कुष्ठ रोग- लक्षण, कारण, इलाज

कुष्ठ रोग- लक्षण, कारण, इलाज ! Treatment of leprosy

कुष्ठ रोग (Leprosy) को भारत में कोढ़ भी कहते है| कुष्ठ रोग (Leprosy) एक प्रकार के रोगाणु या जीवाणु से होता है| यह जीर्ण रोग जो मैकोबैक्टीअरम लेप्रेई (Mycobacterium Leprae) नामक जीवाणु (वैक्टीरिया) के कारण होता है| यह ज्यादातर मानव त्वचा, उपरी श्वसन पथ की श्लेस्मिका, प्रिधिए तंत्रिकाओ, आखों और शरीर के कुछ अन्य भागों की क्षति का कारण भी बनता है| यह रोग प्राचीन काल से है यह अक्सर भयानक और नकारात्मक कड़वाहट से घिरा हुआ है| क्योंकी कुष्ठ रोगी (Leprosy) से लोग ऐसा व्यवहार करते है जैसे उसको समाज ने त्याग दिया हो| पहले ये डर भी था की यह संक्रमण रोग है लेकिन यह रोग संक्रमण नही बल्कि रोगाणु से होता है|

यह भी पढ़ें- रूसी के कारण, लक्षण और उपचार 

हम इसे दुसरे रोगी से तभी ले सकते है जब हम उसके साथ गहरे सम्पर्क में होते है| कुष्ठ रोग (Leprosy) से सबसे ज्यादा प्रभावित भारत अफ्रीका और दक्षिणी अमरीका में ये रोग व्यापक है| यह रोग वयस्कों की तुलना में बच्चों को होने की सम्भावना ज्यादा रहती है| आज विश्व स्वास्थ्य सन्गठन के अनुसार 180000 लोग कुष्ट रोग से प्रभावित है जो ज्यादातर अफ्रीका और भारत में है|

कुष्ठ रोग के प्रकार 

यह सामान्यत तीन प्रकार का होता है, जैसे- 

तंत्रिका कुष्ट रोग

तंत्रिका कुष्ठ रोग से मनुष्य के शरीर के प्रभावित अंगों की सवेदंशीलता समाप्त हो जाती है| चाहे प्रभावित हिस्से को काट भी देगे तो रोगी को कुछ भी पता नही चलता है| यानि की उसको दर्द महसूस नही होता|

ग्रन्थि कुष्ठ रोग 

ग्रन्थि कुष्ठ रोग से शरीर मेंविभिन्न रंग के  चकते व धब्बे पड़ जाते है| और शरीर में गाठे उभर आती है|

यह भी पढ़ें- दाद – कारण, लक्षण, उपचार

मिश्रित कुष्ठ रोग

मिश्रित कुष्ठ रोग में रोगी के प्रभावित अंगों की समाप्त सवेदंशीलता के साथ साथ दाग धब्बे पड़ जाते है और शरीर के प्रभावित क्षेत्र में गाठे निकल आती है|

कुष्ठ रोग के लक्षण

1. शरीर में चकते, धब्बे और चकते और धबो के क्षेत्र में असवेदंशीलता होना|

2. प्रभावित क्षेत्र में गाठों का उभरना|

3. प्रभावित क्षेत्र से मवाद व द्रव का बहना|

4. घाव का ठीक ना होना और लगातार खून का निकलना|

5. धीरे धीरे अंगों और त्वचा का गलना और नष्ट होना|

कुष्ठ रोग के कारण

1. शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली का किन्ही कारणों से कमजोर होना|

2. पर्याप्त मात्र में पौष्टिक भोजन का ना मिलना|

3. लम्बे समय तक दूषित भोजन और दूषित पैय का प्रयोग करना|

यह भी पढ़ें- घमौरियाँ के कारण, लक्षण और इलाज

4. शरीर में किन्ही कारणों से खून का खराब हो जाना|

5. अधिक मिर्च मसालों और तले हुए पदार्थो का खाने में प्रयोग करना|

6. अधिक नशीली चीजो का प्रयोग करना भी एक कारण हो सकता है|

7. अत्यधिक दवाओं का प्रयोग करना बिना चिकत्सक की सलाह के|

कुष्ठ रोग का इलाज

यहां कुछ दवाओं का विवरण है जिनकी कुष्ठ रोग के इलाज के लिए सिफारिस की जाती है, जैसे- 

डैपसोन (Dapsone)

1. यह दवा एक संक्रमक विरोधी है जो वैक्टीरिया से लडती है|

2. इस दवा के सिफारिस इस रोग के उपचार के लिए की जाती है|

3. जो सूचीबद्ध नही है उन उदेश्यों के लिए भी इस दवा को प्रयोग किया जाता है|

यह भी पढ़ें- लाल बुखार होने के लक्षण, कारण, निदान और उपचार

4. बिना चिकित्सक की सलाह से प्रयोग करने से यह दवा नुक्सान भी कर सकती है|

रिफाम्पिन (Rifampin)

1. इस दवा का उपयोग आप की नाक और गले में कुछ जीवाणुओं को कम करने के लिए किया जा सकता है| जो मेनिन्जाइस्टिस या अन्य संक्रमणों का कारण हो सकता है|

2. यह दवा एक सक्रिय मेनिन्जाइस्टिक संक्रामण का इलाज नही करेगा|

3. इस दवा को उपयोग तपेदिक (टीबी) का इलाज या उसे रोकने के लिए भी किया जाता है|

4. इस दवा का उपयोग चिकत्सक द्वारा अन्य उदेश्यों के लिए भी किया जा सकता है|

क्लोफेज़िमिन (Clofazimine)

1. इस दवा का उपयोग कुष्ठ रोग का इलाज करने के लिए सिफारिस की जाती है|

2. इस दवा को उपयोग अन्य रोग के लिए भी किया जा सकता है जो यहां सूचीबद्ध नही है|

यह भी पढ़ें- इन्फ्लूएंजा या फ्लू होने के लक्षण, कारण, निदान और उपचार

लम्प्रिने (Lamprene)

1. इस दवा का उपयोग कुष्ठ (Leprosy) के इलाज के लिए सिफारिस की जाती है|

2. यह दवा कुष्ठ रोग के भडकाव को रोकने के लिए है|

3. यह दवा अन्य रोग के लिए उपयोग में लाई जा सकती है जो यहां सूचीबद्ध नही है|

रिमाक्टाने (Rimactane)

1. इस दवा का उपयोग इस रोग में अन्य रोगों के लिए करने की सिफारिस की जाती है जैसे तपेदिक (टीबी)

2. जिनके नाक या गले में मैनिनिईटीस बैक्टीरिया होता है उसके इलाज के लिए इस दवा की सिफारिस की जाती है|

3. यह दवा अन्य रोगों के लिए भी प्रयोग में लाई जा सकती है जो यह सूचीबद्ध नही है|

नोट- कोई भी दाव रोगी को चिकित्सक की सलाह में लेनी चाहिए नही तो हानिकारक हो सकती है|

यह भी पढ़ें- प्रासविक बुखार के लक्षण, कारण, निदान और उपचार

प्रिय पाठ्कों से अनुरोध है, की यदि वे उपरोक्त जानकारी से संतुष्ट है, तो अपनी प्रतिक्रिया के लिए “दैनिक जाग्रति” को Comment कर सकते है, आपकी प्रतिक्रिया का हमें इंतजार रहेगा, ये आपका अपना मंच है, लेख पसंद आने पर Share और Like जरुर करें|

11 thoughts on “कुष्ठ रोग- लक्षण, कारण, इलाज ! Treatment of leprosy”

    1. Hi Shivnath,
      में आपको सुझाव दूंगा की आप जल्दी से जल्दी अपने जिला चिकित्सा अधिकारी से मिले इस रोग का सरकार की तरफ से भी इलाज संभव है

      1. मुजे कुष्ठरोग है ओसे डॉक्टर ने कहा है मै ऐक साल से दवा लेत हु लेकिन कुच बदलाव नही है मौ क्या करू

    1. सर मुझे दोनों पैर के घुटने के उपर सुन्न और दाग हो गया इसका ईजाल में समाज के डर गुप्त रूप से कराना चाहते हैं कृपया मार्ग दर्शन करे सर

  1. sir main leprocy marij hu 5month se… actually mera B.I negative hai but baiapcy se pata chala ki muje leprocy hai… meri ma ko bhi leprocy tha ab muje hua hai … agar main leprocy medicine 15days gap rakh ke khau to muje koi hani ho sakti hai kya

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *