डिप्लोमा ऑफ मेडिकल लेबोरेटरी टेक्नोलॉजी (DMLT)

डिप्लोमा ऑफ मेडिकल लेबोरेटरी टेक्नोलॉजी (DMLT) कोर्स प्रक्रिया, करियर और वेतन

डिप्लोमा ऑफ मेडिकल लेबोरेटरी टेक्नोलॉजी (DMLT) कोर्स 10+2 स्तर की शिक्षा के सफल समापन के बाद 2 साल का डिप्लोमा कोर्स होता है| डिप्लोमा ऑफ मेडिकल लेबोरेटरी टेक्नोलॉजी (DMLT) चिकित्सा पाठ्यक्रम में उन्नत व्यावसायिक शिक्षा शामिल है, जैसे की-

1. निवारण

2. निदान

3. नैदानिक ​​प्रयोगशाला परीक्षणों के माध्यम से रोगियों में बीमारियों का उपचार।

प्रकृति में, पाठ्यक्रम एमबीबीएस जैसे ठेठ चिकित्सा पाठ्यक्रमों के समानांतर चलता है|

अध्ययन के प्रमुख घटक जो डीएमएलटी पाठ्यक्रम का हिस्सा हैं

शरीर के मामले का विश्लेषण जैसे कि-

1. शरीर द्रव

2. ऊतक

यह भी पढ़ें- बीएससी न्यूक्लियर मेडिसिन टेक्नोलॉजी (BSc NMT) कोर्स प्रक्रिया, करियर और वेतन

3. रक्त

4. सूक्ष्मजीव स्क्रीनिंग

5. रासायनिक विश्लेषण

6. सेल गिनती प्रक्रियाओं का उपयोग रोगियों में कुछ बीमारियों का पता लगाने के लिए किया जाता है|

ऐसे पेशेवरों को आम तौर पर भर्ती किया जाता है, जैसे-

1. मेडिकल लैब तकनीशियनों

2. प्रौद्योगिकीविदों|

वे इसके लिए ज़िम्मेदार हैं, जैसे-

1. जानकारी हासिल करना

2. नमूना

3. परिक्षण

4. रिपोर्टिंग और उनकी चिकित्सा जांच दस्तावेज

5. चिकित्सा शोधकर्ताओं द्वारा पर्यवेक्षित शोध अध्ययन आयोजित करना

6. रिपोर्ट सटीकता बनाए रखना

7. जटिल परीक्षण आयोजित करना

8. निर्धारित शर्तों के तहत नियमित परीक्षण करना

9. नमूनों की तैयारी

10. स्वचालित नमूना-विश्लेषण मशीनों का संचालन

यह भी पढ़ें- फार्मेसी में डिप्लोमा (D.Pharma) कोर्स प्रवेश प्रक्रिया, योग्यता, करियर और वेतन

11. परीक्षण उपकरण की व्यवस्था और स्थापना

12. प्रयोगशाला उपकरण बनाए रखना

13. पर्यवेक्षण प्रयोगों

14. उपकरण और सुरक्षित स्थितियों को बनाए रखना

डीएमएलटी के ऐसे स्नातकोत्तर निम्नलिखित प्रक्रियाओं में सक्रिय रूप से शामिल हैं, जैसे-

1. रक्त बैंकिंग

2. नैदानिक ​​रसायन (शरीर के तरल पदार्थ का रासायनिक विश्लेषण)

3. हेमेटोलॉजी (रक्त से संबंधित)

4. इम्यूनोलॉजी (प्रतिरक्षा प्रणाली का अध्ययन)

5. माइक्रोबायोलॉजी (बैक्टीरिया और अन्य रोग-वाहक जीवों का अध्ययन)

6. साइटोटेक्नोलॉजी (मानव ऊतक का अध्ययन)

7. फ़स्त खोलना

8. मूत्र विश्लेषण

9. जमावट

10. परजीवी विज्ञान

11. रक्त नमूना मिलान

12. दवा दक्षता टेस्ट

13. सीरम विज्ञान

एमएलटी में डिग्री पाठ्यक्रम, जैसे-

1. बीएससी एम एल टी

2. बीएमएलटी

डिप्लोमा ऑफ मेडिकल लेबोरेटरी टेक्नोलॉजी (DMLT) के सफल डिप्लोमा धारक कर्तव्यों का पालन करते हैं, जैसे कि-

मानव शरीर तरल पदार्थ का विश्लेषण जैसे-

1. थूक

2. रक्त

3. मूत्र

4. दवा की गिनती

5. सेरेब्रोस्पाइनल तरल पदार्थ, आदि

6. बीमारियों के इलाज में संबंधित डॉक्टर की सहायता करना और उन्हें कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएं|

7. रोगी के शरीर में कुछ सूक्ष्मजीवों की उपस्थिति या अनुपस्थिति का पता लगाना|

यह भी पढ़ें- बैचलर ऑफ आयुर्वेद, मेडिसिन एंड सर्जरी (BAMS) कोर्स प्रवेश प्रक्रिया, स्कोप और वेतन

8. चिकित्सकों को नमूने के माध्यम से बीमारी का पता लगाने और इलाज करके बीमारी के मूल कारण को खोजने में मदद करना|

9. जटिल इलेक्ट्रॉनिक उपकरण चलाने के संचालन, संचालन और प्रबंधन|

10. ऑपरेटिंग कंप्यूटर और रिपोर्ट के दस्तावेज़ीकरण में उपयोग किए जाने वाले विभिन्न प्रकार के सूक्ष्मदर्शी|

घातक बीमारियों के लिए महत्वपूर्ण परीक्षण करना, जैसे-

1. एड्स / एचआईवी

2. मधुमेह

3. कैंसर, और अन्य|

भारत में पाठ्यक्रम के लिए चार्ज किया गया औसत शिक्षण शुल्क 2 साल की अवधि के लिए 30,000 से 5 लाख रुपये के बीच है|

भारत में अनुशासन के सफल पेशेवरों को दी जाने वाली औसत वार्षिक वेतन उम्मीदवार के अनुभव और कौशल के साथ बढ़कर 3 से 10 लाख रुपये के बीच है|

तो ये तो है, कोर्स की महत्वपूर्ण जानकारी, अब आइए बात करते है, डिप्लोमा ऑफ मेडिकल लेबोरेटरी टेक्नोलॉजी (DMLT) कोर्स प्रक्रिया, करियर और वेतन, आदि की|

डिप्लोमा ऑफ मेडिकल लेबोरेटरी टेक्नोलॉजी कोर्स विशेषताएं (DMLT Course Features)

पाठ्यक्रम की कुछ प्रमुख विशेषताएं नीचे सूचीबद्ध हैं, जैसे-

कोर्स स्तर डिप्लोमा
अवधि 2 साल
परीक्षा का प्रकार वार्षिक प्रणाली
पात्रता विज्ञान विषयों के साथ कुल मिलाकर 50% अंकों के साथ 10 + 2
प्रवेश प्रक्रिया प्रत्यक्ष प्रवेश / कुछ मामलों में  प्रवेश परीक्षा।
पाठ्यक्रम शुल्क 5,000 से 1 लाख रुपये
औसत प्रारंभिक वेतन 2 से 5 लाख रुपये
शीर्ष भर्ती संगठन ‘ रैनबैक्सी, एमवे, सन फार्मा इत्यादि।
शीर्ष भर्ती क्षेत्र ‘ नैदानिक प्रयोगशालाएं, जैव प्रौद्योगिकी प्रयोगशालाएं, अस्पतालों, क्लीनिक, स्वास्थ्य केंद्र, विश्वविद्यालय, अनुसंधान केंद्र, अंग बैंक, चिकित्सा उपकरण कंपनियां, फार्मास्युटिकल फर्म, और ऐसे|
शीर्ष नौकरी प्रोफाइल सीटी स्कैन तकनीशियन, एनेस्थेसिया तकनीशियन, दंत चिकित्सा यांत्रिकी [तकनीशियन], ऑपरेशन थियेटर तकनीशियन, एनेस्थेसिया टेक्नोलॉजिस्ट, सीटी स्कैन और एमआरआई तकनीशियन इत्यादि|

डिप्लोमा ऑफ मेडिकल लेबोरेटरी टेक्नोलॉजी के बारे में (About the DMLT)

पाठ्यक्रम एक संबद्ध स्वास्थ्य / पैरामेडिकल कोर्स है, जो नैदानिक ​​प्रयोगशाला परीक्षणों के माध्यम से रोगों के निदान, उपचार और रोकथाम से संबंधित है|

डॉक्टरों द्वारा लैब टेक्नोलॉजिस्टों की आवश्यकता होती है, ताकि वे बीमारियों के इलाज के परिणामों का विश्लेषण करने में मदद कर सकें| कार्यक्रम में पूर्ववर्ती विषयों जैसे कि-

1. जीव रसायन

2. विकृति विज्ञान

3. कीटाणु-विज्ञान

4. रक्त बैंकिंग|

पाठ्यक्रम में नामांकित छात्रों को प्रयोगशाला प्रबंधन नैतिकता में प्रशिक्षण प्रदान किया जाता है, जैसे-

1. व्यावहारिक सत्र

2. आंतरिक मूल्यांकन

यह भी पढ़ें- बीएससी मेडिकल लेबोरेटरी टेक्नोलॉजी (B.Sc MLT) कोर्स प्रवेश, करियर और वेतन

4. मौखिक परीक्षा

5. एक 6 महीने की अवधि के एक इंटर्नशिप प्रशिक्षण कार्यक्रम|

पाठ्यक्रम के हिस्से के रूप में, ऐसे छात्रों को सिखाया जाता है, जैसे-

1. नैदानिक ​​परीक्षण, प्रयोगशाला उपकरण, सूक्ष्म और स्वचालित उपकरण, और दूसरों को संभालें|

2. रक्त संक्रमण और मधुमेह की गिनती के लिए रक्त के नमूने से मेल खाते हैं|

3. शरीर में कोलेस्ट्रॉल के स्तर और रक्तचाप की जांच करें और जांचें|

4. ऐसी बीमारियों का कारण खोजें|

5. फाइल रिपोर्ट जो संबंधित डॉक्टर को पास की जाती हैं जो रोगी को दवा की सिफारिश करती है|

6. ऐसे परीक्षण आयोजित करें|

प्रयोगशाला उपकरण बनाए रखें, जैसे-

1. अपकेंद्रित्र

2. माइक्रोस्कोप

3. परखनली

4. सुरक्षित रूप से अपशिष्ट का निपटान करें

5. दूसरों के बीच सुरक्षात्मक कपड़े पहनने जैसे हर समय सुरक्षा, सावधानी और सावधानी बरतें

6. मरीजों के इलाज के लिए रिपोर्ट करें|

इच्छुक डिप्लोमा धारक अनुशासन में उन्नत अध्ययन करने के लिए जा सकते हैं, जैसे स्नातकोत्तर में, जैसे-

1. कीटाणु-विज्ञान

2. परजीवी विज्ञान

3. रासायनिक रसायन शास्त्र

4. इम्मुनोलोगि

5. सीरम विज्ञान

6. रुधिर

यह भी पढ़ें- जीएनएम कोर्स (GNM Course) प्रवेश प्रक्रिया, योग्यता, करियर और वेतन

7. जमावट, और अन्य ऐसे|

डिप्लोमा ऑफ मेडिकल लेबोरेटरी टेक्नोलॉजी किस्से चुनना चाहिए

पाठ्यक्रम के लिए आदर्श उम्मीदवार आमतौर पर वे पास होंगे, जैसे-

1. अनुशासन और चौकसता

2. अनुसंधान करने की क्षमता

3. गति, दक्षता और सटीकता के साथ कार्यों को करने की क्षमता

4. तनाव-प्रबंधन क्षमता

5. विश्लेषणात्मक निर्णय

6. तकनीकी / वैज्ञानिक डेटा की व्याख्या करने के लिए धैर्य

7. प्रयोगशाला उपकरण का ज्ञान

8. यांत्रिक योग्यता

9. बुनियादी कंप्यूटर कौशल|

डिप्लोमा ऑफ मेडिकल लेबोरेटरी टेक्नोलॉजी की पेशकश करने वाले शीर्ष संस्थान (Top Institutions offering DMLT)

नीचे सूचीबद्ध कुछ शीर्ष संस्थान देश में डिप्लोमा ऑफ मेडिकल लेबोरेटरी टेक्नोलॉजी (DMLT) में पाठ्यक्रम डिप्लोमा पेश करते हैं, जो इस प्रकार है-

1. जिवाजी विश्वविद्यालय ग्वालियर

2. मुंबई विश्वविद्यालय मुंबई

3. सरकारी थूथुकुडी मेडिकल कॉलेज थूथुकुडी

4. बेबी मेमोरियल कॉलेज ऑफ नर्सिंग कोझिकोड

5. वेस्टफोर्ट इंस्टीट्यूट ऑफ पैरामेडिकल साइंसेज थ्रिसुर

6. ईएमएस कॉलेज ऑफ पैरामेडिकल साइंसेज मलप्पुरम

7. क्रिश्चियन मेडिकल कॉलेज वेल्लोर

यह भी पढ़ें- बीएससी रेडियोग्राफी (B.Sc Radiography) कोर्स प्रक्रिया, योग्यता, करियर और वेतन

8. बैंगलोर मेडिकल कॉलेज और रिसर्च इंस्टिट्यूट बैंगलोर

9. किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी लखनऊ

10. नेताजी सुभाषचंद्र बोस सुभाषती मेडिकल कॉलेज मेरठ

डिप्लोमा ऑफ मेडिकल लेबोरेटरी टेक्नोलॉजी के लिए योग्यता (Eligibility for the DMLT)

पाठ्यक्रम के लिए आवेदन करने के योग्य होने के लिए नीचे दिए गए न्यूनतम मानदंड हैं, जो कोर्स करने में रुचि रखने वाले उम्मीदवारों को पूरा करने की आवश्यकता है|

1. एक मान्यता प्राप्त शैक्षणिक बोर्ड से 10 2 स्तर की शिक्षा की सफल योग्यता|

2. विज्ञान विषयों (भौतिकी, रसायन विज्ञान, जीवविज्ञान) 10+2 स्तर पर अध्ययन के मुख्य विषयों के रूप में|

3. 10+2 स्तर पर 45% (एससी / एसटी / ओबीसी उम्मीदवारों के लिए 40%) का न्यूनतम कुल स्कोर|

डिप्लोमा ऑफ मेडिकल लेबोरेटरी टेक्नोलॉजी प्रवेश प्रक्रिया (DMLT Admission Process)

पाठ्यक्रम की पेशकश करने वाले अधिकांश संस्थान प्रासंगिक प्रवेश परीक्षा में प्रदर्शन के आधार पर छात्रों को प्रवेश करते हैं, अक्सर व्यक्तिगत साक्षात्कार के दौर के बाद, जिसमें पाठ्यक्रम के लिए उनकी सामान्य योग्यता का परीक्षण किया जाता है| प्रवेश प्रक्रिया आम तौर पर कॉलेजों में भिन्न होती है|

कुछ संस्थान 10+2 स्तर पर उम्मीदवार के प्रदर्शन के आधार पर प्रत्यक्ष प्रवेश भी प्रदान करते हैं|

डिप्लोमा ऑफ मेडिकल लेबोरेटरी टेक्नोलॉजी कोर्स और पाठ्यक्रम विवरण (DMLT Course and Course Details)

कोर्स के पाठ्यक्रम का सालाना ब्रेक अप नीचे सारणीबद्ध है-

पहला साल   दूसरा साल 
प्रयोगशाला उपकरण और रसायन शास्त्र में मूल बातें

बेसिक हेमेटोलॉजी

रक्त बैंकिंग और प्रतिरक्षा हेमेटोलॉजी

नैदानिक पैथोलॉजी (बॉडी तरल पदार्थ) और पैरासिटोलॉजिकल

नैदानिक जैव रसायन

कीटाणु-विज्ञान

इम्मुनोलोगि

हिस्टोपैथोलॉजी और साइटोलॉजी

डिप्लोमा ऑफ मेडिकल लेबोरेटरी टेक्नोलॉजी कोर्स पाठ्यक्रम विवरण (DMLT Course Course Details)

प्रत्येक वर्ष के लिए अध्ययन के विषयों का उल्लेख नीचे दिया गया है-

पहला साल 

विषय  विवरण
बेसिक हेमेटोलॉजी रक्त और उसके कार्यों की संरचना

रक्त कोशिकाओं की उत्पत्ति, विकास, और आकारिकी

एनीमिया, ल्यूकेमिया, और हेमोरेजिक विकार की बुनियादी अवधारणाएं

रक्त बैंकिंग और प्रतिरक्षा हेमेटोलॉजी हेमोग्लोबिन के आकलन के तरीके

पीसीवी के निर्धारण के तरीके

रक्त समूह- समूहकरण और गठबंधन के तरीके

रक्त संक्रमण और खतरे

नैदानिक पैथोलॉजी (बॉडी तरल पदार्थ) और पैरासिटोलॉजिकल मरीजों की रिसेप्शन

माइक्रोस्कोप- प्रकार, पार्ट्स, सफाई, और देखभाल

मूत्र की परीक्षा

शारीरिक द्रव की परीक्षा

दूसरा साल 

विषय  विवरण
नैदानिक जैव रसायन एंटीजन और एंटीबॉडी की परिभाषा

नैदानिक एंजाइमोलॉजी

कार्बोहाइड्रेट के विकार

पौष्टिक विकार

जिगर कार्य परीक्षण

कीटाणु-विज्ञान प्रयोगशाला निदान

बायोसाफ्टी उपायों

मल की परीक्षा

गुणवत्ता नियंत्रण

इम्मुनोलोगि एंटीजन और एंटीबॉडी

एंटीजन के प्रकार

डिप्लोमा ऑफ मेडिकल लेबोरेटरी टेक्नोलॉजी करियर संभावनाएं (DMLT Career Prospects)

सामान्य रूप से, मेडिकल तकनीशियन पेशेवर होते हैं, जो पूरे काम करते हैं, जैसे-

1. एक्स-रे प्रयोगशालाएं

2. दांत की सफाई

3. आपात चिकित्सा

यह भी पढ़ें- एसबीआई पीओ परीक्षा (SBI PO Exam) योग्यता, आवेदन, पाठ्यक्रम, पैटर्न, परिणाम

4. सर्जरी से संबंधित मदद

5. फार्मेसी

6. पशु चिकित्सा से संबंधित सहायक|

मेडिकल टेक्नोलॉजिस्ट हेल्थकेयर पेशे का एक अभिन्न हिस्सा हैं, वे सही तरीके से व्यावहारिक और तकनीकी काम करते हैं, जैसे-

1. शारीरिक विकारों का निदान|

2. जैव रासायनिक उपकरण और प्रयोगशाला के प्रभावी कामकाज की सुविधा|

इस क्षेत्र में करियर की संभावना उम्मीदवार के अकादमिक और तकनीकी कौशल पर निर्भर करती है| प्रारंभ में, ऐसे पेशेवरों को आमतौर पर सर्टिफाइड मेडिकल लेबोरेटरी तकनीशियनों के रूप में किराए पर लिया जाता है, जैसे-

1. प्रयोगशालाएं

2. अनुसन्धान संस्थान

3. क्लीनिक

निजी स्वास्थ्य क्षेत्र में तेजी से वृद्धि के साथ, इसमें कई नौकरी के अवसर बढ़ रहे हैं, जैसे की-

1. निजी अस्पतालों

2. निजी अस्पताल

3. रक्त बैंक

4. पैथोलॉजी प्रयोगशालाएं

5. आण्विक निदान

यह भी पढ़ें- इंडियन बैंक पीओ (Indian Bank PO) परीक्षा योग्यता, आवेदन, पैटर्न, परिणाम

6. आण्विक जैव प्रौद्योगिकी

7. इन-विट्रो निषेचन प्रयोगशालाएं|

ऐसे पेशेवर राज्य सरकार के कानूनों की पुष्टि करते हुए अपने स्वयं के नैदानिक ​​प्रयोगशालाएं भी खोल सकते हैं|

डिप्लोमा ऑफ मेडिकल लेबोरेटरी टेक्नोलॉजी नौकरी विवरण और संभावित वेतन (DMLT Job Description and Potential Pay)

ऐसे पेशेवरों के लिए खुले कुछ लोकप्रिय व्यावसायिक मार्ग नीचे सूचीबद्ध हैं, जो प्रत्येक पोस्ट के लिए उनके संबंधित नौकरी विवरण और वेतन के साथ सूचीबद्ध हैं-

नौकरी की स्थिति  नौकरी विवरण औसत वार्षिक वेतन
प्रयोगशाला तकनीशियनों प्रयोगशाला तकनीशियन कुशल श्रमिक हैं जो जटिल प्रणालियों के साथ काम करते हैं, और रोगी के नमूने में कुछ सूक्ष्मजीवों की उपस्थिति या अनुपस्थिति का पता लगाने के लिए अत्यधिक तकनीकी या नैदानिक परीक्षण करते हैं| वे नमूने एकत्र करते हैं, अध्ययन करते हैं, और शरीर के तरल पदार्थ, दांत, रासायनिक यौगिकों, और अन्य जैविक नमूने पर परीक्षण करते हैं| 2 से 4 लाख रुपये
एमआरआई और एक्स-रे तकनीशियनों एमआरआई और एक्स-रे तकनीशियन रोगियों में एक्स-रे आयोजित करने के लिए एक्स-रे उपकरण का उपयोग करते हैं| तकनीशियन अस्पताल या मेडिकल सेंटर के रेडियोलॉजी विभाग में काम करते हैं| कुछ एक्स-रे तकनीशियन कम्प्यूटटेड टोमोग्राफी (सीटी) स्कैनिंग, मैग्नेटिक रेज़ोनेंस इमेजिंग (एमआरआई), और मैमोग्राफी जैसे संबंधित क्षेत्रों में विशेषज्ञ हो सकते हैं| 3 से 5 लाख रुपये
पैथोलॉजी तकनीशियनों पैथोलॉजी तकनीशियन जैविक नमूने का विश्लेषण करने में उपयोग किए जाने वाले परीक्षण, रसायन, प्रक्रियाओं और प्रयोगशाला मशीनरी से चिंतित हैं| ऐसे पेशेवर एक विशेष अनुशासन का विश्लेषण करने के लिए पैथोलॉजी टेक्नोलॉजी में विशेषज्ञ हैं, जैसे रक्त, कोशिकाएं, या किसी विशिष्ट अंग की पैथोलॉजी| 2 – 4 लाख रुपये

तो ये थी, डिप्लोमा ऑफ मेडिकल लेबोरेटरी टेक्नोलॉजी (DMLT) कोर्स प्रक्रिया, करियर और वेतन, इस तरह आप इस क्षेत्र में  अपना करियर बना सकते है|

प्रिय पाठ्कों से अनुरोध है, की यदि वे उपरोक्त जानकारी से संतुष्ट है, तो अपनी प्रतिक्रिया के लिए “दैनिक जाग्रति” को Comment कर सकते है, आपकी प्रतिक्रिया का हमें इंतजार रहेगा, यदि लेख से संबंधित कोई नई जानकारी आपके पास है, तो आपने Comment में जरुर लिखें, ये आपका अपना मंच है, लेख पसंद आने पर Share और Like जरुर करें|

शुभकामनाएं

6 thoughts on “डिप्लोमा ऑफ मेडिकल लेबोरेटरी टेक्नोलॉजी (DMLT) कोर्स प्रक्रिया, करियर और वेतन”

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *