिसकी सिफारिस युटीआइ, मेनिन्जैइटीस, गोनोरा, न्युमोनिया, ब्रोकाइटीस, कान, फेफड़े, त्वचा और श्वसन तंत्र में संक्रमण के उपचार के लिए की जाती है|

2. चिकत्सक अन्य कारणों और रोगों के लिए भी इस दवा को उपयोग में ला सकते है जो यहा सूचीबद्ध नही है|

यह भी पढ़ें- गले का दर्द के लक्षण, कारण, निदान और उपचार

नाईट्रोफुर्जोन (Nitrofurazone)

1. यह एक एंटीबायोटिक दवा है जो संक्रमित रोगों के लिए निर्धारित की गई है|

सफक्लोर (Cefaclor)

1. यह दवा सेफ्लोस्पोरिन एंटीबायोटिक है जो निमोमिया, कान, फेफड़े, त्वचा, गले और मूत्र पथ के संक्रमण जैसे वैक्टीरिया के कारण होने वाले कुछ संक्रमण के लिए निर्धारित है|

2. इस दवा का उपयोग अन्य कारणों और रोगों के लिए भी किया जा सकता है जो यह सूचीबद्ध नही है|

पोविडोन आयोडीन (Povidone Iodine)

1. यह एक एंटीसेप्टिक सयोंजन है| जो की छोटे घावों और संक्रमण के लिए निर्धारित की गई है|

2. यह वैक्टीरिया को भी मारती है व अन्य रोगों में भी उपयोग की जा सकती है जो यह सूचीबद्ध नही है|

यह भी पढ़ें- यूवुला की सूजन के लक्षण, कारण, जोखिम, निदान और उपचार

प्रिय पाठ्कों से अनुरोध है, की यदि वे उपरोक्त जानकारी से संतुष्ट है, तो अपनी प्रतिक्रिया के लिए “दैनिक जाग्रति” को Comment कर सकते है, आपकी प्रतिक्रिया का हमें इंतजार रहेगा, ये आपका अपना मंच है, लेख पसंद आने पर Share और Like जरुर करें|

1 thought on “फोड़ा या फुंसी- कारण, लक्षण व इलाज ! Treatment of Boil”

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *