झाई (Freckles)

झाई (Freckles) होने के कारण, प्रकार, निवारण, निदान और उपचार

झाई (Freckles) एक बिना उपयुक्ता का दाग है. यह गहरे पीले, भूरे रंग के परिपत्र दाग होते हैं, जो आम तौर पर एक सामान्य नाखून के सिर का आकार होते हैं| झाई (Freckles) दाग एक से अधिक होते हैं, और सूरज की रोशनी के दोहराए जाने के बाद सूरज उजागर त्वचा पर विकसित हो सकते हैं| ये लाल बाल और एक निष्पक्ष वर्ण वाले लोगों में विशेष रूप से आम हैं, वे 1 या 2 वर्ष की उम्र के रूप में युवा लोगों पर दिखाई दे सकते हैं|

अधिकांश झाई (Freckles) दाग रंग में एक समान होते हैं, अलग अलग लोगों पर, रंग में कुछ हद तक अलग अलग हो सकते हैं, वे लाल, पीले, तन, हल्के भूरे, भूरे रंग या काले रंग के हो सकते हैं| लेकिन वे मूल रूप से आसपास की त्वचा से थोड़ा गहरे होते है| सर्दियों के महीनों में सूरज के प्रदर्शन के बाद वे गहरे और अधिक स्पष्ट हो सकते हैं, और हल्के हो सकते है| झाई (Freckles) दाग मेलाएनिन नामक काले रंग के वर्णक की मात्रा में वृद्धि और मेलेनॉइट्स नामक वर्णक-उत्पादन कोशिकाओं की कुल संख्या में वृद्धि के कारण विमुक्त होते हैं|

झाई की वस्तुस्थिति

1. झाई सूरज उजागर त्वचा पर समतल छोटे तन या हल्के भूरे रंग के धब्बे हैं|

2. लाल सिर वाले, कम रंजित वाले व्यक्तियों के चेहरे पर अधिक सामान्य होते हैं|

3. आम दाग आमतौर पर यह स्वयं काफी हानिरहित हैं, और कभी भी त्वचा कैंसर में विकसित नहीं होते हैं|

4. सबसे अधिक लम्बाई पराबैंगनी प्रकाश के संपर्क से होती है, और आमतौर पर सर्दियों में फीका होती है|

5. असामान्य रूप से दिखाई देने वाले झाई (Freckles) घातक त्वचा कैंसर हो सकता है|

6. पेचकुल दिखने या लक्षण रंगीन या वर्णक दाग की जांच त्वचा विशेषज्ञ द्वारा की जानी चाहिए|

7. उपचार हल्के या अशिष्ट झाई या दाग का उपचार संभव है|

यह भी पढ़ें- अनचाहे बाल उगना कारण, निदान, उपचार और दृष्टिकोण

झाई के प्रकार 

एपेलिड्स- यह झाई दाग के लिए चिकित्सा शब्द है| यह शब्द 1 मिमी से 2 मिमी समतल दाग, जो तन, थोड़ा लाल, या हल्के भूरे रंग के होते हैं, और आमतौर पर धूप महीनों के दौरान दिखाई देते हैं| वे प्रकाश रंगों वाले लोगों पर अक्सर पाए जाते हैं, और कुछ परिवारों में, वे वंशानुगत (आनुवंशिक) विशेषता हैं| लाल बालों और हरी आंखों वाले लोग इस प्रकार के झाई (Freckles) दाग के लिए अधिक प्रवण हैं| धूप से बचने और सनस्क्रीन के नियमित उपयोग सहित सूरज संरक्षण, झाई दाग की उपस्थिति को दबाने में मदद करते हैं|

लैंटिगेंन्स- यह सनबर्न और सूरज क्षति की साइट पर सबसे अधिक प्रकार के बड़े रंग के दाग के लिए चिकित्सा शब्द है| लेन्टिगेंज़ अक्सर आम झालर की तुलना में अधिक गहरा होता है, और आम तौर पर सर्दियों में फीका नहीं होता है| इस तरह की जगह को लेंटिगो सिम्प्लेक्स या सौर लेंटिगो कहा जाता है|

मेलानोसाइट्स और मेलेनोसॉम्स (सेल्युलर स्ट्रक्चर्स जिसमें मेलेनिन वर्णक शामिल हैं) की संख्या सामान्य और संख्या में सामान्य है| यद्यपि कभी-कभी दिवालिएपन एक निश्चित दुर्लभ आनुवंशिक सिंड्रोम का हिस्सा होते हैं, अधिकांश भाग के लिए वे केवल पृथक और महत्वहीन दाग हैं|

लिवर दाग और उम्र के धब्बे क्या हैं?

लिवर दाग या उम्र के धब्बे हाथों के पीछे सौर लैक्टिगेंन्स के लिए सामान्य नाम हैं| शब्द लीवर दाग वास्तव में एक मिथ्या नाम है, क्योंकि ये स्थान यकृत की समस्याएं या यकृत रोग के कारण नहीं होते हैं| हालांकि समय के साथ दिये जाने वाले दिवालिएपन करते हैं, वे खुद बुढ़ापे की निशानी नहीं हैं, लेकिन सूरज के प्रदर्शन का संकेत है|

यह भी पढ़ें- उपदंश होने के लक्षण, कारण, निदान और उपचार

झाई व मोल्स

मोल्स छोटे, लगभग अनगिनत स्तनधारि हैं| यह एक भूरे रंग के काले समतल से थोड़े उच्चे टक्कर को संदर्भित करते है| कोशिकाओं का प्रकार जिसमें दबाना बनता है, तिल की वास्तविक प्रकृति में भेद होता है| जैसे, सौम्य मेलानोसाइट्स से बने एक तिल को एक मेलेनोसिटिक नेवस कहा जाता है| अक्सर, बुजुर्ग लोगों के भूरे रंग के, कुचले हुए घावों के उसी क्षत्रों में या आसपास के इलाकों में सेबोर्रिक केरेटोस कहा जाता है, जहां लेंटिगेंस बहुत अधिक हैं सेबोर्रिक केराटोस भी त्वचा की मधुमेह (घातक नहीं) वृद्धि हुई है|

कुछ रोगियों को इन वृद्धि बार्नाकल या चावल क्रिस्पि कहते हैं| यद्यपि वे अक्सर मध्यम भूरे रंग के होते हैं, वे कहीं भी हल्के तन से काले तक रंग के भिन्न हो सकते हैं| वे विभिन्न आकारों में भी होते हैं, यहां तक ​​कि एक इंच (या सेंटीमीटर) के एक अंश से लेकर एक इंच (2.5 सेमी) व्यास से लेकर, आमतौर पर, ये वृद्घि एक पेंसिल इरेज़र या थोड़ा बड़ा आकार के आकार के आसपास हैं, कुछ घाव एक समतल, भूरे रंग के दाग के रूप में शुरू होते हैं, एक लेंटिगो से अप्रभेद्य होते हैं|

तब वे धीरे-धीरे मोटा हो जाते हैं, मोम के फंसे होने पर सेबोर्रिक केरेटोस की उपस्थिति होती है| वे ऐसा दिखते हैं, कि उन्हें त्वचा पर चिपकाया गया है, या त्वचा पर गिराए गए पिघले हुए भूरे रंग के मोमबत्ती के मोम की तरह लग सकते है| सेबोर्रिक केराटोस झाई (freckles) के रूप में एक ही क्षेत्र में हो सकते है| सूरज के प्रदर्शन के क्षेत्र में सेबोर्रिक केराटोज़ अधिक सामान्य होते हैं, लेकिन ये सूर्य सुरक्षित क्षेत्रों में भी हो सकते हैं|

जब वे पहली बार दिखाई देते हैं, तो विकास आमतौर पर एक समय में शुरू होता है, जैसे कि छोटे मोटे बाम्प्स| अंततः, वे मोटा, वाइटटी सतह विकसित कर सकते हैं| सेबोर्रिक केराटोस, विशेष रूप से 40 साल की उम्र के बाद काफी आम हैं| लगभग सभी लोग अपने जीवनकाल में कम से कम कुछ श्वार शर्करा केराटोस विकसित कर सकते हैं| उन्हें कभी-कभी बुढ़ापे की बार्नेक्लिक्स कहा जाता है|

झाई होने के कारण

आनुवंशिक गड़बड़ी और सूरज एक्सपोज़र के संयोजन के परिणामस्वरूप विकसित होने को कारण माना गया है| सूरज और फ्लोरोसेंट कमाना लाइट दोनों, पराबैंगनी (यूवी) किरणों का उत्सर्जन करते हैं, जो त्वचा द्वारा अवशोषित होने पर त्वचा के मेलेनिन रंगद्रव्य के उत्पादन को बढ़ाते है|

गोरा या लाल बालों, हल्के रंग की आंखों और निष्पक्ष त्वचा वाले लोग विशेष रूप से यूवी किरणों के हानिकारक प्रभाव के लिए अतिसंवेदनशील होते हैं, और संभवत झाई दाग विकसित करने की संभावना को बढ़ते है। एक झुरके मूलत त्वचा में एक स्थान पर मेलेनिन की असामान्य रूप से भारी जमाव से ज्यादा कुछ नहीं है|

यह भी पढ़ें- स्तन ढीले होना के कारण, लक्षण, निदान, रोकथाम

झाई दाग वंशागत 

आनुवंशिकता (वंशागत) या अधिक सटीक रूप से त्वचा का रंग झाई (freckles) होने की संवेदनशीलता में एक बहुत ही महत्वपूर्ण कारक है| फ्रीक्ल्स की प्रवृत्ति को निष्पक्ष त्वचा वाले व्यक्तियों या गोरे या लाल बालों के साथ विरासत में मिला है| बहुत अंधेरे वर्णक व्यक्ति झाई विकसित करने की संभावना नहीं है|

जुड़वा भाई बहनों में अनुसंधान, समान जुड़वां और भाईचारे (गैर निवासी) जुड़वाओं के जोड़ों के जोड़े सहित, ने समान जुड़वाओं के प्रत्येक जोड़ी पर पाए गए झाई दाग की कुल संख्या में एक समान समानता पाई गई है| भाईचारे जुड़वाँ में इस तरह की समानता काफी कम थी| इन अध्ययनों से जोरदार सुझाव है, कि झाई की घटना आनुवांशिक कारकों से प्रभावित है| झुरके की गिनती में भिन्नता मुख्यत आनुवंशिकता के कारण होती है|

सूर्य प्रभाव (Sun Effect)

यह सच है कि झालर त्वचा पर लगभग कभी भी नहीं होते हैं, और यह अनिवार्य रूप से कोई भी स्वास्थ्य खतरा नहीं है| वे सभी बिल्कुल हानिरहित हैं, वे कैंसर नहीं हैं, और आमतौर पर कैंसर नहीं बनते हैं| एक दुर्लभ त्वचा की खोज जिसे एक्सीलरी फर्कलिंग (बगल में फ्लेक्ल्स) कहा जाता है| जिसे कभी-कभी न्यूरॉफिब्रोमैटिस नामक एक दुर्लभ विरासत रोग में देखा जाता है| ये मुखर उनकी उपस्थिति और वितरण दोनों में आम किस्मों से दिखने में काफी भिन्न हैं|

हचिंसन- यह झुरके एक विशेष प्रकार का त्वचा कैंसर है, जिसे एक लिन्टीगो मालिग्न मेलेनोमा कहा जाता है| यह एक असामान्य सतही त्वचा कैंसर है, जो आम तौर पर बड़े वयस्कों के चेहरे पर होता है| जिनके पास काफी सूर्य का अनुभव होता है| महीनों से सालों तक, इस स्थिति में, यदि उपचार न किया जाए, तो एक और आक्रामक घातक मेलेनोमा में विकसित हो सकता है| त्वचा की बायोप्सी नामक एक सरल ऑफ-ऑडिएंस टेस्ट में लिन्टिगो दुर्भावना का निदान करने में मदद मिल सकती है|

मेलेनोमा- त्वचा के कैंसर का यह बहुत ही खतरनाक रूप युवा लोगों के शरीर के कुछ हिस्सों में भी दिखाई दे सकता है| जो सूरज से उजागर होता हैं, और साथ ही संरक्षित हैं| हालांकि मेलेनोमा का सही कारण पूरी तरह से ज्ञात नहीं है, जबकि पराबैंगनी किरणों को एक भाग खेलने के लिए जाना जाता है| मेलेनोमा पहले सामान्य तिल (मेलेनोसिटिक नेवस) या पिग्मेंटेड दाग से पैदा हो सकता है, जो कई वर्षों या आजीवन मौजूद है|

मेलानोमास एक स्पष्ट पूर्ववर्ती तिल के बिना पूरी तरह से सामान्य त्वचा से उत्पन्न हो सकता है| सौम्य (गैर-कंक्रीट) झाई (freckles) के साथ तुलना में, मेलेनोमा बड़े, गहरे रंग के होते हैं, और अधिक अनियमित रंग और आकार विविधताएं होती हैं| ज्यादातर मेलेनोमा वास्तव में समतल होते हैं, और उतने ही नहीं उठाए जाते हैं, जितने लोग गलत तरीके से ग्रहण करते हैं|

यह भी पढ़ें- स्तनों में दूध (Milk) की कम आपूर्ति होना कारण, लक्षण और उपचार

झाई के लिए उपचार

झाई दाग का इलाज शायद ही कभी किया जाता है| झाई कई सुरक्षित लेकिन महंगी तरीकों को हल्का या कम करने में मदद करने के लिए उपलब्ध हैं| बार बार, सर्वोत्तम परिणामों के लिए कई या उपचार के संयोजन की आवश्यकता हो सकती है| हर किसी की त्वचा समान उपचार के साथ सुधार नहीं होगी, और झाई दाग अक्सर दोहराए गए यूवी एक्सपोजर के साथ पुनरावृत्ति कर सकते हैं|

ब्लीचिंग क्रीम- हाइड्रोक्विनोन और कोजिक एसिड वाले उत्पाद को बिना किसी पर्ची के खरीदे जा सकते हैं| हाइड्रोक्विनोन की उच्च सांद्रता (2% से अधिक) को एक नुस्खा की आवश्यकता होती है| इन उत्पादों को महीनों के महीनों में लगातार लागू किया जा सकता है, अगर उन्हें फ्लेल्स को हल्का करने में मदद मिल सकती है| धूप से बचने और लुप्त होती क्रीम सूरज से बचने और सूरज संरक्षण के साथ संयोजन में सबसे प्रभावी हैं|

रेटिनोइड- कभी कभी अन्य ब्लीचिंग क्रीम, ट्रेटीनोइन्स (विटामिन ए एसिड, रेटिन ए), टेजरोटिन (टेज़ोरैक) और एडेपलीन (डिफेरिन) के संयोजन के रूप में भी कई महीनों की अवधि में लगातार लागू होने पर हल्का हल्का हो सकता है|

क्रायोसोर्जरी- चिकित्सक द्वारा तरल नाइट्रोजन के साथ एक प्रकाश फ्रीज कुछ प्रकार के झाई के इलाज के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है| चिकित्सा के इस रूप पर सभी दाग प्रतिक्रिया नहीं करते हैं|

लेजर उपचार- कई प्रकार के पराबैंगनीकिरण हल्के होते हैं, और आसानी से प्रभावी रूप से और प्रभावी रूप से छिद्रों की कमी को कम कर सकते हैं| क्रोनोसरीजरी की तरह, यह एक उच्च सफलता दर के साथ एक सरल और सुरक्षित प्रक्रिया है, और जलन या त्वचा विकृति का कम जोखिम है|

तीव्र स्पंदित- हल्का उपचार एक और तरीका है, हल्का और निकालने के लिए दाग, यह एक सच्ची लेजर तकनीक नहीं है बल्कि एक गहन प्रकाश स्रोत है|

रासायनिक पिल्स- भी झाई में अनियमित सुधार कर सकते है|

यह भी पढ़ें- स्तन वृद्धि होना, चरण, हार्मोन, परिवर्तन और देखभाल

झाई से रोकथाम 

चूंकि हम अपने स्वयं के आनुवंशिक घटकों को बदल नहीं सकते हैं, इसलिए हमारी मुख्य रोकथाम के उपाय सूर्य से बचाव और सूरज संरक्षण के लिए है|

1. एसपीएफ़ (सूर्य संरक्षण कारक) के साथ सनस्क्रीन का उपयोग|

2. चौड़ी छड़ी टोपी का उपयोग|

3. सूरज सुरक्षात्मक कपड़ों का उपयोग (शर्ट, लंबी आस्तीन, लंबी पैंट)|

4. 10 बजे से 4 बजे तक ककी सूर्य की रोशनी से बचाव|

5. छाया की तलाश करना और घर के अंदर रहना|

झाई की रोकथाम झुरके को हटाने से अधिक प्रभावी है, झाई के उपचार अधिक कठिन और अक्सर संतोषजनक नहीं होते हैं| जानलेवा जनजातीय प्रवृत्तियों वाले लोगों को बचपन में सूरज संरक्षण शुरू करना चाहिए| ज्यादातर सूर्य और यूवी त्वचा क्षति अक्सर होता है, जबकि बच्चों की उम्र 18 वर्ष से कम होती है|

स्पष्ट रूप से चमड़ी वाले लोग जो कि अधिक तीव्र और सनबर्न से ग्रस्त होते हैं, आम तौर पर त्वचा के कैंसर विकसित करने के लिए जोखिम में अधिक होता है| चिड़चिड़ापन संवेदनशील त्वचा का एक चेतावनी संकेत हो सकता है, जो सनबर्न और संभावित त्वचा के कैंसर के लिए अत्यधिक संवेदनशील होता है|

यह भी पढ़ें- नपुसंकता के लक्षण, कारण, निदान, उपचार, दृष्टिकोण

प्रिय पाठ्कों से अनुरोध है, की यदि वे उपरोक्त जानकारी से संतुष्ट है, तो अपनी प्रतिक्रिया के लिए “दैनिक जाग्रति” को Comment कर सकते है, आपकी प्रतिक्रिया का हमें इंतजार रहेगा, ये आपका अपना मंच है, लेख पसंद आने पर Share और Like जरुर करें|

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *