निर्जलीकरण या पानी की कमी (Dehydration)

निर्जलीकरण या पानी की कमी (Dehydration) होना के लक्षण, उपचार

निर्जलीकरण या पानी की कमी तब होती है, जब आपके शरीर में उतना पानी नही होता जितने पानी की शरीर को आवश्यकता होती है| पर्याप्त पानी के बिना आपका शरीर ठीक से कार्य नही कर सकता है| आपके शरीर में कितना तरल पदार्थ कम है, उसके आधार पर आप हल्के, मध्यम और गंभीर निर्जलीकरण के शिकार हो सकते है| कोई भी निर्जलीकरण का शिकार हो सकता है, लेकिन यह स्थिति विशेष रूप से युवा बच्चों और बड़े वयस्कों के लिए खतरनाक है|

युवा बच्चों में निर्जलीकरण का सबसे आम कारण उल्टी और दस्त है, पुराने वयस्कों के पास स्वभाविक रूप से उनके शरीर में पानी की कम मात्रा का होना होता है| इसका मतलब यह है, की फेफड़ों और मूत्राशय को प्रभावित करने वाले संक्रमण जैसे पुरानी बीमारियाँ, बढ़े वयस्कों में निर्जलीकरण का कारण बन सकती है|

यदि आप गर्म मौषम के दौरान पर्याप्त पानी नही पीते है, तो किसी भी आयु वर्ग में शरीर में पानी की कमी हो सकती है, खासकर जब आप परिक्षम कर रहे होते है| आप आमतौर पर अधिक तरल पदार्थ पिने से हल्के से मध्यम निर्जलीकरण रिवर्स कर सकते है, लेकिन गंभीर निर्जलीकरण को तत्काल चिकित्सा की आवश्यकता होती है|

यह भी पढ़ें- बेहोशी होने के लक्षण, कारण, निवारण, निदान और उपचार

निर्जलीकरण के लक्षण

प्यास हमेशा पानी की शरीर की आवश्यकता के विश्वसनीय संकेत नही होते है, बहुत से लोग विशेष रूप से बढ़े वयस्कों, जब तक वे पहले से निर्जलित नही होते है, तब तक उनकों प्यास नही लगती है| यही कारण है, की गर्म मौषम के दौरान या जब आप बीमार हो जाते है| तब पानी का सेवन बढ़ाना आवश्यक होता है| शरीर में पानी कम होना उम्र के हिसाब से भिन्न हो सकता है, जैसे-

शिशु या युवा बच्चे-

1. शुष्क मुह या जीभ|

2. रोते वक्त कोई आसू नही आना|

3. 3 से 5 घंटे तक पेशाब का न आना|

4. गाल और आँखे धसे हुए|

5. खोपड़ी के उपर का नर्म स्थान अंदर धसा हुआ होना|

6. सुस्त्ता या चिडचिडापन|

वयस्कों के लक्षण-

1. ज्यादा प्यास का लगना|

2. पेशाब का कम आना|

3. पेशाब गहरे रंग का आना|

4. थकान लगना|

5. चक्कर आना और उलझन|

यह भी पढ़ें- रक्तस्रावी आघात (Hemorrhagic Stroke) के कारण, लक्षण, निदान और उपचार

कारण (Causes)

कभी कभी सरल कारणों से भी शरीर में पानी की कमी हो जाती है, जैसे आप पर्याप्त पानी नही पिटे क्यूंकि आप बीमार है, व्यस्त है, यात्रा पर है, लम्बी पैदल यात्रा पर है जिससे आपकी सुरक्षित जल तक पहुच नही है| अन्य कारणों में शामिल है, जैसे-

1. गंभीर उल्टी और तीव्र दस्त, का होना, जो अचानक और हिंसक रूप से आते है, इनसे शरीर के पानी का गंभीर नुकशान हो सकता है,

2. सामान्य तौर पर आपके जितना अधिक बुखार होगा, उतने अधिक निर्जलित हो सकते है, और यदि दस्त और उल्टी के साथ बुखार भी है, तो स्थिति और गंभीर हो जाती है|

3. यदि आप कठिन मेहनत कर रहे है, और शरीर से पसीना निकल रहा है, आप उसके बाद भी पानी की पर्याप्त मात्रा नही ले रहे है, तो यह शरीर में पानी की कमी का कारण बन सकता है| खासकर गर्म और आर्द्र जलवायु में|

4. पेशाब में वृद्धि, यह अज्ञात या मधुमेह के कारण हो सकती है, यह भी निर्जलन का कारण हो सकता है|

5. कुछ दवाएं जो रक्तचाप या मूत्रवर्धक होती है, जो अधिक पेशाब बनने का कारण होती है, वह भी निर्जलन का कारण बन सकती है|

जोखिम (Risk Factors)

कोई भी निर्जलित हो सकता है, लेकिन कुछ लोगों को अधिक जोखिम होता है|

शिशु और बच्चे उल्टी और दस्त की वजह से गंभीर निर्जलन का जोखिम बन सकते है, क्योंकि वे इस वजह से कमजोर पड़ जाते है| इन कारणों और बुखार की वजह से वह अपने तरल द्रव का अनुपात खो देते है| छोटे बच्चे अक्सर आपको नही बता सकते की वे प्यासे है, और न ही वे स्वय अपने पेय का प्रबंध कर सकते है|

जैसे जैसे आप व्यस्क होते जाते है, तो आपके शरीर का द्रव आरक्षित छोटा होता जाता है| तो पानी को इकठ्ठा करने की क्षमता कम हो जाती है| इसके साथ आपकी पानी पिने की क्षमता भी कम हो जाती है| यह समस्या मधुमेह मनोभ्रंश जैसी पुरानी बिमारियों से और कुछ दवाओं से जुड़ा हुआ है| पुराने वयस्कों में भी गतिशीलता समस्याएं हो सकती है, जो स्वय के लिए पानी प्राप्त करने की क्षमता को सिमित करती है|

पुरानी बीमारी वाले लोग अनियंत्रित या अनुपचारित मधुमेह होने से आपको निर्जलन का खतरा बढ़ जाता है| किडनी रोग भी आपके जोखिम को बढाता है, जैसे दवाएं जो पेशाब में वृद्धि करती है| यहाँ तक की एक ठण्ड या गले में खराश होने से आपको शरीर में पानी की कमी के लिए अधिक संवेदनशील होता है| क्योंकि आप बीमार होने पर खाने और पिने की इच्छा खो देते है|

जो लोग काम करते है, या व्यायाम करते है, खासकर जब गर्मी और आर्द्रता अधिक होती है, तो निर्जलन हो सकता है, यदि पानी की पर्याप्त मात्रा नही ली है तो|

यह भी पढ़ें- हाथीपाँव रोग के कारण, लक्षण, निदान और उपचार

जटिलताएँ (Complication)

निर्जलीकरण गंभीर जटिलताओं को जन्म दे सकता है, जिनमें शामिल है, जैसे-

गर्मी की चोट यदि आप पर्याप्त तरल पदार्थ नही पिते है, और मेहनत या व्यायाम कर रहें है, और बहुत पसीना बहा रहें है| तो यह आपके लिए घातक हो सकता है|

मूत्र और गुर्दा की समस्याएं निर्जलन के दीर्घकालीन या दोहराएँ जाने वाले रोगों में मूत्र पथ के संक्रमण, गुर्दा की पथरी और यहां तक की गुर्दे की विफलता हो सकती है|

निम्न रक्त की मात्रा और सदमा भी गंभीर और कभी कभी जीवन धमकाने वाली, निर्जलन की जटिलताओं में से एक हो सकता है|

निवारण (Prevention)

शरीर में पानी की कमी से बचने के लिए बहुत से तरल पदार्थों का उपयोग करें, और फल व सब्जी जैसे उच्च तरल पदार्थ खाएं| लोगो को अधिक तरल पदार्थ पिने की आवश्यकता है, यदि वह इन स्थितियों का सामना कर रहे है, तो जैसे,

उल्टी या दस्त- आपके बच्चा उल्टी कर रहा है, या दस्त लगे है, तो बीमारी के पहले लक्षण के साथ अतिरिक्त पानी या मौखिक पुनर्वायुकरणसमाधान देना शुरू करें| निर्जलन होने तक प्रतीक्षा न करें|

जोरदार अभ्यास- सामान्य तौर पर अभ्यास से पहले दिन का हाइड्रेट करना सबसे अच्छा है, स्पष्ट तौर पर पतला पेशाब का निर्माण भट अच्छा संकेत है| की आप अच्छी तरह से हाइड्रेट है, गतिविधि के दौरान, नियमित अन्तराल पर तरल पदार्थ की भरपाई करें|

गर्म या ठंडा मौषम- आपके शरीर के तापमान को कम करने, और पसीने से आप जो कुछ खोते है, उससे बदलने के लिए आपको गर्म या आर्द्रता के मौषम में अतिरिक्त पानी पीना होगा| खासकर उच्च स्थानों पर आपको इससे निपटने के लिए अतिरिक्त पानी पीना चाहिए|

बीमारी- बढ़े व्यस्क सबसे ज्यादा थोड़ी सी बीमारी के दौरान निर्जलन का शिकार हो जाते है| जैसे इन्फ्लुन्जा, ब्रोंकाइटीसया मूत्राशय में संक्रमण आदि| जब भी आप अच्छा महसूस कर रहें हो तो अतिरिक्त पानी पिने का प्रयास करें|

यह भी पढ़ें- डेंगू बुखार (अस्थि मंजा ज्वर) के लक्षण, उपचार, कारण और उपचार

निदान (Diagnosis)

आपका चिकित्सक अक्सर भौतिक लक्षण और लक्षणों के आधार पर निर्जलीकरण का निदान कर सकता है, यदि आप निर्जलित हो गयें है, तो आपके भी निम्न रक्तचाप के होने की संभावना है, सामान्य ह्रदय की दर से तेजी से ओर आपे शरीर का रक्त प्रवाह कम हो सकता है|

निदान की पुष्टि करने और निर्जलीकरण की डिग्री को इंगित करने के लिए आपके अन्य परिक्षण हो सकते है| जैसे

रक्त परिक्षण- रक्त के नमूनों का इस्तेमाल कई कारकों की जांच के लिए किया जा सकता है, जैसे की आपके इलेक्ट्रोलाईटस के स्तर, विशेष रूप से सोडियम और पोटासियम और यह जानना की आपकी किडनी कितना अच्छा कम कर रही है|

मूत्र विश्लेष्ण- आपके मूत्र पर की जाने वाली जाँच यह बता सकती है की क्या आप निर्जलित है, और किस डिग्री पर है, वे मूत्राशय के संक्रमण की भी जाँच कर सकते है|

इलाज (Treatment) 

शरीर में पानी की कमी का एकमात्र प्रभावी उपचार खो गया द्रव और इलेक्ट्रोलाइट्स को बदलना है| निर्जलन के उपचार के लिए सबसे अच्छा तरीका उम्र, निर्जलीकरण की गंभीरता और इसके कारण पर निर्भर करता है|

शिशुओं और बच्चों के लिए जो दस्त, उल्टी या बुखार से निर्जलित है, उन्हें मौखिक रीहाईड्रेसन समाधान जैसे पैडीयलट या हाइडराईट का उपयोग करें| इन समाधानों में द्रव और इलेक्ट्रोलाइट्स दोनों को भरने के लिए विशिष्ट अनुपात में पानी और नमक होते है|

एक चम्मच (5 मिलीलीटर) के साथ हर एक से पांच मिनट के साथ शुरू करें, और अन्तराल दर अन्तराल उसमे वृद्धि करते रहें, बहुत छोटे बच्चों के लिए सिरिंज का उपयोग करना आसान हो सकता है| बड़े बच्चो को पतला स्पोर्ट्स ड्रिंक दिया जा सकता है| जैसे गेटोरेड या पावरडे एक हिस्सा पानी और एक हिस्सा पानी का उपयोग करें|

दस्त, उल्टी या बुखार से हल्के से मध्यम निर्जलन वाले वयस्कों को अधिक पानी या अन्य तरल पदार्थ पिलाने से उनकी स्थिति में सुधार हो सकता है| पूर्ण शक्ति फलों के जूस और शीतल पेय से स्थिति बिगड़ सकती है|

यदि आप काम करते है, और गर्म या आर्द्र मौषम के दौरान बहार काम करते है| तो ठंडा पानी सबसे अच्छा टोनिक है, पेय युक्त इलेक्ट्रोलाइट्स और कार्बोहाइड्रेट भी उपयोगी हो सकता है|

बच्चे और व्यस्क जो गंभीर रूप से निर्जलित है| उनकों तुरंत आपातकालीन चिकित्सा प्रदान करवाएं, चिकित्सक द्वारा दिए जाने वाले साल्ट और तरल द्रव पदार्थ से आपकी स्थिति में जल्दी सुधार की संभावना रहती है|

चिकित्सक कुछ दवाओं का सुझाव दे सकते है, जो इस प्रकार है, आईकोडकटरीन (एडप्ट एक्स्ट्रांल) इसोइल एस (सोडियम क्लोराइड) इस प्रकार की अनेक दवाएं होती है|

नोट- कोई भी दवा चिकित्सक की सलाह के बाद ही प्रयोग करें, अन्यथा हानिकारक हो सकती है|

यह भी पढ़ें- मोटापा के कारण, लक्षण, निवारण, उपचार और निदान

प्रिय पाठ्कों से अनुरोध है, की यदि वे उपरोक्त जानकारी से संतुष्ट है, तो अपनी प्रतिक्रिया के लिए “दैनिक जाग्रति” को Comment कर सकते है, आपकी प्रतिक्रिया का हमें इंतजार रहेगा, ये आपका अपना मंच है, लेख पसंद आने पर Share और Like जरुर करें|

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *