क्षय या सूखा रोग (Marasmus)

क्षय या सूखा रोग (Marasmus) के कारण, लक्षण और उपचार

क्षय या सूखा रोग (Marasmus) एक गंभीर कुपोषण का रोग है| यह किसी भी व्यक्ति को हो सकता है| लेकिन यह आमतौर पर बच्चों में ज्यादा होता है| और इसका ज्यादा प्रभाव विकासिल देशों में ज्यादा है| क्षय या सूखा रोग (Marasmus) इलाज हो सकता है|

क्षय या सूखा रोग (Marasmus) शरीर में प्रोटीन और कैलोरी की कमी से होता है, इस महत्वपूर्ण तत्व की वजह से शरीर की उर्जा खतरनाक तरीके से कम हो जाती है| जिससे शरीर की महत्वपूर्ण क्रियाएँ बंद हो जाती है|

5 वर्ष से कम आयु के लगभग 20 मिलियन बच्चे किसी न किसी रूप से कुपोषण के शिकार है|

यूनिसेफ के अनुसार 5 वर्ष से कम आयु के 2 करोड़ बच्चों में उनके जीवन के कुछ समय तक कुपोषण जैसे मरीजों की तरह गर्भावस्था होती है| इसके परिणाम स्वरूप 5 लाख से 2 मिलयन बच्चे मर जाते है|

क्षय या सूखा रोग (Marasmus) हमेशा पोषक तत्वों की कमी का प्रत्यक्ष परिणाम नही होता है, यह गलत पोषक तत्वों या संक्रमण के कारण पोषक तत्वों को अवशोषित या संसाधित करने में असमर्थता के कारण भी हो सकता है|

यह भी पढ़ें- टीबी या क्षय रोग के कारण, लक्षण, निदान और उपचार

क्षय या सूखा रोग के कारण

एक अध्ययन के अनुसार इस रोग के मुख्य कारण इस प्रकार है, जैसे-

1. अनुचित खाना

2. संक्रमण जैसे की सिफलिस या तपेदिक

3. जन्म जात रोग की कमजोरी जैसे की जन्म जात ह्रदय रोग

4. बीमारी को बढ़ाने वाले कारक जैसे प्रदुषण और गंदगी

5. लोहा, जस्ता, आयोडीन और विटामिन ए की कमी

क्षय या सूखा रोग (Marasmus) को बर्बादी के रूप में जाना जाता है, यह अक्सर प्रभावित व्यक्ति के शरीर की उपस्थिति से ही पहचाना जा सकता है| जो स्केलेतली पतली पड़ जाती है| शरीर में वसा और मस्पेशियों के उतकों की हानी और शरीर सूखने की स्थिति की और जाता है| जिसमें केवल त्वचा और हड्डियाँ ही दिखाई देती है|

क्षय या सूखा रोग के लक्षण

क्षय रोग का मुख्य लक्षण वजन का कम होना, इस रोग से प्रभावित बच्चों ने त्वचा के निचे त्वचा की परत को खो दिया है, सुखी त्वचा और भंगुर शरीर होता है, इसके लक्षण इस प्रकार हो सकते है, जैसे-

1. पुरानी दस्त और चक्कर आना

2. श्वांस प्रणाली में संक्रमण और बार बार बुखार

3. बौधिक अक्षमता और धसी हुई आँखे

4. अवरुद्ध विकास और पतला चेहरा

5. पसली और कन्दे त्वचा के माध्यम दे दिखाई देना

6. उपरी बाँहों, जन्घो, नितंबों पर से त्वचा का ढीला होना

7. चिडचिडाप और लगातार निर्लजीकरण

गंभीर रूप से पीड़ित बच्चे पुराने लग सकते है, उनके शरीर में कुछ भी उर्जा या उत्साह दिखाई नही देता है|

यह भी पढ़ें- त्वचाशोथ रोग कारण, लक्षण और उपचार

क्षय या सूखा रोग के लिए जोखिम कारक

यह विकासशील देशो में ज्यादा बढ़ रहा है, जो की बाल समूह के लिए लिए एक जोखिम कारक है|गरीबी के अकाल या उच्च डॉ वाले क्षेत्रों में बाल शोषण वाले बच्चों के उच्च प्रतिशत है, नर्सिग माताओं कुपोषण के कारण पर्याप्त स्तनपान का उत्पादन करने में असमर्थ हो सकती है| यह उनके बच्चों को प्रभावित करता है|

वायरल वैक्टीरिया और परजीवी संक्रमण बच्चों को बहुत कम पोषक तत्वों में लेने का कारण बन सकता है| उच्च रोग दर और अपर्याप्त चिकित्सा देखभाल के क्षेत्र में अन्य कारक भी हो सकते है| जो खाने के लिए पर्याप्त भोजन वाले लोगो की संभावना कम करते है|

क्षय या सूखा रोग का निदान

एक चिकित्सक अक्सर भौतिक चिकित्सा के माध्यम से इस रोग का प्रारम्भिक निदान कर सकता है, उंचाई और वजन यह निर्धारित करने में मदद कर सकते है| की क्या एक बच्चे में यह रोग होता है, जब उन मापों को मापने में बहुत कम होता है| जो किसी विशेष आयु के स्वस्थ बच्चे पास हो तो यह रोग का कारण हो सकता है|

एक कुपोषित बच्चे में गति की कमी भी इस रोग के निदान की पुष्टि करने में मदद कर सकती है| इस हालत वाले बच्चे में उर्जा की कमी होती है|

रक्त परीक्षणों को उपयोग करने के लिए सुखा रोग का निदान करना मुश्किल है, इसका कारण यह है, की इस रोग के वे बच्चे भी संक्रमित जो रक्त परिक्षण के परिणाम को प्रभावित कर सकते है|

यह भी पढ़ें- आधासीसी होने के कारण, लक्षण, निवारण, निदान और उपचार

क्षय या सूखा रोग इलाज

रोग के प्रारम्भिक उपचार में अक्सर उबले हुए पानी के साथ मिलाकर सूखे पक्का हुआ दूध पाउडर शामिल होता है| बाद के मिश्रण में कोई एक वनस्पति तेल जैसे तील, केसीइन और चीनी भी शामिल हो सकते है| कैसीइन दूध प्रोटीन है, तेल मिश्रण की उर्जा सामग्री और उर्जा बढ़ता है|

एक बार बच्चा जब ठीक हो जाता है, तो उसके पोषण संबंधित आवश्यकताओं को पूरा करने वाला एक अधिक संतुलित आहार होना चाहिए|

यदि डीरहाइड की वजह से निर्जलीकरण की समस्या है, तो पुनर्जलिकरण भी प्राथमिकता होना चाहिए| एक बच्चे को नसों में नसों की आवश्यकता नही पड़ सकती मौखिक जलयोजन पर्याप्त हो सकता है|

क्षय या सूखा रोग के साथ बच्चों में संक्रमण आम होता है| इसलिए एंटीबायोटिक दवाओं या अन्य दवाओं के साथ उपचार मानक है| संक्रमण का इलाज करना और किसी अन्य स्वास्थ्य समस्या से उन्हें वसूली का सबसे अच्छा मौका देने में मदद मिल सकती है|

उपरोक्त विवरण से आप समझ गये होंगे की क्षय या सूखा रोग एक भयंकर रोग है, जो आपके बच्चे को भंगुर की तरह बना सकता है, तो आप उसके उपचार के लिए उपरोक्त विधि अपना सकते है, और एक चिकत्सक की सलाह लेना न भूले|

यह भी पढ़ें- शिशुओं या बच्चों का मूत्र बंद होना- कारण, लक्षण और उपचार

प्रिय पाठ्कों से अनुरोध है, की यदि वे उपरोक्त जानकारी से संतुष्ट है, तो अपनी प्रतिक्रिया के लिए “दैनिक जाग्रति” को Comment कर सकते है, आपकी प्रतिक्रिया का हमें इंतजार रहेगा, ये आपका अपना मंच है, लेख पसंद आने पर Share और Like जरुर करें|

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *